प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप.प्द्ध 1ण् कौन - सा सेल काॅपर इलेक्ट्रोड के मानक इलेक्ट्रोड विभव का मापन करेगा? ;पद्ध च्ज ;ेद्धभ्;हए0ण्1 इंतद्धभ़् ;ंुण्ए1 डद्धब्न2़;ंुण्ए1डद्धब्न2 ;पपद्ध च्ज;ेद्धभ्;हए 1 इंतद्धभ़् ;ंुण्ए1 डद्धब्न2़ ;ंुण्ए2 डद्धब्न2 ;पपपद्ध च्ज;ेद्धभ्;हए 1 इंतद्धभ़् ;ंुण्ए1 डद्धब्न2़ ;ंुण्ए1 डद्धब्न2 ;पअद्ध च्ज;ेद्धभ्;हए 1 इंतद्धभ़् ;ंुण्ए0ण्1 डद्धब्न2़ ;ंुण्ए1 डद्धब्न2 2ण् मैग्नीश्िायम इलेक्ट्रोड के इलेक्ट्रोड विभव में निम्न समीकरण के अनुसार परिवतर्न होता है। 0ण्059 1 टम् 2़ त्र म् 2़ दृ सवह ख्डह2़ , । यदि म् 2़ एवं सवह ख्डह2़, के मध्य ग्रापफडहद्यडह डहद्यडह 2 डहद्यडह खींचे तो वह वैफसा होगा? ;पद्ध ;पपपद्ध 3ण् 4ण् 5ण् 6ण् 7ण् 8ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा कथन सत्य है? ;पद्ध म्तथा सेल अभ्िावि्रफया के लिए Δ ळ दोनों विस्तीणर् गुण हैं।ब्मसस त ;पपद्ध म्तथा सेल अभ्िावि्रफया के लिए Δ ळ दोनों मात्राविहीन गुण हैं।ब्मसस त ;पपपद्ध म्एक मात्राविहीन गुण है जबकि सेल अभ्िावि्रफया के लिए Δ ळ एक विस्तीणर् गुण है।ब्मसस त ;पअद्ध म्एक विस्तीणर् गुण है जबकि Δ ळ मात्राविहीन गुण है।ब्मसस त जब सेल में कोइर् धरा प्रवाहित न हो रही हो तो इलेक्ट्रोडांे के विभवों में अन्तर को कहते हैं ऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध सेल विभव ;पपद्ध सेल मउ ि;पपपद्ध विभवान्तर ;पअद्ध सेल वोल्टता निम्नलिख्िात में से किसी सेल के अवि्रफय इलेक्ट्रोड के विषय में कौन - सा कथन सही नहीं है? ;पद्ध यह सेल अभ्िावि्रफया में भाग नहीं लेता। ;पपद्ध यह या तो आक्सीकरण अथवा अपचयन अभ्िावि्रफयाओं के लिए सतह प्रदान करता है। ;पपपद्ध यह इलेक्ट्राॅनों के चालन के लिए सतह प्रदान करता है। ;पअद्ध यह रेडाॅक्स अभ्िावि्रफया के लिए सतह प्रदान करता है। एक विद्युत् रासायनिक सेल, विद्युत् अपघटनी सेल के समान व्यवहार कर सकता है जब ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध म् त्र 0बमसस;पपद्ध म् झ म्बमससमगज ;पपपद्ध म् झ म्मगजबमसस ;पअद्ध म् त्र म्बमससमगज विद्युत् अपघट्यों के विलयनों के लिए कौन - सा कथन सही नहीं है? ;पद्ध विलयन की चालकता आयनों के आकार पर निभर्र करती है। ;पपद्ध चालकता विलयन की श्यानता पर निभर्र करती है। ;पपपद्ध चालकता विलयन में उपस्िथत आयनों के विलायक योजन पर निभर्र नहीं करती। ;पअद्ध चालकता ताप बढ़ाने से बढ़ती है। नीचे दिए गए आँकड़ों का उपयोग करते हुए प्रबलतम अपचायक को ज्ञात कीजिए। म्ट म्ट2दृ 3़त्र 1ण्33ट दृ त्र 1ण्36टब्तव् ध्ब्त ब्स ध्ब्स 27 2म्टम्टदृ 2़ त्र 1ण्51ट त्र दृ 0ण्74टडदव् ध्डद ब्त3़ध्ब्त 4 ;पद्ध ब्सदृ ;पपद्ध ब्त 35 विद्युत् रसायन 9ण् 10ण् 11ण् 12ण् 13ण् 14ण् ;पपपद्ध ब्त3़ ;पअद्ध डद2़ प्रश्न 8 में दिए गए आँकड़ों के आधर पर निम्नलिख्िात में से प्रबलतम आॅक्सीकरण कमर्क को ज्ञात कीजिए। ;पद्ध ब्सदृ ;पपद्ध डद2़ दृ;पपपद्ध डदव्4 ;पअद्ध ब्त3़ प्रश्न 8 में दिए गए आँकड़ों का प्रयोग