प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप.प्द्ध 1ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा प्रव्रफम प्रावस्थाओं के अंतरापृष्ठ पर घटित नहीं होता है। ;पद्ध वि्रफस्टलीकरण ;पपद्ध विषमांगी उत्प्रेरण ;पपपद्ध समांगी उत्प्रेरण ;पअद्ध संक्षारण 2ण् अध्िशोषण के प्रव्रफम में साम्यावस्था पर ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ । ;पद्ध Δभ् झ 0 ;पपद्ध Δभ् त्र ज्Δै ;पपपद्ध Δभ् झ ज्Δै ;पअद्ध Δभ् ढ ज्Δै 3ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा अंतरापृष्ठ प्राप्त नहीं किया जा सकता? ;पद्ध द्रव - द्रव ;पपद्ध ठोस - द्रव ;पपपद्ध द्रव - गैस ;पअद्ध गैस - गैस 4ण् ‘शोषण’ शब्द का प्रयोग किसके लिए किया जाता है? ;पद्ध अवशोषण ;पपद्ध अध्िशोषण ;पपपद्ध अवशोषण और अध्िशोषण दोनों ;पअद्ध विशोषण 5ण् गैस के भौतिक अध्िशोषण की मात्रा बढ़ती है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ । ;पद्ध ताप के बढ़ने पर ;पपद्ध ताप के घटने पर ;पपपद्ध अध्िशोषक का पृष्ठ क्षेत्रा घटने पर ;पअद्ध वान्डरवाल्स बलांे की प्रबलता कम होने पर 6ण् विलयन में से अध्िशोष्य के अध्िशोषण की मात्रा बढ़ती है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ । ;पद्ध विलयन में अध्िशोष्य की मात्रा बढ़ने के साथ ;पपद्ध अध्िशोषक का पृष्ठ क्षेत्रा घटने के साथ ;पपपद्ध विलयन का ताप बढ़ने के साथ ;पअद्ध विलयन में अध्िशोष्य की मात्रा घटने के साथ 7ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा अध्िशोषण की परिघटना पर लागू नहीं होता? ;पद्ध Δभ् झ 0 ;पपद्ध Δळ ढ 0 ;पपपद्ध Δै ढ 0 ;पअद्ध Δभ् ढ 0 8ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सी परिस्िथति भौतिक अध्िशोषण के लिए एक अनुवूफल नहीं है? ;पद्ध उच्च दाब ;पपद्ध )णात्मक Δभ् ;पपपद्ध अध्िशोष्य का उच्च व्रफांतिक ताप ;पअद्ध उच्च ताप 9ण् गैसीय स्पीशीश का भौतिक अध्िशोषण किसके द्वारा रासायनिक अध्िशोषण में परिवतिर्त हो सकता है? ;पद्ध ताप में कमी से ;पपद्ध ताप में वृि से ;पपपद्ध अध्िशोषक के पृष्ठ क्षेत्रा में वृि से ;पअद्ध अध्िशोषक के पृष्ठ क्षेत्रा में कमी से 10ण् भौतिक अध्िशोषण में अध्िशोषक किसी एक गैस के लिए विश्िाष्टता प्रदश्िार्त नहीं करता, क्योंकि ऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध संबंध्ित वान्डरवाल्स बल व्यापक होते हैं। ;पपद्ध संबंध्ित गैसें आदशर् गैसों के समान व्यवहार करती हैं। ;पपपद्ध अध्िशोषण की एन्थैल्पी कम होती है। ;पअद्ध यह उत्व्रफमणीय प्रव्रफम होता है। 11ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा अवशोषण का एक उदाहरण है? ;पद्ध सिलिका जेल पर जल ;पपद्ध वैफल्िसयम क्लोराइड पर जल ;पपपद्ध सूक्ष्म विभाजित निवैफल पर हाइड्रोजन ;पअद्ध धतु पृष्ठ पर आॅक्सीजन 12ण् दिए गए आकड़ों के आधर पर बताइए कि निम्नलिख्िात में से कौन - सी गैस चारकोल की निश्िचत मात्रा पर सबसे कम अध्िशोष्िात होती है? 