प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप.प्द्ध 1ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सी इकाइर् विलयन की सांद्रता का वाष्प दाब से संबंध् बताने के लिए उपयोगी है? ;पद्ध मोल - अंश ;पपद्ध पाट्र्स पर ;प्रतिद्ध मिलियन ;पपपद्ध द्रव्यमान प्रतिशत ;पअद्ध मोललता 2ण् कक्ष ताप पर शवर्फरा को जल में घोलने पर विलयन छूने से ठंडा लगता है? निम्नलिख्िात में से किस स्िथति में शवर्फरा की विलीनता सवार्ध्िक तेजी से होगी? ;पद्ध ठंडे जल में शवर्फरा के वि्रफस्टल ;पपद्ध गरम जल में शवर्फरा के वि्रफस्टल ;पपपद्ध ठंडे जल में शवर्फरा का पाउडर ;पअद्ध गरम जल में शवर्फरा का पाउडर 3ण् साम्यावस्था पर वाष्पशील द्रव विलायक में ठोस विलेय के घुलने की दर ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध वि्रफस्टलीकरण की दर से कम होती है। ;पपद्ध वि्रफस्टलीकरण की दर से अध्िक होती है। ;पपपद्ध वि्रफस्टलीकरण की दर के बराबर होती है। ;पअद्ध शून्य होती है। 4ण् एक बीकर में पदाथर् ष्।ष् का विलयन रखा है। इसमें ष्।ष् की थोड़ी सी मात्रा मिलाने से पदाथर् अवक्षेपित हो जाता है। यह विलयन है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध संतृप्त ;पपद्ध अतिसंतृप्त ;पपपद्ध असंतृप्त ;पअद्ध सांद्र 5ण् द्रव विलायक की निश्िचत मात्रा में घुल सकने वाली ठोस विलेय की अध्िकतम मात्रा निभर्र नहीं करती ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्धताप पर ;पपद्ध विलेय की प्रवृफति पर ;पपपद्ध दाब पर ;पअद्ध विलायक की प्रवृफति पर 6ण् उफँचाइर् पर रहने वाले व्यक्ितयों के उफतकों एवं रक्त में आॅक्सीजन की कम सांद्रता का कारण ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ होता है। ;पद्ध कम ताप ;पपद्ध कम वायुमंडलीय दाब ;पपपद्ध उच्च वायुमंडलीय दाब ;पअद्ध कम ताप एवं उच्च वायुमंडलीय दाब दोनों 7ण् हाइड्रोजन आबंध्न का बनना, टूटना और मजबूती को दृष्िटगत रखते हुए अनुमान लगाइए कि निम्नलिख्िात मिश्रणांे में से कौन - सा राउल्ट के नियम से ध्नात्मक विचलन दशार्एगा? ;पद्ध मेथेनाॅल और ऐसीटोन ;पपद्ध क्लोरोपफाॅमर् और ऐसीटोन ;पपपद्ध नाइटिªक अम्ल और जल ;पअद्धप़्ाफीनाॅल और ऐनिलीन 8ण् अणुसंख्य गुणध्मर् ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ पर निभर्र करते हैं। ;पद्ध विलयन में घुले विलेय कणों की प्रवृफति ;पपद्ध विलयन में विलेय कणों की संख्या ;पपपद्ध विलयन में घुले विलेय कणों के भौतिक गुणों ;पअद्ध विलायक के कणों की प्रवृफति 9ण् निम्नलिख्िात में से किस जलीय विलयन का क्वथनांक उच्चतम होना चाहिए? ;पद्ध 1ण्0 ड छंव्भ् ;पपद्ध 1ण्0 ड छंैव्24 ;पपपद्ध 1ण्0 ड छभ्छव्43 ;पअद्ध 1ण्0 ड ज्ञछव्3 10ण् क्वथनांक उन्नयन स्िथरांक की इकाइर् है - ;पद्ध ज्ञ ाह उवसदृ1 अथवा ज्ञ ;मोललताद्धदृ1 ;पपद्ध उवसाह ज्ञ दृ1 अथवा ज्ञदृ1;मोललताद्ध ;पपपद्ध ाह उवसदृ1 ज्ञ दृ1 अथवा ज्ञदृ1;मोललताद्धदृ1 ;पअद्ध ज्ञ उवस ाह दृ1 अथवा ज्ञ ;मोललताद्ध 11ण् 0ण्01 ड ग्लूकोस विलयन की तुलना में 0ण्01 ड डहब्सविलयन के हिमांक में 2 अवनमन ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ होगा। ;पद्ध समान ;पपद्ध लगभग दुगुना ;पपपद्ध लगभग तीन गुना ;पअद्ध लगभग छः गुना 12ण् अचार बनाने के लिए कच्चे आम को नमक के सांद्र विलयन में रखने पर यह सिवुफड़ जाता है क्योंकि ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध परासरण के कारण यह जल ग्रहण करता है। ;पपद्ध प्रतिलोम परासरण के कारण यह जल खोता है। ;पपपद्ध प्रतिलोम परासरण के कारण यह जल ग्रहण करता है। ;पअद्ध परासरण के द्वारा यह जल खोता है। 