करते हुए ज्ञात कीजिए कि अपचायक के व्रफम का सही विकल्प कौन - सा है? ;पद्ध ब्त3़ ढ ब्सदृ ढ डद2़ ढ ब्त ;पपद्ध डद2़ ढ ब्सदृ ढ ब्त3़ ढ ब्त ब्त3़2दृदृ;पपपद्ध ढ ब्सदृ ढ ब्त2व् ढ डदव्47 ;पअद्ध डद2़ ढ ब्त3़ ढ ब्सदृ ढ ब्त प्रश्न 8 में दिए गए आँकड़ों का उपयोग करते हुए अपचयित अवस्था में सवार्ध्िक स्थायी आयन को ज्ञात कीजिए। ;पद्ध ब्सदृ ;पपद्ध ब्त3़ ;पपपद्ध ब्त ;पअद्ध डद2़ प्रश्न 8 में दिए गए आँकड़ों के आधर पर सवार्ध्िक स्थायी आॅक्सीवृफत स्पीशीश ज्ञात कीजिए। ;पद्ध ब्त3़ दृ;पपद्ध डदव्4 ;पपपद्ध ब्त2व्72दृ ;पअद्ध डद2़ ।सव्से एक मोल ऐलुमिनियम प्राप्त करने के लिए आवश्यक आवेश की मात्रा है।23 ;पद्ध 1थ् ;पपद्ध 6थ् ;पपपद्ध 3थ् ;पअद्ध 2थ् चालकता सेल का सेल स्िथरांक ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध विद्युत् अपघट्य परिवतिर्त करने पर परिवतिर्त हो जाता है। ;पपद्ध विद्युत् अपघट्य की सांद्रता परिवतिर्त करने पर परिवतिर्त हो जाता है। ;पपपद्ध विद्युत् अपघट्य का ताप परिवतिर्त करने पर परिवतिर्त हो जाता है। ;पअद्ध दिए गए सेल के लिए स्िथर रहता है। 15ण् लेड स्टोरेज बैटरी ;लेड संचायक सेलद्ध को चाजर् करते समय ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ । ;पद्ध च्इैव्ऐनोड च्इ में अपचित होता है।;पपद्ध च्इैव्वैफथोड च्इ में अपचित होता है।4 4 ;पपपद्ध च्इैव्वैफथोड च्इ में आॅक्सीवृफत होता है।4 ;पअद्ध च्इैव्ऐनोड च्इव्में आॅक्सीवृफत होता है।42 16ण् Λ0 ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ के बराबर होगा।उ ;छभ् व्भ्द्ध 4 0 00;पद्ध Λ ़ Λ दृ Λउ ;छभ् व्भ्द्धउ ;छभ् ब्सद्ध ;भ्ब्सद्ध44 0 00Λ ़ Λ दृ Λ;पपद्ध उ ;छभ् ब्सद्ध उ;छंव्भ्द्ध ;छंब्सद्ध4 0 00;पपपद्ध Λ ़ Λ दृ Λउ ;छभ् ब्सद्ध उ;छंब्सद्ध ;छंव्भ्द्ध4 0 00Λ ़ Λ दृ Λ;पअद्ध उ ;छंव्भ्द्ध उ;छंब्सद्ध ;छभ् ब्सद्ध4 17ण् नमक के जलीय विलयन के विद्युत् अपघटन में कौन - सी अध्र्सेल अभ्िावि्रफया ऐनोड पर होगी? ;पद्ध छं़ ;ंुद्ध ़ मदृ ⎯→ छं ;ेद्धय म्ट त्र दृ2ण्71टब्मसस ;पपद्ध 2भ्व् ;सद्ध ⎯→ व्;हद्ध ़ 4भ़् ;ंुद्ध ़ 4मदृ य म्ट त्र 1ण्23ट22 ब्मसस 1;पपपद्ध भ़् ;ंुद्ध ़ मदृ ⎯→ भ्;हद्धय म्ट त्र 0ण्00 ट2 ब्मसस 2 1;पअद्ध ब्सदृ ;ंुद्ध ⎯→ ब्स;हद्ध ़ मदृ य म्ट त्र 1ण्36 ट2 ब्मसस 2 प्प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप.प्प्द्ध नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में दो या इससे अध्िक विकल्प सही हो सकते हैं। 18ण् ब्न2़ध्ब्न मानक इलेक्ट्रोड विभव का ध्नात्मक मान दशार्ता है कि ऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध यह अपोउपचायक युग्म, भ़्ध्भ्युग्म की तुलना में प्रबल अपचायक है।;पपद्ध यह अपोउपचायक युग्म भ़्ध्भ्युग्म की तुलना में प्रबल आॅक्सीकारक है।2 2 ;पपपद्ध ब्न अम्ल से भ्को विस्थापित कर सकता है।2 ;पअद्ध ब्न अम्ल से भ्को विस्थापित नहीं कर सकता।2 37 विद्युत् रसायन 19ण् वुफछ अध्र्सेल अभ्िावि्रफयाओं के म्ट मान निम्नलिख्िात हैं। इनके आधर पर सही उत्तर चिित कीजिए।