प×चमः पाठः प्रस्तुत पाठ शुकसप्ततिः नामक प्रसि( कथाग्रन्थ से सम्पादित कर लिया गया है। इसमें अपने दो छोटे - छोटे पुत्रों के साथ जंगल के रास्ते से पिता के घर जा रही बुिमती नामक नारी के बुिकौशल को दिखाया गया है जो सामने आए हुए शेर को डरा कर भगा देती है। इस कथाग्रन्थ में नीतिनिपुण शुक और सारिका की कहानियों के द्वारा अप्रत्यक्ष रूप से सद्वृिा का विकास कराया गया है। अस्ित देउलाख्यो ग्रामः। तत्रा राज¯सहः नाम राजपुत्राः वसति स्म। एकदा केनापि आवश्यककायेर्ण तस्य भायार् बुिमती पुत्राद्वयोपेता पितुगृर्हं प्रति चलिता। मागेर् गहनकानने सा एवंफ व्याघ्रं ददशर्। सा व्याघ्रमागच्छन्तं दृष्ट्वा धष्ट्यार्त् पुत्रौ चपेटया प्रहृत्य जगाद - फ्कथमेवैफकशो व्याघ्रभक्षणाय कलहं वुफरुथः? अयमेकस्तावद्विभज्य इत्युक्त्वा धविता तूण± व्याघ्रमारी भयघड्ढरा। व्याघ्रो{पि सहसा नष्टः गलब(शृगालकः।। एवं प्रकारेण बुिमती व्याघ्रजाद् भयात् पुनरपि मुक्ता{भवत्। अत एव उच्यते - बुिबर्लवती तन्िव सवर्कायेर्षु सवर्दा।। भायार् - - पत्नी पुत्राद्वयोपेता - पुत्राद्वयेन सहिता - दोनों पुत्रों के साथ उपेता - युक्ता - युक्त कानने - वने - जंगल में ददशर् - अपश्यत् - देखा धष्ट्यार्त् - ध्ृष्टभावात् - ढिठाइर् से चपेटया - करप्रहारेण - थप्पड़ से प्रहृत्य - चपेटिकां दत्वा - थप्पड़ मारकर जगाद - उक्तवती - कहा कलहम् - विवादम् - झगड़ा विभज्य - विभक्तं कृत्वा - अलग - अलग करके ;बाँटकरद्ध लक्ष्यते - अन्िवष्यते - देखा जाएगा, ढूँढ़ा जाएगा व्याघ्रमारी - व्याघ्रं मारयति ;हन्ितद्ध - बाघ को मारने वाली इति नष्टः - मृतः, पलायितः - भाग गया भामिनी - भामिनी, रूपवती स्त्राी - रूपवती स्त्राी जम्बुकः - शृगालः - सियार गूढ़प्रदेशम् - गुप्तप्रदेशम् - गुप्त प्रदेश में गृहीतकरजीवितः - हस्ते प्राणाÂीत्वा - हथेली पर प्राण लेकर आवेदितम् - विज्ञापितम् - बताया प्रत्यक्षम् - समक्षम् - सामने सात्मपुत्रौ - सा आत्मनः पुत्रौ - वह अपने दोनों पुत्रों को एवैफकशः - एकम् एवंफ कृत्वा - एक एक करके अत्तुम् - भक्षयितुम् - खाने के लिए कलहायमानौ - कलहं वुफवर्न्तौ - झगड़ा करते हुए ;दोद्ध को प्रहरन्ती - प्रहारं वुफवर्न्ती - मारती हुइर् इर्र्र्क्षते - पश्यति - देखती है वेला - समयः - शतर् आक्ष्िापन्ती - आक्षेपं वुफवर्न्ती - आक्षेप करती हुइर्, झिड़कती हुइर्, भत्सर्ना करती हुइर् तजर्यन्ती - तजर्नं वुफवर्न्ती - ध्मकाती हुइर्, डाँटती हुइर् विश्वास्य - समाश्वस्य - विश्वास दिलाकर तूणर्म् - शीघ्रम् - जल्दी, शीघ्र भयघड्ढरा - भयं करोति इति - भयोत्पादिका गलब( - शृगालकः - गले ब( शृगालः - गले में बंध्े हुए शृगाल यस्य सः वाला अन्ितमस्य श्लोकस्य अन्वयः - रे रे ध्ूतर्! त्वया मह्यं पुरा व्याघ्रत्रायं दत्तम्। विश्वास्य ;अपिद्ध अद्य एवफम् आनीय कथं यासि इति अध्ुना वद। इति उक्त्वा भयटरा व्याघ्रमारी तूण± धविता। गलब( शृगालकः व्याघ्रः अपि सहसा नष्टः। हे तन्िव! सवर्दा सवर्कायेर्षु बुिबर्लवती। 