13ण् दिए गए ताप पर एक सांद्र विलयन के परासरण दाब की तुलना ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध में तनु विलयन का परासरण दाब उच्च होता है। ;पपद्ध में तनु विलयन का परासरण दाब निम्न होता है। ;पपपद्ध में उतना ही होता है जितना तनु विलयन का होता है। ;पअद्ध तनु विलयन के परासरण दाब से नहीं की जा सकती। 14ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा कथन गलत है? ;पद्ध दो भ्िान्न विलायकों में बनाए गए समान मोललता के दो सूव्रफोस विलयनों के हिमांक में अवनमन समान होंगे। ;पपद्ध विलयन वफ परासरण दाब को समीकरण Π त्र ब्त्ज् ;ब् त्र विलयन की मोलरताद्धद्वारा दशार्या जाता है। े;पपपद्ध 0ण्01 ड बेरियम क्लोराइड, पोटैश्िायम क्लोराइड, ऐसीटिक अम्ल तथा सूव्रफोस के जलीय विलयन के परासरण दाब का घटता हुआ व्रफम है - ठंब्स2 झ ज्ञब्स झ ब्भ्3ब्व्व्भ् झ सूव्रफोस ;पअद्ध राउल्ट के नियम के अनुसार विलयन के किसी वाष्पशील घटक का वाष्प दाब उसके मोल अनुपात के समानुपाती हेाता है। 15ण् ज्ञब्सए छंब्स और ज्ञैव्ए के वान्टहाॅपफ कारक के मान व्रफमशः हैं ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ।24;पद्ध 2ए 2 तथा 2 ;पपद्ध 2ए 2 तथा 3 ;पपपद्ध 1ए 1 तथा 2 ;पअद्ध 1ए 1 तथा 1 16ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा कथन गलत है? ;पद्ध वायुमंडलीय दाब तथा परासरण दाब की इकाइयाँ समान होती हैं। ;पपद्ध प्रतिलोम परासरण में विलायक के अणु अध्र्पारगम्य झिल्ली से निकलकर विलेय की कम सांद्रता वाले क्षेत्रा से उच्च सांद्रता वाले क्षेत्रा की ओर गमन करते हैं। ;पपपद्ध मोलल अवनमन स्िथरांक का मान विलायक की प्रवृफति पर निभर्र करता है। ;पअद्ध वाष्प दाब का आपेक्ष्िाक अवनमन एक विमाहीन राश्िा होती है। 17ण् हेनरी स्िथरांक ज्ञका मान ऋऋऋऋऋऋऋऋऋ ।भ् ;पद्ध ताप बढ़ाने पर बढ़ता है। ;पपद्ध ताप बढ़ाने पर कम होता है। ;पपपद्ध स्िथर रहता है। ;पअद्ध पहले बढ़ता है पिफर घटता है। 18ण् हेनरी स्िथरांक, ज्ञका मान ऋऋऋऋऋऋऋऋऋ ।भ् ;पद्ध उच्च विलेयता वाली गैसों के लिए अध्िक होता है। ;पपद्ध निम्न विलेयता वाली गैसों के लिए अध्िक होता है। ;पपपद्ध सभी गैसों के लिए स्िथर होता है। ;पअद्ध गैसों की विलेयता से संबंध्ित नहीं होता। 19ण् चित्रा 2.1 को देखकर सही विकल्प को चुनिए। ;पद्ध यदि पिस्टन ;ठद्ध पर परासरण दाब से कम दाब लगाया जाए तो जल भाग ;।द्ध से भाग ;ठद्ध की ओर जाएगा। ;पपद्ध यदि पिस्टन ;ठद्ध पर परासरण दाब से अध्िक दाब लगाया जाए तो जल भाग ;ठद्ध से भाग ;।द्ध की ओर जाएगा। ;पपपद्ध यदि पिस्टन ;ठद्ध पर परासरण दाब के बराबर चित्रा 2ण्1दाब लगाया जाए तो जल भाग ;ठद्ध से भाग ;।द्ध की ओर जाएगा। ;पअद्ध यदि पिस्टन ;।द्ध पर परासरण दाब के बराबर दाब लगाया जाए तो जल भाग ;।द्ध से भाग ;ठद्ध की ओर जाएगा। 20ण् हमारे पास ष्।ष्ए ष्ठष् तथा ष्ब्ष् के रूप में चिित 0ण्1डए 0ण्01ड तथा 0ण्001ड सांद्रता वाले छंब्स के तीन जलीय विलयन हैं। इन विलयनों के लिए वान्टहाॅपफ कारक का व्रफम होगा - ;पद्ध पढ पढ प। ठ ब् ;पपद्ध पठ झ प। झ पब् ;पपपद्ध पठ त्र प। त्र पब् ;पअद्ध पठ झ प। ढ पब् 21ण् निम्नलिख्िात सूचना के आधर पर सही विकल्प का चयन कीजिए। सूचना - ;।द्ध ब्रोमोएथेन और क्लोरोएथेन के मिश्रण में ।दृ। और ठदृठ प्रकार की अंतराआण्िवक अन्योन्य वि्रफयाएँ ।दृठ प्रकार की अन्योन्य वि्रफयाओं के लगभग बराबर हैं। ;ठद्ध एथेनाॅल और ऐसीटोन के मिश्रण में ।दृ। और ठदृठ प्रकार की अंतराआण्िवक अन्योन्य वि्रफयाएँ ।दृठ प्रकार की अन्योन्य वि्रफयाओं से प्रबल हैं। ;ब्द्ध क्लोरोपफाॅमर् और एसीटोन के मिश्रण में ।