विद्युत अध्याय12 1ण् बहुविकल्पीय प्रश्न चित्रा 12.1 में दशार्ए अनुसार तीन विद्युत परिपथों में कोइर् सेल, प्रतिरोधक, वुंफजी तथा ऐमीटर भ्िान्न प्रकार से व्यवस्िथत हैं। ऐमीटर द्वारा रिकाडर् की गयी धाराः ;पद्ध 2ण् ;पपपद्ध ;ंद्ध ;पद्ध में अिाकतम होगी ;इद्ध ;पपद्ध में अिाकतम होगी ;बद्ध ;पपपद्ध में अिाकतम होगी ;कद्ध सभी प्रकरणों में समान होगी निम्न परिपथों ;चित्रा 12.2द्ध में 12 ट बैटरी से जुड़े प्रतिरोधक अथवा प्रतिरोधकों केसंयोजन में उत्पन्न ऊष्मा होगीः चित्रा 12ण्1 चित्रा 12ण्2 ;ंद्ध सभी प्रकरणों में समान ;इद्ध प्रकरण ;पद्ध में निम्नतम ;बद्ध प्रकरण ;पपद्ध में अिाकतम ;कद्ध प्रकरण ;पपपद्ध मंे अिाकतम 3ण् किसी दिए गए धातु के तार की वैद्युत प्रतिरोधकता निभर्र करती है तार ;ंद्ध की लंबाइर् पर ;इद्ध की मोटाइर् पर ;बद्ध की आकृति पर ;कद्ध के पदाथर् की प्रकृति पर 4ण् किसी विद्युत बल्ब के पिफलामेंट द्वारा 1 । धरा ली जाती है। पिफलामेंट की अनुप्रस्थ काट से 16 सेवंफड में प्रवाहित इलेक्ट्राॅनों की संख्या होगी लगभग ;ंद्ध 1020 ;इद्ध 1016 ;बद्ध 1018 ;कद्ध 1023 5ण् उस परिपथ ;चित्रा 12.3द्ध को पहचानिए जिसमें वैद्युत अवयव उचित प्रकार से संयोजित हैंः चित्रा 12ण्3 ;ंद्ध ;पद्ध ;इद्ध ;पपद्ध ;बद्ध ;पपपद्ध ;कद्ध ;पअद्ध 6ण् पाँच प्रतिरोधकों, जिनमें प्रत्येक का प्रतिरोध 1ध्5 Ω है, का उपयोग करके कितना अिाकतम प्रतिरोध बनाया जा सकता है? ;ंद्ध 1ध्5 Ω ;इद्ध 10 Ω ;बद्ध 5 Ω ;कद्ध 1 Ω 7ण् पाँच प्रतिरोधकों, जिनमें प्रत्येक का प्रतिरोध 1ध्5 Ω निम्नतम प्रतिरोध बनाया जा सकता है? ;ंद्ध 1ध्5 Ω ;इद्ध 1ध्25 Ω ;बद्ध 1ध्10 Ω ;कद्ध 25 Ω है, का उपयोग करके कितना 8ण् अिाकतम विभव प्राप्त करने के लिए सेलों के श्रेणी संयोजन ;चित्रा 12.4द्ध को उचित रूप मंे निरूपित करने वाला संयोजन कौन सा है? ;ंद्ध ;पद्ध ;इद्ध ;पपद्ध ;बद्ध;पपपद्ध ;कद्ध;पअद्ध चित्रा 12ण्4 9ण् निम्नलिख्िात में से कौन वोल्टता को निरूपित करता है? किया गया कायर् ;ंद्ध विद्यतुधारा × समय ;इद्ध किया गया कायर् आवेश किया गया कायर् × समय ;बद्ध विद्यतुधारा ;कद्ध किया गया कायर् आवेश समय 10ण् लंबाइर् स तथा एक समान अनुप्रस्थ काट क्षेत्रापफल । के किसी बेलनाकार चालक का प्रतिरोध त् है। समान पदाथर् के किसी अन्य चालक, जिसकी लंबाइर् 2स तथा प्रतिरोध त् है, की अनुप्रस्थ काट का क्षेत्रापफल क्या है? ;ंद्ध ।ध्2 ;इद्ध 3।ध्2 ;बद्ध 2। ;कद्ध 3। 11ण् कोइर् विद्याथीर् किसी प्रयोग को करने के पश्चात् क्रमशः त्ए त्12 तथा त्प्रतिरोध के निक्रोम तार के तीन नमूनों के ट.प् ग्रापफ3 आलेख्िात करता है ;चित्रा 12.5द्ध। निम्नलिख्िात में कौन सत्य है? ;ंद्ध त् त्र त् त्र त्;इद्ध त्1 झ त्2 झ त्3 ;बद्ध त् झ त् झ त्;कद्ध त् झ त् झ त्1 23 3 21 2 31 12ण् यदि किसी प्रतिरोधक से प्रवाहित धारा में 100ः वृि कर दीजाए ;यह मानिए कि ताप अपरिवतिर्त रहता हैद्ध तो क्षयित ऊजार् में कितनी वृि होगी? ;ंद्ध100: ;इद्ध200: ;बद्ध300: ;कद्ध400: 13ण् प्रतिरोधकता में कब परिवतर्न नहीं होता? ;ंद्ध पदाथर् परिवतिर्त होने पर ;इद्ध ताप परिवतिर्त होने पर ;बद्ध प्रतिरोधक की आकृति में परिवतर्न होने पर ;कद्ध पदाथर् तथा ताप दोनों में परिवतर्न होने पर 14ण् किसी विद्युत परिपथ में विद्युत ड्डोत के साथ तीन तापदीप्त बल्ब ।