1.अधोलिख्िातानां प्रश्नानाम् उत्तराण्िा संस्कृतभाषया लिखत - ;कद्ध बुिमती केन उपेता पितृगृर्हं प्रति चलिता? ;खद्ध व्याघ्रः ¯क विचायर् पलायितः? ;गद्धलोके महतो भयात् कः मुच्यते? ;घद्ध जम्बुकः ¯क वदन् व्याघ्रस्य उपहासं करोति? ;घद्ध बुिमती शृगालं किम् उक्तवती? 2.स्थूलपदमाधृत्य प्रश्ननिमार्णं वुफरुत - ;कद्धतत्रा राज¯सहो नाम राजपुत्राः वसति स्म। ;खद्ध बुिमती चपेटया पुत्रौ प्रहृतवती। ;गद्ध व्याघ्रं दृष्ट्वा ध्ूतर्ः शृगालः अवदत्। ;घद्ध त्वं मानुषात् विभेष्िा। ;घद्ध पुरा त्वया मह्यं व्याघ्रत्रायं दत्तम्। 3.उदाहरणमनुसृत्य कतर्रि प्रथमा विभक्तेः ियाया×च ‘क्तवतु’ प्रत्ययस्य प्रयोगं कृत्वा वाच्यपरिवतर्नं वुफरुत - यथा - तया अहं हन्तुम् आरब्ध्ः - सा मां हन्तुम् आरब्धवती। ;कद्धमया पुस्तवंफ पठितम्। - ;खद्ध रामेण भोजनं कृतम्। - ;गद्धसीतया लेखः लिख्िातः। - ;चद्धअश्वेन तृणं भुक्तम्। - ;घद्ध त्वया चित्रां दृष्टम्। - 4.अधेलिख्िातानि वाक्यानि घटनाक्रमेण संयोजयत - ;कद्धव्याघ्रः व्याघ्रमारी इयमिति मत्वा पलायितः। ;खद्ध प्रत्युत्पÂमतिः सा शृगालं आक्ष्िापन्ती उवाच। ;गद्धजम्बुककृतोत्साहः व्याघ्रः पुनः काननम् आगच्छत्। ;घद्ध मागेर् सा एवंफ व्याघ्रं अपश्यत्। ;घद्ध व्याघ्रं दृष्ट्वा सा पुत्रौ ताडयन्ती उवाच - अध्ुना एकमेव व्याघ्रं विभज्य भुज्यत। ;चद्धबुिमती पुत्राद्वयेन उपेता पितुगृर्हं प्रति चलिता। ;छद्ध‘त्वं व्याघ्रत्रायं आनयितुं’ प्रतिज्ञाय एकमेव आनीतवान्। ;जद्धगलब( शृगालकः व्याघ्रः पुनः पलायितः। 5.स¯न्ध्/सन्िध्विच्छेदं वा वुफरुत - ..................$ .................;कद्ध पितुगर्ृहम् - ..................$ .................;खद्ध एवैफकः - ;गद्ध .................- अन्यः $ अपि ;घद्ध .................- इति $ उक्त्वा ;घद्ध .................- यत्रा $ आस्ते 6. ;कद्ध अधोलिख्िातानां पदानाम् अथर्ः कोष्ठकात् चित्वा लिखत - ;कद्धददशर् - ;दश्िार्तवान्, दृष्टवान्द्ध ;खद्ध जगाद - ;अकथयत्, अगच्छत्द्ध ;गद्धययौ - ;याचितवान्, गतवान्द्ध ;घद्ध अत्तुम् - ;खादितुम्, आविष्वफतुर्म्द्ध ;घद्ध मुच्यते - ;मुक्तो भवति, मग्नो भवतिद्ध ;चद्धइर्क्षते - ;पश्यति, इच्छतिद्ध ;खद्ध पाठात् चित्वा पयार्यपदं लिखत - ;कद्धवनम् - ................;खद्ध शृगालः - ................;गद्धशीघ्रम् - ................;घद्ध पत्नी - ................;घद्ध गच्छसि - ................बुिबर्लवती सदा 7.प्रकृतिप्रत्ययविभागं वुफरुत - ;कद्ध चलितः - ................;खद्ध नष्टः - ................;गद्ध आवेदितः - ................;घद्ध दृष्टः - ................;घद्ध गतः - ................;चद्ध हतः - ................;छद्ध पठितः - ................;जद्ध लब्ध्ः - ................