दृ। और ठदृठ प्रकार की अंतराआण्िवक अन्योन्य वि्रफयाएँ ।दृठ प्रकार की अन्योन्य वि्रफयाओं से दुबर्ल हैं। ;पद्ध विलयन ;ठद्ध और ;ब्द्ध राउल्ट के नियम का पालन करेंगे। ;पपद्ध विलयन ;।द्ध राउल्ट के नियम का पालन करेगा। ;पपपद्ध विलयन ;ठद्ध राउल्ट के नियम से )णात्मक विचलन दशार्एगा। ;पअद्ध विलयन ;ब्द्ध राउल्ट के नियम से ध्नात्मक विचलन दशार्एगा। 22ण् 500 उस् की क्षमता के दो बीकर लिए गए। इसमें से श्।श् चिित बीकर में 400 उस् जल भरा गया जबकि श्ठश् चिित बीकर में छंब्स के 2 ड विलयन का 400 उस् भरा गया। दोनों बीकरों को एक ही पदाथर् से बने समान क्षमता वाले बंद पात्रा में चित्रा 2ण्2 के अनुसार रखा गया। दिए गए ताप पर शु( जल के वाष्प दाब तथा छंब्स विलयन के वाष्पदाब के बारे में निम्नलिख्िात में से कौन - सा चित्रा 2ण्2कथन सही है? ;पद्ध;।द्ध पात्रा में वाष्प दाब ;ठद्ध पात्रा की तुलना में अध्िक होगा। ;पपद्ध;।द्ध पात्रा में वाष्प दाब ;ठद्ध पात्रा की तुलना में कम होगा। ;पपपद्ध दोनों पात्रों में वाष्प दाब समान होगा। ;पअद्ध पात्रा ;ठद्ध में वाष्प दाब पात्रा ;।द्ध में वाष्प दाब से दुगुना होगा। 23ण् दो द्रव । और ठ एक विश्िाष्ट संघटन में न्यूनतम क्वथनांकी स्िथरक्वाथी बनाते हैं तब ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध ।दृठ अन्योन्य वि्रफयाएँ ।दृ। और ठदृठ अन्योन्य वि्रफयाओं से प्रबल होती हैं। ;पपद्ध विलयन का वाष्पदाब अध्िक हो जाता है क्योंकि विलयन में से द्रव । और ठ के अध्िक अणु पलायन कर पाते हैं। ;पपपद्ध विलयन का वाष्पदाब कम हो जाता है क्योंकि द्रवों में से केवल एक के अणु विलयन में से पलायन करते हैं। ;पअद्ध ।दृठ अन्योन्य वि्रफयाएँ ।दृ। अथवा ठदृठ की तुलना में दुबर्ल होती हैं। 24ण् 0ण्02 ड छंब्स के 4स् जलीय विलयन को एक लिटर जल मिलाकर तनुवृफत किया गया। परिणामी विलयन की मोललता है - ;पद्ध 0ण्004 ;पपद्ध 0ण्008 ;पपपद्ध 0ण्012 ;पअद्ध 0ण्016 25ण् निम्नलिख्िात सूचना के आधर पर सही विकल्प का चयन कीजिए। सूचना - मेथेनाॅल में ऐसीटोन मिलाने पर मेथेनाॅल अणुओं के मध्य उपस्िथत वुफछ हाइड्रोजन आबंध् टूट जाते हैं। ;पद्ध एक विश्िाष्ट संघटन में मेथेनाॅल - ऐसीटोन मिश्रण न्यूनतम क्वथनांकी स्िथरक्वाथी बनाएगा और राउल्ट के नियम से ध्नात्मक विचलन दशार्एगा। ;पपद्ध एक विश्िाष्ट संघटन में मेथेनाॅल - ऐसीटोन मिश्रण अध्िकतम क्वथनांकी स्िथरक्वाथी बनाएगा और राउल्ट के नियम से ध्नात्मक विचलन दशार्एगा। ;पपपद्ध एक विश्िाष्ट संघटन में मेथेनाॅल - ऐसीटोन मिश्रण न्यूनतम क्वथनांकी स्िथरक्वाथी बनाएगा और राउल्ट के नियम से )णात्मक विचलन दशार्एगा। ;पअद्ध एक विश्िाष्ट संघटन में मेथेनाॅल - ऐसीटोन मिश्रण अध्िकतम क्वथनांकी स्िथरक्वाथी बनाएगा और राउल्ट के नियम से )णात्मक विचलन दशार्एगा। 26ण् ।त;हद्धए ब्व्;हद्धए भ्ब्भ्व् ;हद्धतथा ब्भ्;हद्धके लिए ज्ञमान व्रफमशः 40ण्39ए 1ण्67ए 1ण्83×10दृ5 2 4भ् तथा 0ण्413 हैं। इन गैसों को बढ़ती हुइर् विलेयता के व्रफम में व्यवस्िथत कीजिए। ;पद्ध भ्ब्भ्व् ढ ब्भ् ढ ब्व्ढ ।त;पपद्ध भ्ब्भ्व् ढ ब्व् ढ ब्भ् ढ ।त42 24;पपपद्ध ।त ढ ब्व् ढ ब्भ् ढ भ्ब्भ्व्24;पअद्ध ।त ढ ब्भ् ढ ब्व्2 ढ भ्ब्भ्व्4प्प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप.प्प्द्ध नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में दो या इससे अध्िक विकल्प सही हो सकते हैं। 