ब्मसस 1;ंद्ध भ़् ;ंुद्ध ़ मदृ ⎯→ भ्;हद्ध य म्ट त्र 0ण्00ट2 ब्मसस 2 ;इद्ध 2भ्व् ;सद्ध ⎯→ व्;हद्ध ़ 4भ़् ;ंुद्ध ़ 4मदृ य म्ट त्र 1ण्23ट22 ब्मसस ;बद्ध 2ैव्2दृ ;ंुद्ध ⎯→ ैव्2दृ ;ंुद्ध ़ 2मदृ य म्ट त्र 1ण्96 ट4 28 ब्मसस ;पद्ध सल्फ्रयूरिक अम्ल के तनु विलयन मंे हाइड्रोजन वैफथोड पर अपचित होगी। ;पपद्ध सल्फ्रयूरिक अम्ल के सांद्र विलयन में ऐनोड पर जल आॅक्सीवृफत होगा। ;पपपद्ध सल्फ्रयूरिक अम्ल के तनु विलयन में ऐनोड पर जल आॅक्सीवृफत होगा। 2दृ;पअद्ध सल्फ्रयूरिक अम्ल के तनु विलयन में ऐनोड पर टेट्राथायोनेट आयन ैव् आयन में आॅक्सीवृफत4 होगा। 20ण् डेनियल सेल के लिए म्ट त्र 1ण्1 ट है। निम्नलिख्िात में से कौन - से व्यंजक इस सेल में साम्यावस्थाब्मसस का सही वणर्न देते हैं। ;पद्ध 1ण्1 त्र ज्ञ ब 2ण्303त् ज्;पपद्ध सवहज्ञ त्र1ण्1 2थ् ब ;पपपद्ध सवह ज्ञ त्र 2ण्2 ब0ण्059 ;पअद्ध सवह ज्ञ त्र 1ण्1 ब21ण् विद्युत् अपघट्य विलयन की चालकता निभर्र करती है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध विद्युत् अपघट्य की प्रवृफति पर ;पपद्ध विद्युत् अपघट्य की सांद्रता पर ;पपपद्ध ।ब् ड्डोत की शक्ित पर ;पअद्ध इलेक्ट्रोडों के मध्य की दूरी पर 22ण् Λ0भ्व् ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ के बराबर होगी।उ 200 0;पद्ध Λ ़ Λ दृ Λउ ;भ्ब्सद्धउ ;छंव्भ्द्धउ ;छंब्सद्ध00 0Λ ़ Λ दृ Λ;पपद्ध उ ;भ्छव् द्ध उ ;छंछव् द्धउ ;छंव्भ्द्ध33 00 0Λ ़ Λ दृ Λ;पपपद्ध ;भ्छव् द्ध उ;छंव्भ्द्धउ ;छंछव् द्ध33 0 00;पअद्ध Λ ़ Λ दृ Λ उ ;छभ् व्भ्द्ध उ;भ्ब्सद्ध उ ;छभ् ब्सद्ध44 23ण् प्लेटिनम इलेक्ट्रोड की उपस्िथति में ब्नैव्के जलीय विलयन का विद्युत् अपघटन करने पर क्या4 होगा? ;पद्ध वैफथोड पर काॅपर निक्षेपित होगा। ;पपद्ध ऐनोड पर काॅपर निक्षेपित होगा। ;पपपद्ध ऐनोड पर आॅक्सीजन निकलेगी। ;पअद्ध ऐनोड पर काॅपर घुलेगा 24ण् काॅपर इलेक्ट्रोडों की उपस्िथति में ब्नैव्के जलीय विलयन का विद्युत् अपघटन करने पर क्या होगा?4 ;पद्ध वैफथोड पर काॅपर निक्षेपित होगा। ;पपद्ध ऐनोड पर काॅपर घुलेगा। ;पपपद्ध ऐनोड पर आॅक्सीजन निकलेगी। ;पअद्ध ऐनोड पर काॅपर निक्षेपित होगा। 25ण् चालकता κ ए बराबर है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ के। ;पद्ध 1 स त्। ’ ;पपद्ध ;पपपद्ध ;पअद्ध26ण् आयनिक विलयन की मोलर चालकता निभर्र करती है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्धताप पर ;पपद्ध इलेक्ट्रोडों के मध्य की दूरी पर ;पपपद्ध विलयन में विद्युत् अपघट्यों की सांद्रता पर ;पअद्ध इलेक्ट्रोडों के पृष्ठीय क्षेत्रापफल पर 27ण् दिए गए सेल, डहद्यडह2़द्यद्य ब्न2़द्यब्न में ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ हैं। ;पद्ध डह वैफथोड ;पपद्ध ब्न वैफथोड ;पपपद्ध डह ़ ब्न2़ ⎯→ डह2़ ़ ब्न सेल अभ्िावि्रफया ;पअद्ध ब्न एक आॅक्सीकरण कमर्क त् Λ उस ।ळ विद्युत् रसायन प्प्प्ण् लघु उत्तर प्रश्न 28ण् क्या किसी इलेक्ट्रोड का परिशु( इलेक्ट्रोड विभव मापा जा सकता है? म्टट29ण् क्या अथवा Δळकभी भी शून्य के बराबर हो सकता है?