ए ठए ब् जिनके अनुमतांक क्रमशः 40 ॅए 60 ॅ तथा 100 ॅ हैं, पाश्वर्क्रम में संयोजित हैं। इनकी चमक के संबंध में कौन - सा प्रकथन सत्य है? ;ंद्ध सभी बल्बों की चमक समान होगी ;इद्ध बल्ब । की चमक अिाकतम होगी ;बद्ध बल्ब ठ की चमक बल्ब । की तुलना में अिाक होगी ;कद्ध बल्ब ब् की चमक बल्ब ठ की तुलना में कम होगी 15ण् किसी विद्युत परिपथ में दो प्रतिरोधक जिनके प्रतिरोध क्रमशः 2 Ω तथा 4 Ω हैं, 6 ट बैटरी से श्रेणीक्रम में संयोजित हैं। 4 Ω प्रतिरोधक द्वारा 5 े में कितनी ऊष्मा क्षय होगी? ;ंद्ध 5 श्र ;इद्ध 10 श्र ;बद्ध 20 श्र ;कद्ध 30 श्र 16ण् कोइर् विद्युत केतली 220 ट पर प्रचालित होने पर 1 ाॅ विद्युत शक्ित उपभुक्त करती है।इसके लिए किस अनुमतांक के फ्रयूश तार का उपयोग किया जाना चाहिए? ;ंद्ध 1 । ;इद्ध 2 । ;बद्ध 4 । ;कद्ध 5 । 17ण् 2 Ω तथा 4 Ω प्रतिरोध के दो प्रतिरोधकों को किसी बैटरी से संयोजित करने पर यदि ये प्रतिरोधकः ;ंद्ध पाश्वर्क्रम में संयोजित हों तो इनसे समान धारा प्रवाहित होगी ;इद्ध श्रेणीक्रम में संयोजित हों तो इनसे समान धारा प्रवाहित होगी ;बद्ध श्रेणीक्रम में संयोजित हों तो इनके सिरों पर समान विभवांतर होगा ;कद्ध पाश्वर्क्रम में संयोजित हों तो इनके सिरों पर विभ्िान्न विभवांतर होंगे 18ण् विद्युत शक्ित के मात्राक को इस प्रकार भी व्यक्त किया जा सकता हैः ;ंद्ध वोल्ट ऐम्िपयर ;इद्ध किलोवाट घंटा ;बद्ध वाट सेवंफड ;कद्ध जूल सेवंफड लघुउत्तरीय प्रश्न 19ण् ओम - नियम का अध्ययन करने के लिए किसी छात्रा ने नीचे चित्रा में दशार्ए अनुसार विद्युत परिपथ खींचा। उसके श्िाक्षक ने कहा कि इस परिपथ आरेख में वुफछ संशोधनों की आवश्यकता है। इस परिपथ आरेख का अध्ययन करके इसे संशोधन सहित पुनः खींचिए। चित्रा 12ण्6 20ण् 2 Ω के तीन प्रतिरोधक ।ए ठए तथा ब् नीचे चित्रा में दशार्ए अनुसार संयोजित हैं। इनमेंप्रत्येक ऊजार् क्षय करता है तथा बिना पिघले 18 ॅ की अिाकतम शक्ित सहन कर सकता है। तीनों प्रतिरोधकों से प्रवाहित हो सकने वाली अिाकतम धारा ज्ञात कीजिए। चित्रा 12ण्7 21ण् ऐमीटर का प्रतिरोध निम्न होना चाहिए अथवा उच्च? उत्तर की पुष्िट कीजिए। 22ण् किसी ऐसे विद्युत परिपथ का आरेख खींचिए जिसमें एक सेल, एक वुंफजी, एक ऐमीटर तथा 4 Ω के दो प्रतिरोधकों के पाश्वर् संयोजन के साथ श्रेणीक्रम में एक 2 Ω का प्रतिरोधक संयोजित हो और पाश्वर् संयोजन के सिरों के बीच एक वोल्टमीटर संयोजित हों। क्या 2 Ω प्रतिरोधक के सिरों के बीच विभवांतर 4Ω के दो प्रतिरोधकों के पाश्वर् संयोजनके सिरों पर विभवांतर के समान होगा? उत्तर की पुष्िट कीजिए। 23ण् फ्रयूश तार विद्युत सािात्रों का बचाव किस प्रकार करता है? 24ण् वैद्युत प्रतिरोधकता किसे कहते हैं? किसी श्रेणी विद्युत परिपथ में, जिसमें धातु के तार से बना प्रतिरोधक संयोजित है, ऐमीटर का पाठ्यांक 5 । है। तार की लंबाइर् दोगुनी करने पर ऐमीटर का पाठ्यांक घटकर आधा रह जाता है। क्यों? 