27ण् द्रव विलायक के निश्िचत आयतन में गैसीय विलेय की विलेयता को निम्नलिख्िात में से कौन - से कारक प्रभावित करते हैं? ;कद्ध विलेय की प्रवृफति ;खद्ध ताप ;गद्ध दाब ;पद्ध स्िथर ताप पर ;कद्ध तथा ;गद्ध ;पपद्ध स्िथर दाब पर ;कद्ध तथा ;खद्ध ;पपपद्ध केवल ;खद्ध तथा ;गद्ध ;पअद्ध केवल ;गद्ध 28ण् बेन्शीन के दो अणुओं के मध्य अंतराआण्िवक बल लगभग उतने ही प्रबल हैं जितने दो टाॅलूइर्न अणुओं के मध्य। बेन्शीन और टाॅलूइर्न के मिश्रण के लिए निम्नलिख्िात में से क्या सही नहीं है? ;पद्ध Δभ् त्र शून्यमिश्रण;पपद्ध Δट त्र शून्यमिश्रण;पपपद्ध यह न्यूनतम क्वथनांकी स्िथरक्वाथी बनाएँगे। ;पअद्ध यह आदशर् विलयन नहीं बनाएँगे। 29ण् वाष्प दाब में आपेक्ष्िाक अवनमन एक अणुसंख्य गुणध्मर् है क्योंकि ऋऋऋऋऋऋऋऋऋ ;पद्ध यह विद्युत् अनअपघट्य विलेय की विलयन में सांद्रता पर निभर्र करता है तथा विलेय अणु की प्रवृफति पर निभर्र नहीं करता। ;पपद्ध यह विद्युत् अपघट्य की सांद्रता पर निभर्र करता है तथा विलेय अणु की प्रवृफति पर निभर्र नहीं करता। ;पपपद्ध यह विद्युत अनअपघट्य विलेय की सांद्रता के साथ - साथ विलेय अणु की प्रवृफति पर निभर्र करता है। ;पअद्ध यह विद्युत् अपघट्य अथवा विद्युत् अनअपघट्य विलेय की सांद्रता के साथ - साथ विलेय अणु की प्रवृफति पर निभर्र करता है। 30ण् वान्टहाॅपफ कारक प किस - किस व्यंजक द्वारा दिया जाता है? सामान्य मालेर दव्यमान ्र;पद्ध प त्र असामान्य मोलर द्रव्यमान असामान्य मालेर दव््रयमान ;पपद्ध प त्र सामान्य मो्रलर दव्यमान पे्रि क्षत अणसुख्ंय गण्ुाध्मर्प त्र;पपपद्ध परिकलित अणुसख्ंय गुणध्मर् परिकलित अणसुख्ंय गण्ुाध्मर्प त्र;पअद्ध पे्रि क्षत अणुसख्ंय गणध्मुर् 31ण् समपरासरी विलयनों में ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ समान होने चाहिए। ;पद्ध विलेय ;पपद्ध घनत्व ;पपपद्ध क्वथनांक में उन्नयन ;पअद्ध हिमांक में अवनमन 32ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से द्विअंगी मिश्रणों का संघटन द्रव और वाष्प प्रावस्था में समान होगा? ;पद्ध बेन्जीन .टाॅलूइर्न ;पपद्धजल.नाइटिªक अम्ल ;पपपद्धजल.एथेनाॅल ;पअद्ध द.हेक्सेन.द.हेप्टेन 33ण् समपरासरी विलयनों में ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध विलेय और विलायक वही होते हैं। ;पपद्ध परासरण दाब समान होता है। ;पपपद्ध विलेय और विलायक वही हो भी सकते हैं और नहीं भी। ;पअद्ध विलेय सदैव समान होता है विलायक अलग हो सकते हैं। 34ण् एक द्विअंगी आदशर् द्रव विलयन के लिए वुफल वाष्प दाब में परिवतर्न तथा विलयन के संघटन के मध्य कौन - से वव्रफ सही हैं? 35ण् अणुसंख्य गुणध्मर् तब प्रेक्ष्िात होते हैं जब ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध किसी अवाष्पशील ठोस को वाष्पशील द्रव में घोला जाता है। ;पपद्ध किसी अवाष्पशील द्रव को एक अन्य वाष्पशील द्रव में घोला जाता है। ;पपपद्ध किसी गैस को अवाष्पशील द्रव में घोला जाता है। ;पअद्ध एक वाष्पशील द्रव को एक अन्य वाष्पशील द्रव में घोला जाता है। प्प्प्ण् लघु उत्तर प्रश्न 36ण् दो द्रवों । और ठ के द्विअंगी मिश्रण में से संघटकों को आसवन द्वारा अलग किया जा रहा था। वुफछ समय पश्चात् संघटकों का अलग होना रुक गया और वाष्प तथा द्रव प्रावस्था का संघटन एकसमान हो गया तथा आसुत में दोनों ही संघटक आने लगे। स्पष्ट कीजिए ऐसा क्यों हुआ। 37ण् स्पष्ट कीजिए कि 1 मोल छंब्स को एक लिटर जल में मिलने पर जल के क्वथनांक में वृि क्यों होती है, जबकि एक लिटर जल में एक मोल मेथ्िाल ऐल्कोहाॅल घोलने पर जल का क्वथनांक कम हो जाता है। 38ण् विलयन में उपस्िथत अंतराआण्िवक बलों के संबंध् में ‘समान समान को घोलता है’ के विलेयता नियम को समझाइए। 