ब्मसस त 30ण् किन परिस्िथतियों में म् त्र 0 अथवा Δळ त्र 0 होगा?ब्मससत 31ण् म्ट त्र− 0ण्76 ट व्यंजक में )णात्मक मान से क्या तात्पयर् हैघ् र्द2़ध्र्द32ण् काॅपर सल्पेफट और सिल्वर नाइट्रेट के जलीय विलयनों का अलग - अलग विद्युत् अपघटनी सेलों में एक़एम्िपयर प्रवाह द्वारा 10 मिनट तक विद्युत् अपघटन किया गया। वैफथोडों पर निक्षेपित काॅपर और सिल्वरका द्रव्यमान समान होगा कि अलग - अलग? अपने उत्तर को स्पष्ट कीजिए। 33ण् उस गैल्वेनी सेल को चित्रिात कीजिए जिसकी सेल अभ्िावि्रफया ब्न ़ 2।ह़ ⎯→ 2।ह ़ ब्न2़ है। दृ34ण् ब्स आयनों के लिए मानक इलेक्ट्रोड विभव जल से अध्िक ध्नात्मक है पिफर भी जलीय सोडियम क्लोराइड विलयन के विद्युत् अपघटन में जल की बजाए ऐनोड पर ब्सदृ आयन क्यों आक्सीवृफत होता है? 35ण् इलेक्ट्रोड विभव क्या होता है? 36ण् निम्नलिख्िात चित्रा पर विचार कीजिए जिसमें एक विद्युत् रासायनिक सेल को एक विद्युत् अपघटनी सेल के साथ युग्िमत किया गया है? विद्युत् अपघटनी सेल में इलेक्ट्रोड ष्।ष् तथा ष्ठष् की ध्ु्रवणता क्या होगी? चित्राण् 3ण्1 37ण् किसी विद्युत् अपघटनी विलयन के प्रतिरोध् के मापन में प्रत्यावतीर् धरा का प्रयोग क्यों किया जाता है? 38ण् एक गैल्वेनी सेल का विद्युत् विभव 1ण्1ट है। यदि इस सेल पर 1ण्1ट का विपरीत विभव लगाया जाए तो सेल की सेल अभ्िावि्रफया और सेल से प्रवाहित हो रहे विद्युत् प्रवाह पर क्या प्रभाव पड़ेगा? 39ण् जब ब्राइन ;जलीय छंब्सद्ध विलयन का विद्युत् अपघटन किया जाता है तो इसकी चभ् किस प्रकार प्रभावित होती है? 40ण् शुष्क सेल के विपरीत मवर्फरी सेल का सेल विभव अपनी सम्पूणर् उपयोगी आयु में स्िथर क्यों रहता है? 41ण् दो विद्युत् अपघट्यों ष्।ष् और ष्ठष् के विलयनों को तनुवृफत किया जाता है। ष्ठष् का Λ 1ण्5 गुना बढ़ताउ है जबकि । का Λ 25 गुना बढ़ता है। इन दोनों में से कौन - सा प्रबल विद्युत् अपघट्य है? अपने उत्तरउ का औचित्य समझाइए। 42ण् अम्लीवृफत जल ;तनु भ्ैव्विलयनद्ध के विद्युत् अपघटन में क्या विलयन की चभ् प्रभावित होगी?24 अपने उत्तर का औचित्य बताइए। 43ण् जलीय विलयन में विद्युत् अपघट्य की चालकता, जल मिलाने से किस प्रकार परिवतिर्त हेाती है? 44ण् कौन - सा संदभर् इलेक्ट्रोड दूसरे इलेक्ट्रोडों की इलेक्ट्रोड विभव मापने के लिए उपयोग किया जाता है? 45ण् नीचे दिए गए सेल पर विचार कीजिए - ब्नद्यब्न2़द्यद्य ब्स कृद्यब्स2एच्ज ऐनोड व वैफथोड पर होने वाली रासायनिक अभ्िावि्रफयाएँ लिख्िाए। 46ण् डेनियल सेल की सेल अभ्िावि्रफया के लिए नेनर््स्ट समीकरण लिख्िाए। र्द2़ आयनों की सांद्रता में वृि होने पर म्किस प्रकार प्रभावित होगा?ब्मसस 47ण् प्राथमिक और द्वितीयक बैटरियों की तुलना में ईंध्न सेल के क्या लाभ हैं? 48ण् डिस्चाजर् होते समय सीसा संचायक सेल में होने वाली अभ्िावि्रफया लिख्िाए। जब बैटरी डिस्चाजर् होती है तो विद्युत् अपघट्य का घनत्व किस प्रकार प्रभावित होता है? 