25ण् विद्युत ऊजार् का व्यापारिक मात्राक क्या है? इसे जूल में निरूपित कीजिए। 26ण् किसी श्रेणी परिपथ में 10 ट बैटरी से जब 5 Ω के चालक के साथ किसी एक विद्युत लैंप को संयोजित करते हैं तो परिपथ में 1 ऐम्िपयर धरा प्रवाहित होती है। विद्युत लैम्प का प्रतिरोध परिकलित कीजिए। अब यदि इस श्रेणी संयोजन के पाश्वर् में 10 Ω का प्रतिरोधक संयोजित कर दें, तो 5 Ω चालक से प्रवाहित धारा तथा लैंप के सिरों के बीच विभवांतर में क्या परिवतर्न ;यदि कोइर् होता हैद्ध होगा? कारण लिख्िाए। 27ण् घरेलू परिपथों में तारों की पाश्वर् व्यवस्था का उपयोग क्यों किया जाता है? 28ण् तीन सवर्सम बल्ब ठ1ए ठ2 तथा ठ3 चित्रा 12.8 में दशार्ए अनुसार संयोजित हैं। जब तीनों बल्ब चमकते हैं, तो ऐमीटर । का पाठ्यांक 3 । होता है। ;पद्ध यदि बल्ब ठ1 फ्रयूश हो जाए, तो अन्य दो बल्बों की चमक पर क्या प्रभाव पड़ेगा? ;पपद्ध यदि बल्ब ठफ्रयूश हो जाए तो ।ए ।ए ।तथा । के पाठ्यांकों पर क्या प्रभाव2 123 पड़ेगा? चित्रा 12ण्8 ;पपपद्ध जब तीनों बल्ब एक साथ चमकते हैं, तो परिपथ में कितनी शक्ित क्षय होती है? दीघर्उत्तरीय प्रश्न 29ण् तीन तापदीप्त लैंप, जिनमें प्रत्येक 100ॅय 220ट का है, किसी 220ट आपूतिर् के विद्युतपरिपथ में श्रेणीक्रम में संयोजित हैं। किसी अन्य परिपथ में समान विद्युत ड्डोत से यही तीनों लैंप पाश्वर्क्रम में संयोजित हैं। ;ंद्ध क्या दोनों परिपथों में बल्ब समान तीव्रता से चमवेंफगे? अपने उत्तर की पुष्िट कीजिए। ;इद्ध अब, मान लीजिए दोनों परिपथों का एक - एक बल्ब फ्रयूश हो जाता है, तो क्या प्रत्येक परिपथ में बाकी बचे बल्ब लगातार चमकते रहेंगे। कारण लिख्िाए। 30ण् ओम - नियम लिख्िाए। इसका प्रायोगिक सत्यापन किस प्रकार किया जा सकता है? क्या यह सभी अवस्थाओं में लागू होता है? अपनी टिप्पणी लिख्िाए। 31ण् किसी पदाथर् की वैद्युत प्रतिरोधकता से क्या तात्पयर् है? इसका क्या मात्राक है? किसी चालक तार के प्रतिरोध को प्रभावित करने वाले कारकों का अध्ययन करने के लिए किसी प्रयोग का वणर्न कीजिए। 32ण् किसी प्रयोग की सहायता से आप यह निष्कषर् किस प्रकार निकालेंगे कि बैटरी से श्रेणीक्रम में संयोजित तीन प्रतिरोधकों के परिपथ के प्रत्येक भाग से समान धारा प्रवाहित होती है? 33ण् आप यह निष्कषर् किस प्रकार निकालेंगे कि किसी बैटरी से पाश्वर् क्रम में संयोजित तीन प्रतिरोधकों में प्रत्येक के सिरों पर समान विभवांतर ;वोल्टताद्ध होता है? 34ण् जूल का तापीय प्रभाव क्या है? इसका प्रायोगिक निदशर्न किस प्रकार किया जा सकता है? दैनिक जीवन में इसके चार अनुप्रयोग लिख्िाए। 35ण् चित्रा 12ण्9 में दिए गए विद्युत परिपथ में निम्नलिख्िात के मान ज्ञात कीजिएः ;ंद्ध संयोजन में 8 Ω के दो प्रतिरोधकों का प्रभावी प्रतिरोध ;इद्ध 4 Ω प्रतिरोधक से प्रवाहित धारा ;बद्ध 4 Ω प्रतिरोधक के सिरों के बीच विभवांतर ;कद्ध 4 Ω प्रतिरोधक में शक्ित - क्षय ;मद्ध ।1 तथा ।के पाठ्यांकों मंे अंतर ;यदि कोइर् हैद्ध।2

RELOAD if chapter isn't visible.