39ण् सांद्रता पद जैसे कि द्रव्यमान प्रतिशत, पीपीएम,मोल - अंश और मोललता, ताप पर निभर्र नहीं करते जबकि मोलरता ताप का पफलन होती है। समझाइए। 40ण् हेनरी नियम स्िथरांक, ज्ञ, की साथर्कता क्या है?भ् 41ण् जलीय जीव, गरम जल की तुलना में ठंडे जल में अध्िक सहज क्यों महसूस करते हैं? 42ण् ;कद्ध हेनरी के नियम की सहायता से निम्नलिख्िात परिघटनाओं को समझाइए। ;पद्ध कष्टप्रद स्िथति जिसे ‘बैंड’ कहा जाता है। ;पपद्ध उफँचाइर् पर कमजोरी तथा श्वसन में असहजता महसूस होना। ;खद्ध कमरे के ताप पर रखी सोडा जल की बोतल खोलने पर सी - सी की आवाज ;पिफशद्ध क्यों आती है? 43ण् ग्लूकोस के जलीय विलयन का वाष्प दाब, जल की तुलना में कम क्यों होता है? 44ण् पवर्तीय क्षेत्रों में हिम आच्छादित सड़कों को सापफ करने में नमक का छिड़काव किस प्रकार सहायता करता है। इस प्रवि्रफया से संबंध्ित परिघटना की व्याख्या कीजिए। 45ण् ‘अध्र्पारगम्य झिल्ली’ क्या होती है? 46ण् प्रतिलोम परासरण को संपन्न करने के लिए उपयोग में आने वाले अध्र्पारगम्य झिल्ली के निमार्ण के लिए एक पदाथर् का उदाहरण दीजिए। प्टण् सुमेलन प्ररूप प्रश्न नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में काॅलम प् में दिए गए मदों को काॅलम प्प् में दिए गए मदों से सुमेलित कीजिए। 47ण् काॅलम प् और काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए - काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध संतृप्त विलयन ;ंद्ध किसी ताप पर समान परासरण दाब वाले विलयन ;पपद्ध द्विअंगी विलयन ;इद्ध वह विलयन जिसका परासरण दाब दूसरे विलयन से कम हो।प्रश्न प्रद£शका, रसायन 26 ;पपपद्ध समपरासरी विलयन ;बद्ध दो घटकों वाला विलयन ;पअद्ध अल्पपरासरी विलयन ;कद्ध वह विलयन जिसमें दिए गए ताप पर, विलायक की निश्िचत मात्रा में विलेय की घोली जा सकने वाली अध्िकतम मात्रा घुली हो ;अद्ध ठोस विलयन ;मद्ध वह विलयन जिसका परासरण दाब दूसरे विलयन से अध्िक हो ;अपद्ध अतिपरासरी विलयन ;द्धि ठोस प्रावस्था में विलयन 48ण् काॅलम प् और काॅलम प्प् में दिए गए मदों को सुमेलित कीजिए - काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध सोडा जल ;ंद्ध ठोस में गैस का विलयन ;पपद्ध शवर्फरा का विलयन ;इद्ध गैस में गैस का विलयन ;पपपद्ध जमर्न सिल्वर ;बद्ध द्रव में ठोस का विलयन ;पअद्ध वायु ;कद्ध ठोस में ठोस का विलयन ;अद्ध पैलेडियम में हाइड्रोजन गैस ;मद्ध द्रव में गैस का विलयन ;द्धि ठोस में द्रव का विलयन 49ण् काॅलम प् में दिए गए नियम को काॅलम प्प् में दिए गए व्यंजक से सुमेलित कीजिए - काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध राउल्ट का नियम ;ंद्ध Δज् त्र ज्ञउिि;पपद्ध हेनरी का नियम ;इद्ध Π त्र ब्त्ज् ;पपपद्ध क्वथनांक मेें उन्नयन ;बद्ध च त्र गचव ़ गचव 11 22 ;पअद्ध हिमांक में अवनमन ;कद्ध Δज् त्र ज्ञउइइ;अद्ध परासरण दाब ;मद्ध च त्र ज्ञण्गभ्50ण् काॅलम प् में दिए गए मदों को काॅलम प्प् में दिए गए व्यंजकों से सुमेलित कीजिए - काॅलम प् काॅलम प्प् विलये अवयवव फे मालं की सख्ंया ;पद्ध द्रव्यमान प्रतिशत ;ंद्ध ेोविलयन का आयतन लिटर मंे किसीअवयव वफेेेंमालां की सख्या ;पपद्ध आयतन प्रतिशत ;इद्ध सभी घटकांेे े ां की वुवफ मालेफल सख्ंया विलयन में विलेय अवयव का आयतन ×100;पपपद्ध मोल अंश ;बद्ध विलयन का वुफल आयतन विलयन मंेविलेय अवयव का दव््रयमान ;पअद्ध मोललता ;कद्ध ×100 विलयन का वुफल आयतन किसी ; विलयेद्ध अवयव वफेेांमाले की सख्या ;अद्ध मोलरता ;मद्ध विलायक का दव््रयमान किलागो्रम मंे टण् अभ्िाकथन एवं तवर्फ प्ररूप प्रश्न नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में