49ण् तनुता बढ़ाने पर ब्भ्ब्व्व्भ् के Λ का मान तेजी से क्यों बढ़ता है जबकि ब्भ्ब्व्व्छं का Λ3उ 3उ मान ध्ीरे - ध्ीरे से बढ़ता है? प्टण् सुमेलन प्ररूप प्रश्न नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में काॅलम प् एवं काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए। 50ण् काॅलम प् तथा काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए।काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध ∧ उ ;ंद्ध ै बउदृ1 ;पपद्ध म्ब्मसस ;इद्ध उदृ1 ;पपपद्ध κ ;बद्ध ै बउ2 उवसदृ1 ;पअद्ध ळ ’ ;कद्ध ट 41 विद्युत् रसायन 51ण् काॅलम प् एवं काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए।काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध उΛ ;ंद्ध मात्राविहीन गुण ;पपद्ध ब्मसस म्ट ;इद्ध आयनों की संख्या/आयतन पर निभर्र ;पपपद्ध κ ;बद्ध विस्तीणर् गुण ;पअद्ध Δ त ळ ;कद्ध तनुता के साथ बढ़ता है 52ण् काॅलम प् और काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए।53ण् काॅलम प् और काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए। काॅलम प् काॅलम प्प् काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध सीसा संचालक बैटरी ;ंद्ध अध्िकतम दक्षता ;पपद्ध मवर्फरी सेल ;इद्ध यशदलेपन ;ळंसअंउपेंजपवदद्ध के द्वारा रोकथाम ;पपपद्ध ईंध्न सेल ;बद्ध स्िथर विभव देता है ;पअद्ध जंग लगना ;कद्ध च्इ ऐनोड है तथा च्इव्2 वैफथोड है ;पद्ध κ ;ंद्ध प् × ज 0;पपद्ध Λ ;इद्ध Λ ध्Λउ उ उ κ;पपपद्ध α ;बद्ध ब ळ ’ ;पअद्ध फ ;कद्ध त् 54ण् काॅलम प् और काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए।काॅलम प् ;पद्ध लेक्लांशी सेल ;पपद्ध छपदृब्क सेल ;पपपद्ध ईंध्न सेल ;पअद्ध मवर्फरी सेल काॅलम प्प् ;ंद्ध सेल अभ्िावि्रफया 2भ् ़ व्⎯→ 2भ्व्22 2;इद्ध इसमें कोइर् आयन सम्िमलित नहीं होता और सुनने के यंत्रों में उपयोग किया जाता है। ;बद्ध पुनः चाजि±ग योग्य ;कद्ध ऐनोड पर अभ्िावि्रफया, र्द ⎯→ र्द2़ ़ 2मदृ ;मद्ध दहन उफजार् को विद्युत् उफजार् में परिवतिर्त करता है 55ण् निम्नलिख्िात आँकड़ों के आधर पर काॅलम प् और काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए। टट टम्ट दृ त्र2ण्87 ट ए म् त्र−3ण्5 टम् त्र1ण्4 ट ए म् त्र1ण्09 टए दृथ्ध्थ् स्प ध्स्प ़ ।न3़ध्।न ठत ध्ठत 2 2काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध थ्;ंद्ध धतु प्रबलतम अपचायक है ;पपद्ध स्प ;इद्ध धतु आयन जो दुबर्लतम आॅक्सीकरण कमर्क है 2 ;पपपद्ध ।न3़ ;बद्ध अधतु जो कि उत्तम आॅक्सीकरण कमर्क है दृ;पअद्ध ठत ;कद्ध अवि्रफय धतु ;अद्ध ।न ;मद्ध )णायन जो कि ।