परियोजनाकायर्म् बुिमत्याः स्थाने आत्मानं परिकल्प्य तद्भावनां स्वभाषया लिखत। भाष्िाकविस्तारः ददशर् - दृश् धतु, लिट् लकार, प्रथम पुरुष, एकवचन विभेष्िा ‘भी’ धतु, लट् लकार, मध्यम पुरुष, एकवचन। व्याघ्रमारी - व्याघ्रं मारयति इति। प्रहरन्ती - प्र $ हृ धतु, शतृ प्रत्यय, स्त्राीलिघõ। गम्यताम् - गम् धतु, कमर्वाच्य, लोट् लकार, प्रथमपुरुष, एकवचन। ययौ - ‘या’ धतु, लिट् लकार, प्रथमपुरुष, एकवचन। यासि - गच्छसि। समास गलब( शृगालकः - गले ब(ः शृगालः यस्य सः। प्रत्युत्पÂमतिः - प्रत्युत्पन्ना मतिः यस्य सः। जम्बुकवृफतोत्साहात् - जम्बुकेन कृतः उत्साहः - जम्बुककृतोत्साहः तस्मात्। पुत्राद्वयोपेता - पुत्राद्वयेन उपेता। भयावुफलचित्तः - भयेन आवुफलः चित्तम् यस्य सः। गृहीतकरजीवितः - गृहीतं करे जीवितं येन सः। भयîड्ढ.रा - भयं करोति या इति। ग्रन्थ - परिचय - शुकसप्ततिः के लेखक और काल के विषय में यद्यपि भ्रान्ित बनी हुइर् है, तथापि इसका काल 1000 इर्. से 1400 इर्. के मध्य माना जाता है। हेमचन्द्र ने ;1088 - 1172द्ध में शुकसप्ततिः का उल्लेख किया है। चैदहवीं शताब्दी में पफारसी भाषा में ‘तूतिनामह’ नाम से अनूदित हुआ था। शुकसप्ततिः का ढाँचा अत्यन्त सरल और मनोरंजक है। हरिदत्त नामक सेठ का मदनविनोद नामक एक पुत्रा था। वह विषयासक्त और वुफमागर्गामी था। सेठ को दुःखी देखकर उसके मित्रा त्रिाविक्रम नामक ब्राह्मण ने अपने घर से नीतिनिपुण शुक और सारिका लेकर उसके घर जाकर कहा - इस सपत्नीक शुक का तुम पुत्रा की भाँति पालन करो। इसका संरक्षण करने से तुम्हारा दुख दूर होगा। हरिदत्त ने मदनविनोद को वह तोता दे दिया। तोते की कहानियों ने मदनविनोद का हृदय परिवतर्न कर दिया और वह अपने व्यवसाय में लग गया। व्यापार प्रसंग में जब वह देशान्तर गया तब शुक अपनी मनोरंजक कहानियों से उसकी पत्नी का तब तक विनोद करता रहा जब तक उसका पति वापस नहीं आ गया। संक्षेप में शुकसप्ततिः अत्यध्िक मनोरंजक कथाओं का संग्रह है। हन् ;मारनाद्ध धतोः रूपम्। एकवचनम् लट्लकारः एकवचनम् द्विवचनम् बहुवचनम् प्रथमपुरुषः हन्ित हतः घ्नन्ित मध्यमपुरुषः हन्िस हथः हथ उत्तमपुरुषः हन्िम हन्वः हन्मः लृट्लकारः एकवचनम् द्विवचनम् बहुवचनम् प्रथमपुरुषः हनिष्यति हनिष्यतः हनिष्यन्ित मध्यमपुरुषः हनिष्यसि हनिष्यथः हनिष्यथ उत्तमपुरुषः हनिष्यामि हनिष्यावः हनिष्यामः प्रथमपुरुषः अहन् मध्यमपुरुषः अहः उत्तमपुरुषः अहनम् एकवचनम् प्रथमपुरुषः हन्तु मध्यमपुरुषः जहि उत्तमपुरुषः हनानि एकवचनम् प्रथमपुरुषः हन्यात् मध्यमपुरुषः हन्याः उत्तमपुरुषः हन्याम् लघ्लकारः द्विवचनम् बहुवचनम् अहताम् अहनन् अहतम् अहत अहन्व अहन्म लोट्लकारः द्विवचनम् बहुवचनम् हताम् घ्नन्तु हतम् हत हनाव हनाम विध्िलिघ्लकारः द्विवचनम् बहुवचनम् हन्याताम् हन्युः हन्यातम् हन्यात हन्याव हन्याम

RELOAD if chapter isn't visible.