अभ्िाकथन के पश्चात संगत तवर्फ का कथन दिया है। निम्नलिख्िात विकल्पोंमें से कथन का चयन करके सही उत्तर दीजिए। ;पद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों सही हैं और तवर्फ अभ्िाकथन का सही स्पष्टीकरण है। ;पपद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों सही कथन हैं परन्तु तवर्फ अभ्िाकथन का स्पष्टीकरण नहीं है। ;पपपद्ध अभ्िाकथन सही है परन्तु तवर्फ गलत कथन है। ;पअद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों ही गलत कथन हैं। ;अद्ध अभ्िाकथन गलत है परन्तु तवर्फ सही कथन है। 51ण् अभ्िाकथन - द्रव अवस्था वाले विलयन की मोलरता ताप में परिवतर्न से परिवतिर्त हो जाती है। तवर्फ - ताप में परिवतर्न से विलयन का आयतन परिवतिर्त होता है। 52ण् अभ्िाकथन - मेथ्िाल ऐल्कोहाॅल को जल में घोलने से जल का क्वथनांक बढ़ता है। तवर्फ - वाष्पशील ठोस को वाष्पशील विलयन में मिलाने से क्वथनांक में उन्नयन प्रेक्ष्िात होता है। 53ण् अभ्िाकथन - छंब्स को जल में मिलाने से जल के हिमांक में अवनमन प्रेक्ष्िात होता है। तवर्फ - विलयन के वाष्प दाब में कमी के कारण हिमांक में अवनमन होता है। 54ण् अभ्िाकथन - जब एक अध्र्पारगम्य झिल्ली द्वारा एक विलयन को शु( विलायक से पृथक किया जाता है तो शु( विलायक की ओर से विलायक के अणु झिल्ली में से होकर विलयन की ओर जाते हैं। तवर्फ - विलायक का विसरण उच्च सांद्रता वाले विलयन क्षेत्रा से निम्न सांद्रता वाले विलयन क्षेत्रा की ओर होता है। टप्ण् दीघर् उत्तर प्रश्न 55ण् किसी विलयन की सांद्रता को व्यक्त करने के लिए निम्नलिख्िात पदों को परिभाष्िात कीजिए। इनमें से कौन - सा तरीका ताप पर निभर्र नहीं करता है तथा क्यों? ;पद्ध ूध्ू ;द्रव्यमान प्रतिशतद्ध ;पपपद्ध ूध्ट ;आयतन से भार प्रतिशतद्ध ;पपद्ध टध्ट ;आयतन प्रतिशतद्ध ;पअद्ध चचउण् ;पाट्र्स पर मिलियनद्ध ;अद्ध ग ;मात्रा अंशद्ध ;अपपद्ध उ ;मोललताद्ध ;अपद्ध ड ;मोलरताद्ध 56ण् निम्नलिख्िात विलयनों के लिए राउल्ट के नियम का उपयोग करते हुए स्पष्ट कीजिए कि विलयन का वुफल वाष्प दाब अवयवों के मोल अंश से वैफसे संब( है? ;पद्ध ब्भ्ब्स;सद्ध तथा ब्भ्ब्स;सद्ध3 22;पपद्ध छंब्स;ेद्ध तथा भ्व् ;सद्ध257ण् द्रव विलयनों के अणुओं के मध्य प्रचालित अन्योन्य बलों के संदभर् में आदशर् एवं अनादशर् विलयन पदों को समझाइए। 58ण् आसवन के द्वारा शु( एथेनाॅल प्राप्त करना संभव क्यों नहीं है? ऐसे द्विअंगी मिश्रणों को क्या नाम दिया जाता है जो सामान्यतः राउल्ट के नियम से विचलन दशार्ते हैं और जिनके अवयवों को आसवन द्वारा अलग नहीं किया जा सकता? ये मिश्रण कितने प्रकार के होते हैं? 59ण् जल में रखने पर किशमिश आकार में पूफल जाती है। इससे संबंध्ित परिघटना का नाम दीजिए तथा चित्रा की सहायता से इसे समझाइए। इस परिघटना के तीन अनुप्रयोग दीजिए। 60ण् परासरण के जैविक तथा औद्योगिक अनुप्रयोगों की विवेचना कीजिए। 61ण् आप अंडे की अध्र्पारगम्य झिल्ली को हानि पहुँचाए बिना इस पर से वैफल्िसयम काबोर्नेट की कठोर सतह को वैफसे हटा सकते हैं? क्या इस अंडे की आवृफति को बदले बिना इसे एक संकरे मुँह वाली बोतल में प्रवेश्िात किया जा सकता है? इसमें सम्िमलित प्रवि्रफया को समझाइए। 62ण् वान्टहाॅपफ कारक की सहायता से समझाइए कि अणुसंख्यक गुण मापन विध्ि द्वारा वुफछ विलेयों के लिए निधर्रित द्रव्यमान असामान्य क्यों होता है। प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप - प्द्ध 1ण् ;पद्ध 2ण् ;पअद्ध 3ण् ;पपपद्ध 4ण् ;पपद्ध, ख्संकेत - यदि मिलाया गया पदाथर् घुल जाए तो विलयन असंतृप्त है। यदि यह न घुले तो विलयन संतृप्त है। यदि अवक्षेपण हो जाता है तो विलयन अतिसंतृप्त है।