न3़ द्वारा आॅक्सीवृफत किया जा सकता है। ;अपद्ध स्प़ ;द्धि )णायन जो दुबर्लतम अपचयन कमर्क है ;अपपद्ध थ्दृ ;हद्ध धतु आयन जो कि आॅक्सीकरण कमर्क है टण् अभ्िाकथन एवं तवर्फ प्ररूप प्रश्न नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में अभ्िाकथन के पश्चात संगत तवर्फ का कथन दिया है। निम्नलिख्िात विकल्पोंमें से कथन का चयन करके सही उत्तर दीजिए। ;पद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों सही हैं और तवर्फ अभ्िाकथन का सही स्पष्टीकरण है। ;पपद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों सही कथन हैं परन्तु तवर्फ अभ्िाकथन का स्पष्टीकरण नहीं है। ;पपपद्ध अभ्िाकथन सही है परन्तु तवर्फ गलत कथन है। ;पअद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों ही गलत कथन हैं। ;अद्ध अभ्िाकथन गलत है परन्तु तवर्फ सही कथन है। 56ण् अभ्िाकथन - ब्न हाइड्रोजन की तुलना में कम वि्रफयाशील है। तवर्फ - म्ट )णात्मक है।57ण् अभ्िाकथन - किसी सेल द्वारा कायर् करने के लिए म्ध्नात्मक होना चाहिए।ब्न2़ ध्ब्न ब्मसस तवर्फ - म् ढ म्वैफथोडऐनोड 58ण् अभ्िाकथन - तनुता बढ़ाने पर सभी विद्युत् अपघट्यों की चालकता घटती है। तवर्फ - तनुता बढ़ाने से प्रति इकाइर् आयतन में आयनों की संख्या घटती है। 59ण् अभ्िाकथन - विद्युत् अपघट्य विलयन को तनुवृफत करने पर दुबर्ल विद्युत् अपघट्यों के Λ केउ मान में तीव्र वृि होती है। तवर्फ - दुबर्ल विद्युत् अपघट्यों के विलयन की तनुता बढ़ाने से उनके वियोजन की मात्रा बढ़ती है। 43 विद्युत् रसायन 60ण् अभ्िाकथन - मवर्फरी सेल स्िथर विभव नहीं देता। तवर्फ - सेल अभ्िावि्रफया में कोइर् आयन सम्िमलित नहीं होता। 61ण् अभ्िाकथन - छंब्स विलयन का विद्युत् अपघटन व्2 के बजाए ऐनोड पर क्लोरीन देता है। तवर्फ - ऐनोड पर आॅक्सीजन बनने के लिए अध्िवोल्टता चाहिए। 62ण् अभ्िाकथन तवर्फ - - आयनिक विलयन का प्रतिरोध् मापने के लिए प्रत्यावतीर् धरा को ड्डोत के रूप में काम में ंलेते हैं। यदि दिष्टधरा को ड्डोत के रूप में काम में लेते हैं तो आयनिक विलयन की सांद्रता परिवतिर्त हो जाती है। 63ण् अभ्िाकथन - जब म्ब्मसस त्र 0 होता है तो विद्युत् धरा प्रवाहित होनी बन्द हो जाती है। तवर्फ - सेल अभ्िावि्रफया का साम्य स्थापित हो जाता है। 64ण् अभ्िाकथन - ।ह़ की सांद्रता बढ़ाने पर ़।ह ध्।ह म् बढ़ता है। तवर्फ - ़।ह ध्।ह म् का ध्नात्मक मान होता है। 65ण् अभ्िाकथन - काॅपर सल्प़्ोफट को िांक पात्रा में रखा जा सकता है। तवर्फ - काॅपर की तुलना में िांक कम सवि्रफय होता है। टप्ण् दीघर् उत्तर प्रश्न 66ण् चित्रा 3ण्2 के आधर पर निम्नलिख्िात प्रश्नों के उत्तर दीजिए। चित्रा 3ण्2 ;पद्ध सेल ष्।ष् का म् त्र 2ट तथा सेल ष्ठष् का म् त्र 1ण्1ट है। ष्।ष् तथा ष्ठष् दोनों सेलों में से कौन - सासेल सेलसेल विद्युत् अपघटनी सेल के रूप में कायर् करेगा। इस सेल में होने वाली इलेक्ट्रोड अभ्िावि्रफयाएँ क्या होंगी? ;पपद्ध यदि सेल ष्।ष् का म् त्र 0ण्5ट तथा सेल ष्ठष् का म् त्र 1ण्1ट हो तो ऐनोड व वैफथोड पर क्यासेल सेलअभ्िावि्रफयाएँ होगीं? 67ण् चित्रा 3ण्3 पर विचार कीजिए तथा नीचे दिए गए ;पद्ध से ;अपद्ध तक प्रश्नों के उत्तर दीजिए। ;पद्ध इलेक्ट्राॅन प्रवाह की दिशा दशार्ने के लिए चित्रा को पुनः बनाइए। ;पपद्ध सिल्वर प्लेट ऐनोड है अथवा वैफथोड? ;पपपद्ध क्या होगा यदि लवण सेतु को हटा दिया जाए? ;पअद्ध सेल कायर् करना कब समाप्त कर देगा? ;अद्ध कायर्रत सेल में र्द2़ तथा ।ह़ आयनों की सांद्रता किस प्रकार प्रभावित होगी? चित्रा 3ण्3;अपद्ध सेल समाप्त हो जाने के पश्चात् र्द2़ आयनों तथा ।ह़ आयनों की सांद्रता किस प्रकार प्रभावित होती है? 68ण् गैल्वेनी सेल की मउ िऔर सेल अभ्िावि्रफया की गिब्श उफजार् में क्या संबंध् है? गैल्वेनी सेल से अिाकतम कायर् कब प्राप्त होता है? 45 विद्युत् रसायन प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप - प्द्ध 1ण् ;पपपद्ध 2ण् ;पपद्ध 3ण् ;पपपद्ध 4ण् ;पपद्ध 5ण् ;पअद्ध 6ण् ;पपपद्ध 7ण् ;पपपद्ध 8ण् ;पपद्ध 9ण् ;पपपद्ध 10ण् ;पपद्ध 11ण् ;पअद्ध 12ण् ;पद्ध 13ण् ;पपपद्ध 14ण् ;पअद्ध 15ण् ;पद्ध 16ण् ;पपद्ध 17ण् ;पपद्ध प्प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप - प्प्द्ध 18ण् ;पपद्धए ;पअद्ध 19ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 20ण् ;पपद्धए ;पपपद्ध 21ण् ;पद्धए ;पपद्ध 22ण् ;पद्धए ;पअद्ध 23ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 24ण् ;पद्धए ;पपद्ध 25ण् ;पद्धए ;पपद्ध 26ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 27ण् ;पपद्धए ;पपपद्ध प्प्प्ण् लघु उत्तर प्रश्न 28ण् नहीं 29ण् नहीं 30ण् जब सेल अभ्िावि्रफया साम्यावस्था तक पहुँचेगी। 31ण् इसका तात्पयर् है कि िांक हाइड्रोजन से अध्िक सवि्रफय है। जब िांक इलेक्ट्रोड को ैभ्म् से जोड़ा जाएगा तो र्द आॅक्सीवृफत होगा तथा भ़् अपचयित होगा। 32ण् अलग, एन.सी.इर्.आर.टी. की पाठ्यपुस्तक का पृष्ठ 85 देखें। 33ण् ब्नद्यब्न2़द्यद्य ।ह़द्य।ह 34ण् जलीय सोडियम क्लोराइड के विद्युत् अपघटन की अवस्थाओं में जल के आॅक्सीकरण के लिए अध्िवोल्टता की आवश्यकता होती है अतः जल की बजाए ब्सदृ आॅक्सीवृफत होता है। 35ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की पाठ्यपुस्तक का पृष्ठ 65 देखें। 36ण् ष्।ष् की )णात्मक ध्ु्रवणता होगी। ष्ठष् की ध्नात्मक ध्ु्रवणता होगी। 37ण् प्रत्यावतीर् धरा विद्युत् अपघटन को रोकती है जिससे आयनों की सांद्रता स्िथर बनी रहती है। 38ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक का पृष्ठ 63 देखें। 39ण् विलयन की चभ् में वृि होगी क्योंकि विद्युत् अपघटनी सेल में छंव्भ् बनेगा। 40ण् मवर्फरी सेल की सम्पूणर् सेल अभ्िावि्रफया में कोइर् आयन सम्िमलित नहीं होता। 41ण् ष्ठष् एक प्रबल विद्युत् अपघट्य है। तनुकरण से इसमें आयनों की संख्या समान रहती है केवल अन्तरआयनिक आकषर्ण घटते हैं जिससे Λ मंे कम वृि होती है।उ 42ण् विलयन की चभ् प्रभावित नहीं होगी क्योंकि हाइड्रोजन आयन सांद्रता, ख्भ़्, स्िथर रहती है। ऐनोड पर - 2भ्व् ⎯→ व् ़ 4भ़् ़ 4मदृ 22वैफथोड पर - 4भ़् ़ 4मदृ ⎯→ 2भ्2 43ण् चालकता कम होती है क्योंकि प्रति आयतन आयनों की संख्या कम हो जाती है। 44ण् मानक हाइड्रोजन इलेक्ट्रोड एक संदभर् इलेक्ट्रोड है जिसका इलेक्ट्रोड विभव शून्य माना जाता है। अन्य इलेक्ट्रोडों का इलेक्ट्रोड विभव इसके संदभर् में मापा जाता है। 