, 5ण् ;पपपद्ध 6ण् ;पपद्ध, ख्संकेत - मानव शरीर का ताप स्िथर रहता है।, 7ण् ;पद्ध 8ण् ;पपद्ध 9ण् ;पपद्ध 10ण् ;पद्ध 11ण् ;पपपद्ध 12ण् ;पअद्ध 13ण् ;पद्ध 14ण् ;पद्ध 15ण् ;पपद्ध 16ण् ;पपद्ध 17ण् ;पद्ध 18ण् ;पपद्ध 19ण् ;पपद्ध 20ण् ;पपपद्ध 21ण् ;पपद्ध 22ण् ;पद्ध 23ण् ;पद्ध 24ण् ;पअद्ध 25ण् ;पपद्ध 26ण् ;पपपद्ध प्प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप - प्प्द्ध 27ण् ;पद्धए ;पपद्ध 28ण् ;पपपद्धए ;पअद्ध 29ण् ;पद्धए ;पपद्ध 30ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 31ण् ;पपद्धए ;पपपद्ध 32ण् ;पपद्धए ;पपपद्ध 33ण् ;पपद्धए ;पपपद्ध 34ण् ;पद्धए ;पअद्ध 35ण् ;पद्धए ;पपद्ध प्प्प्ण् लघु उत्तर प्रश्न 36ण् चूँकि दोनों अवयव आसुत में प्राप्त हो रहे हैं और द्रव तथा वाष्प प्रावस्था का संघटन एकसमान है, इससे पता लगता है कि द्रवों ने स्िथरक्वाथी मिश्रण बना लिया है और इस स्िथति में इन्हें आसवन द्वारा पृथक नहीं किया जा सकता। 37ण् छंब्स एक अवाष्पशील विलेय है। पफलतः जल में छंब्स को मिलाने से जल का वाष्प दाब कम हो जाता है। परिणामस्वरूप जल का क्वथनांक बढ़ जाता है। वहीं दूसरी ओर मेथ्िाल ऐल्कोहाॅल जल की तुलना में अध्िक वाष्पशील है। अतः इसे मिलाने से विलयन के उफपर वुफल वाष्प दाब बढ़ जाता है अतः जल का क्वथनांक कम हो जाता है। 38ण् कोइर् पदाथर् ;विलेयद्ध विलायक में तब घुलता है जब दोनों अवयवों की अंतरआण्िवक अन्योन्य वि्रफयाएँ समान होती हैं। उदाहरणाथर्, धु्रवीय विलेय ध्ु्रवीय विलायकों में घुलते हैं जबकि अध्ु्रवीय विलेय अध्ु्रवीय विलायकों में घुलते हैं। अतः हम कह सकते हैं कि ‘समान, समान को घोलता है।’ 39ण् एक लिटर विलयन में उपस्िथत विलेय के मोलों की संख्या को मोलरता के रूप में परिभाष्िात किया जाता है। चूंकि आयतन ताप पर निभर्र करता है तथा ताप में परिवतर्न से परिवतिर्त हो जाता है, अतः मोलरता भी ताप में परिवतर्न से परिवतिर्त होगी। वहीं दूसरी ओर ताप में परिवतर्न से द्रव्यमान परिवतिर्त नहीं होता। अतः प्रश्न में दिए गए अन्य सांद्रता पद ताप में परिवतर्न होने पर भी अपरिवतिर्त रहते हैं क्योंकि इन सभी को विलयन के आयतन के बजाय विलयन के द्रव्यमान द्वारा परिभाष्िात किया जाता है। 40ण् हेनरी नियम स्िथरांक ज्ञका मान जितना उच्च होगा द्रव में गैसों की विलेयता उतनी ही कम होगी।भ् 41ण् दिए गए दाब पर ताप कम करने से जल में आॅक्सीजन की विलेयता बढ़ जाती है। कम ताप पर अध्िक आॅक्सीजन की उपस्िथति जलीय जीवों को ठंडे जल में अध्िक सहज बनाती है। 42ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक देखें। 43ण् शु( जल में द्रव की संपूणर् सतह जल के अणुओं द्वारा घ्िारी रहती है। जब एक अवाष्पशील ठोस को, उदाहरणाथर् ग्लूकोस को जल में घोला जाता है तो विलायक की सतह पर विलायक अणुओं के द्वारा घेरा गया अंश कम हो जाता है क्योंकि वुफछ स्थान ग्लूकोस के अणुओं द्वारा घेर लिया जाता है। इसके परिणामस्वरूप सतह से पलायन करने वाले विलायक के अणुओं की संख्या कम हो जाती है। परिणामतः ग्लूकोस के जलीय विलयन का वाष्प दाब भी कम हो जाता है। 44ण् जब हिमाच्छादित सड़कों पर नमक का छिड़काव किया जाता है तो सतह से हिम का पिघलना प्रारंभ हो जाता है क्योंकि जल के हिमांक में अवनमन होता है तथा यह सड़कों को सापफ करने में सहायता करता है। 45ण् सतत शीट या परत ;प्रावृफतिक अथवा वृफत्रिामद्धजिनमें अतिसूक्ष्मदशीर्य छिद्रों का जाल होता है और जिनसे जल जैसे विलायक के छोटे अणु तो गुजर सकते हैं, परन्तु विलेय के बड़े अणुओं के गुजरने में बाधा उत्पन्न होती है, अध्र्पारगम्य झिल्ली कहलाती है। 46ण् सेलुलोस ऐसीटेट प्टण् सुमेलन प्ररूप प्रश्न 47ण् ;पद्ध → ;कद्ध;पपद्ध → ;बद्ध;पपपद्ध → ;ंद्ध;पअद्ध → ;इद्ध;अद्ध → ;द्धि ;अपद्ध → ;मद्ध 48ण् ;पद्ध → ;मद्ध;पपद्ध → ;बद्ध;पपपद्ध → ;कद्ध;पअद्ध → ;इद्ध;अद्ध → ;ंद्ध 49ण् ;पद्ध → ;बद्ध;पपद्ध → ;मद्ध;पपपद्ध → ;कद्ध;पअद्ध → ;ंद्ध;अद्ध → ;इद्ध 50ण् ;पद्ध → ;कद्ध;पपद्ध → ;बद्ध;पपपद्ध → ;इद्ध;पअद्ध → ;मद्ध;अद्ध → ;ंद्ध टण् अभ्िाकथन एवं तवर्फ प्ररूप प्रश्न 51ण् ;पद्ध 52ण् ;पअद्ध 53ण् ;पद्ध 54ण् ;पपद्ध टप्ण् दीघर् उत्तर प्रश्न 55ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक देखें। 56ण् संकेत - निम्नलिख्िात सूत्रों की विवेचना कीजिए। ;पद्ध द्विअंगी विलयन जिसके दोनों अवयव वाष्पशील हों, का वुफल दाब होगा - च त्र च1 त्र ग1च10 ़ ग2च20 त्र गच0़ ;1दृगद्धच011 12 त्र ;च0 दृ च0 द्धग़ च0 1 212 च त्र वुफल वाष्पदाब च1 त्र घटक 1 का आंश्िाक वाष्पदाब च2 त्र घटक 2 का आंश्िाक वाष्पदाब ;पपद्ध अवाष्पशील ठोस विलेय युक्त विलयन के लिए राउल्ट का नियम केवल वाष्पशील घटक, विलायक ;1द्ध, पर लागू होता है तथा इसका वुफल वाष्प दाब निम्नलिख्िात प्रकार से व्यक्त किया जा सकता है। 0 च त्र च1 त्र ग1च1 57ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक का पृष्ठ 44 देखें। 58ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक का पृष्ठ 45 देखें। 59ण् संकेत - इसे चित्रा 2ण्3 की सहायता से किशमिश में जल के परासरण को दशार्ते हुए समझाइए। 60ण् संकेत - परासरण प्रवि्रफया का बहुत अध्िक जैविक एवं औद्योगिक महत्व है जैसाकि निम्नलिख्िात उदाहरणों से स्पष्ट होता है। ;पद्ध मृदा से पौधें की जड़ों में तथा पिफर पौधें के उफपरी भागों चित्रा 2ण्3 में जल का प्रवाह अंशतः परासरण के कारण होता है। ;पपद्ध जीवाणु की वि्रफया से मांस के परिरक्षण के लिए नमक मिलाना। ;पपपद्ध शवर्फरा मिलाकर जीवाणु की वि्रफया के विरु( पफलों का परिरक्षण। डिब्बाबंद पफलों में जीवाणु परासरण प्रवि्रफया के द्वारा जल को खोता है और सिवुफड़ कर मर जाता है। ;पअद्ध प्रतिलोम परासरण का उपयोग जल को अलवणीय करने में होता है। 61ण् संकेत - 62ण् वुफछ यौगिक उपयुक्त विलायक में घोलने पर वियोजित अथवा संगण्िात हो जाते हैं।ुउदाहरणाथर्, हाइड्रोजन बंध् बनने के कारण एथेनाॅइक अम्ल का बेन्जीन में द्विलकीकरण होता है। जबकि जल में घोले जाने पर यह वियोजित होकर आयन बनाता है। इसके परिणामस्वरूप विलयन में रासायनिक स्पीशीश की संख्या विलयन बनाने के लिए मिलाइर् गइर् विलेय की रासायनिक स्पीशीश की संख्या की तुलना में कम अथवा अध्िक हो जाती है। चूंकि अणुसंख्यक गुणों का परिमाण विलेय कणों की संख्या पर निभर्र करता है, इसलिए यह आशा की जाती है कि अणुसंख्यक गुणों के आधर पर ज्ञात किया गया द्रव्यमान अनुमानित मान अथवा सामान्य मान से कम अथवा अध्िक प्राप्त होगा तथा इसे असामान्य आण्िवक द्रव्यमान कहते हैं। विलयन में अणुओं के संगुणन अथवा वियोजन के निधर्रण के लिए वान्टहाॅपफ ने एक कारक प्रस्तावित किया जिसे वान्टहाॅपफ कारक, प , कहते हैं। इसे निम्नलिख्िात प्रकार से परिभाष्िात किया जा सकता है - अनुेर दव््रयमान मानित मालप त्र असामान्य मोलर द्रव्यमान पे्रि क्षत अणसुख्ंय गण्ुाध्मर्प त्र परिकलित अणुसख्ंय गुणध्मर्सगंण्ेन वफेउपरातं वेेोुुान/वियाजं कणोफ मालं की वफल सख्ंया त्र सगंण्ेेपूवर् कणांेेेांुुान/वियाजनस वफ माले की वफल सख्ंया

RELOAD if chapter isn't visible.