45ण् ऐनोड - ब्न ⎯→ ब्न2़ ़ 2मदृ वैफथोड - ब्स2 ़ 2मदृ ⎯→ 2ब्सदृ ब्न ऐनोड है क्योंकि इसका आॅक्सीकरण हो रहा है। ब्सवैफथोड है क्योंकि इसका अपचयन हो रहा है।2 46ण् र्द ़ ब्न2़ ⎯→ र्द2़ ़ ब्न ट 0ण्059 ख्र्द 2़,म् त्र म् दृ सवह 2़सेल सले2 ख्ब्न , जब र्द2़ आयनों की सांद्रता, ख्र्द2़, बढ़ती है तो म्सेल घटता है। 47ण् प्राथमिक बैटरियों में अभ्िावि्रफयकों की मात्रा सीमित होती है इसलिए अभ्िावि्रफयकों की मात्रा समाप्त होने पर यह कायर् करना बंद कर देती हैं। द्वितीयक बैटरियाँ चाजर् हो सकती हैं परन्तु चाजर् होने में अध्िक समय लेती हैं। ईंध्न सेल में जब तक अभ्िावि्रफयकों की आपूतिर् होती रहती है और उत्पाद लगातार निकलते रहते हैं, सेल लगातार कायर् करता रहता है। 48ण् च्इ ़ च्इव् ़ 2भ्ैव्⎯→ 2च्इैव् ़ 2भ्व्2 24 42बैटरी डिस्चाजर् होने के दौरान सल्फ्रयूरिक अम्ल का उपयोग होता है तथा जल एक उत्पाद के रूप में बनता है, अतः विद्युत् अपघट्यों का घनत्व कम होता जाता है। 49ण् ब्भ्ब्व्व्भ् एक दुबर्ल विद्युत् अपघट्य होने के कारण तनुता बढ़ाने पर वियोजन की मात्रा बढ़ती3है, अतः आयनों की संख्या में वृि हो जाती है। व़्ब्भ्3ब्व्व्भ् ़ भ्2व् ब्भ्3ब्व्व्दृ ़ भ्3प्रबल विद्युत् अपघट्यों की स्िथति में आयनों की संख्या समान रहती है लेकिन अंतराआयनी आकषर्ण घट जाता है। 47 विद्युत् रसायन प्टण् सुमेलन प्ररूप प्रश्न 50ण् ;पद्ध → ;बद्ध;पपद्ध → ;कद्ध;पपपद्ध → ;ंद्ध;पअद्ध → ;इद्ध 51ण् ;पद्ध → ;कद्ध;पपद्ध → ;ंद्ध;पपपद्ध → ;इद्ध;पअद्ध → ;बद्ध 52ण् ;पद्ध → ;कद्ध;पपद्ध → ;बद्ध;पपपद्ध → ;ंद्ध;पअद्ध → ;इद्ध 53ण् ;पद्ध → ;कद्ध;पपद्ध → ;बद्ध;पपपद्ध → ;इद्ध;पअद्ध → ;ंद्ध 54ण् ;पद्ध → ;कद्ध;पपद्ध → ;बद्ध;पपपद्ध → ;ंद्ध, ;मद्ध;पअद्ध → ;इद्ध 55ण् ;पद्ध → ;बद्ध;पपद्ध → ;ंद्ध;पपपद्ध → ;हद्ध;पअद्ध → ;मद्ध ;अद्ध → ;कद्ध;अपद्ध → ;इद्ध;अपपद्ध → ;हद्ध, ;द्धि टण् अभ्िाकथन एवं तवर्फ प्ररूप प्रश्न 56ण् ;पपपद्ध 57ण् ;पपपद्ध 58ण् ;पद्ध 59ण् ;पद्ध 60ण् ;अद्ध 61ण् ;पद्ध 62ण् ;पद्ध 63ण् ;पद्ध 64ण् ;पपद्ध 65ण् ;पअद्ध टप्ण् दीघर् उत्तर प्रश्न 66ण् ;पद्ध सेल ष्ठष् विद्युत् अपघटनी सेल के रूप में कायर् करेगा क्योंकि इसका मउ िकम है। ∴ इलेक्ट्रोड अभ्िावि्रफयाएँ होंगी - वैफथोड पर र्द2़ ़ 2मदृ ⎯→ र्द ऐनोड पर ब्न ⎯→ ब्न2़ ़ 2मदृ ;पपद्ध अब सेल ष्ठष् गैल्वेनी सेल के रूप में कायर् करेगा क्योंकि इसका मउ िअध्िक है। यह सेल ष्।ष् में इलेक्ट्राॅन भेजेगा। इलेक्ट्रोड अभ्िावि्रफयाएँ निम्नलिख्िात हांेगी - ऐनोड पर - र्द ⎯→ र्द2़ ़ 2मदृ वैफथोड पर - ब्न2़ ़ 2मदृ ⎯→ ब्न 67ण् संकेत रू ;पद्ध इलेक्ट्राॅन र्द से ।ह की ओर गमन करते हैं। ;पपद्ध ।ह वैफथोड है। ;पपपद्ध सेल कायर् करना बन्द कर देगा। ;पअद्धजब म्सेल त्र 0ण् ;अद्ध र्द2़ आयनों की सांद्रता बढ़ेगी तथा ।ह़ आयनों की सांद्रता घटेगी। ;अपद्ध जब म्सेल त्र 0 होगा तो साम्य स्थापित हो जाएगा तथा र्द2़ आयनों और ।ह़ आयनों की सांद्रता परिवतिर्त नहीं होगी। 68ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक देखें।

RELOAD if chapter isn't visible.