13ण् निम्नलिख्िात अभ्िावि्रफयाओं में से किसमें विषमांगी उत्प्रेरण हो रहा है? गैस ब्व्2 ैव्2 ब्भ्4 भ्2 व्रफांतिक तापध्ज्ञ 304 630 190 33 ;पद्ध ब्व्2 ;पपद्ध ैव्2 ;पपपद्ध ब्भ्4 ;पअद्ध भ्2 ;कद्ध 2ैव्;हद्ध ़ व्;हद्ध ⎯⎯⎯⎯छव्;हद्ध → 2ैव्;हद्ध22 3 ⎯⎯⎯⎯च्ज;ेद्ध ;खद्ध 2ैव्;हद्ध → 2ैव्;हद्ध2 3 ⎯⎯⎯⎯थ्म;ेद्ध ;गद्ध छ;हद्ध ़ 3भ्;हद्ध → 2छभ्;हद्ध22 3 ;घद्ध ब्भ्ब्व्व्ब्भ्;सद्ध ़ भ्व् ;सद्ध ⎯⎯⎯⎯भ्ब्स;सद्ध → ब्भ्ब्व्व्भ् ;ंुण्द्ध ़ ब्भ्व्भ् ;ंुण्द्ध332 33;पद्ध ;खद्ध, ;गद्ध ;पपद्ध ;खद्ध, ;गद्ध, ;घद्ध ;पपपद्ध ;कद्ध, ;खद्ध, ;गद्ध ;पअद्ध ;घद्ध 14ण् जल में साबुन की सांद्रता उच्च होने पर साबुन किसके समान व्यवहार करता है? ;पद्ध आण्िवक कोलाॅइड ;पपद्ध सहचारी कोलाॅइड ;पपपद्ध वृहदाण्िवक कोलाॅइड ;पअद्ध द्रवरागी कोलाॅइड 15ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा टिन्डल प्रभाव प्रदश्िार्त करेगा? ;पद्ध व्रफांतिक मिसेल सांद्रता के नीचे साबुन का जलीय विलयन ;पपद्ध व्रफांतिक मिसेल सांद्रता के उफपर साबुन का जलीय विलयन ;पपपद्ध सोडियम क्लोराइड का जलीय विलयन ;पअद्ध शवर्फरा का जलीय विलयन 16ण् किस विध्ि द्वारा द्रवविरागी साॅल का रक्षण किया जा सकता है? ;पद्ध विपरीत आवेश वाला साॅल मिलाकर ;पपद्ध एक विद्युत् अपघट्य मिलाकर ;पपपद्ध द्रवरागी साॅल मिलाकर ;पअद्ध उबालकर 17ण् ताशा बना अवक्षेप किसके द्वारा कभी - कभी कोलाॅइडी विलयन में परिवतिर्त हो जाता है? ;पद्ध स्वंफदन ;पपद्ध वैद्युत् अपघटन ;पपपद्ध विसरण ;पअद्ध पेप्टन 18ण् निम्नलिख्िात वैद्युत् अपघट्यों में से ।हप्ध्।ह़ साॅल के लिए किसका स्वंफदन मान अध्िकतम होगा? ;पद्ध छंै;पपद्ध छंच्व्234 ;पपपद्ध छंैव्24 ;पअद्ध छंब्स 19ण् उस कोलाॅइडी तंत्रा को जिसमें ठोस पदाथर् परिक्ष्िाप्त प्रावस्था के रूप में तथा द्रव परिक्षेपण माध्यम के रूप में होता है, वैफसे वगीर्वृफत करते हैं? ;पद्ध ठोस साॅल ;पपद्ध जेल ;पपपद्ध इमल्शन ;पायसद्ध ;पअद्ध साॅल 20ण् कोलाॅइडी विलयन के अणुसंख्य गुणों के मान उसी सांद्रता के वास्तविक विलयन के मानों की तुलना में कम होते हैं, क्योंकि कोलाॅइडी कण - ;पद्ध वृहत पृष्ठ क्षेत्रा प्रदश्िार्त करते हैं। ;पपद्ध परिक्षेपण माध्यम में निलंबित रहते हैं। ;पपपद्ध द्रवरागी कोलाॅइड बनाते हैं। ;पअद्ध तुलनात्मक दृष्िट से संख्या में कम होते हैं। 21ण् निम्नलिख्िात चित्रों को आध्ुनिक अध्िशोषण सि(ांत के अनुसार, उत्प्रेरण की वि्रफयाविध्ि में सम्िमलित चरणों के सही व्रफम में व्यवस्िथत कीजिए। ;पद्ध ं ⎯→ इ ⎯→ ब ⎯→ क ⎯→ म ;पपद्ध ं ⎯→ ब ⎯→ इ ⎯→ क ⎯→ म ;पपपद्ध ं ⎯→ ब ⎯→ इ ⎯→ म ⎯→ क ;पअद्ध ं ⎯→ इ ⎯→ ब ⎯→ म ⎯→ क 22ण् नदियों और समुद्र के मिलने के स्थान पर डेल्टा बनाने के लिए निम्नलिख्िात में से कौन - सा प्रव्रफमउत्तरदायी है? ;पद्ध पायसीकरण ;पपद्ध कोलाॅइड बनना ;पपपद्ध स्वंफदन ;पअद्ध पेप्टन 23ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा वव्रफ प्रफाॅयन्डलिक अध्िशोषण समतापी है? ;पपपद्ध ;पअद्ध 24ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा प्रव्रफम साॅल कणों पर विद्युत् आवेश की उपस्िथति के लिएउत्तरदायी नहीं है? 25ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सी परिघटनाएँ चित्रा 5.1 में दिखाए प्रव्रफम पर लागू होती हैं? ;पद्ध अवशोषण ;पपद्ध अध्िशोषण ;पद्ध साॅल कणों द्वारा इलेक्ट्राॅन प्रग्रहण ;पपद्ध विलयन से आयनिक स्पीशीश का अध्िशोषण ;पपपद्ध हेल्महोल्स विद्युतीय दोहरी परत का बनना ;पअद्ध विलयन से आयनिक स्पीशीश का अवशोषण ;पपपद्ध स्वंफदन ;पअद्ध इमल्सीकरण ;पायसीकरणद्ध प्प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप.प्प्द्ध नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में दो या इससे अध्िक विकल्प सही हो सकते हैं। 26ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा विकल्प सही है? ;पद्ध साबुनों के मिसेल का बनना सभी तापों पर संभव है। ;पपद्ध साबुनों के मिसेल किसी विशेष सांद्रता के बाद बनते हैं। ;पपपद्ध साबुन के विलयन का तनुकरण करने से मिसेल वापस अलग - अलग आयनों में टूट जाते हैं। ;पअद्ध साबुन का विलयन सभी सांद्रताओं पर सामान्य प्रबल वैद्युत् अपघट्य के समान व्यवहार करता है। 27ण् ठोस उत्प्रेरक के लिए निम्नलिख्िात में से कौन - से कथन सत्य हैं? ;पद्ध वही अभ्िावि्रफयक दूसरा उत्प्रेरक उपयोग में लाने पर अलग उत्पाद दे सकते हैं। ;पपद्ध उत्प्रेरक अभ्िावि्रफया का Δभ् परिवतिर्त नहीं करता। ;पपपद्ध अभ्िावि्रफयाओं के उत्प्रेरण हेतु भारी मात्रा में उत्प्रेरक की आवश्यकता होती है। ;पअद्ध ठोस उत्प्रेरकों की उत्प्रेरण वि्रफया रसोवशोषण की प्रबलता पर निभर्र नहीं होती। 1 गद28ण् प्रफाॅयन्डलिक अध्िशोषण समतापी को त्र ाच व्यंजक द्वारा दिया जाता है। इस व्यंजक सेउ निम्नलिख्िात में से कौन - से परिणाम निकलते हैं? ;पद्ध जब 1 त्र 0, तो अध्िशोषण पर दाब का प्रभाव नहीं पड़ेगा।द;पपद्ध जब 1 त्र 0, तो अध्िशोषण दाब के अनुव्रफमानुपाती होगा।दग;पपपद्ध जब द त्र 0ए तो और च के मध्य ग्रापफ़ग.अक्ष के समांतर एक रेखा होती है।उ ग ़;पअद्ध जब द त्र 0ए तो और च के मध्य ग्रापफ एक वव्रफ होता है।उ 29ण् आसानी से द्रवित हो जाने वाली गैसों की तुलना में भ्गैस सवि्रफयित चारकोल पर बहुत कम सीमा तक2 अध्िशोष्िात होती है, जिसका कारण है - ;पद्ध अति प्रबल वान्डरवाल्स अन्योन्यवि्रफया ;पपद्ध अति दुबर्ल वान्डरवाल्स बल ;पपपद्ध अति निम्न व्रफांतिक ताप ;पअद्ध अति उच्च व्रफांतिक ताप 30ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से कथन सही हैं? ;पद्ध दो विपरीत आवेश वाले साॅलों को मिलाने से उनके आवेश उदासीन हो जाते हैं और कोलाॅइड स्थायी हो जाता है। ;पपद्ध कोलाॅइड कणों पर बराबर और एक जैसा आवेश कोलाॅइडों को स्थायित्व प्रदान करता है। ;पपपद्ध पायसों को बिना अस्थायी बनाए उनमें परिक्ष्िाप्त द्रव की कोइर् भी मात्रा मिलाइर् जा सकती है। ;पअद्ध ब्रउनी गति साॅलों को स्थायित्व देती है। 31ण् पायस को ऋऋऋऋऋऋऋऋऋ एवं ऋऋऋऋऋऋऋऋऋ द्वारा तोड़ा नहीं जा सकता। ;पद्ध गरम करना ;पपद्ध परिक्षेपण माध्यम की अध्िक मात्रा मिलाकर ;पपपद्ध हिमन ;पअद्ध पायसीकमर्क मिलाकर 32ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से पदाथर् )ण आवेश्िात इमल्शनों को अवक्षेपित कर सकते हैं? ;पद्ध ज्ञब्स ;पपद्ध ग्लूकोस ;पपपद्ध यूरिया ;पअद्ध छंब्स 33ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से कोलाॅइड आसानी से स्वंफदित नहीं हो सकते? ;पद्ध द्रवविरागी कोलाॅइड ;पपद्ध अनुत्व्रफमणीय कोलाॅइड ;पपपद्ध उत्व्रफमणीय कोलाॅइड ;पअद्ध द्रवरागी कोलाॅइड 34ण् जब एक द्रवरागी साॅल को एक द्रवविरागी साॅल में मिलाया जाता है तो क्या होता है? ;पद्ध द्रवविरागी साॅल का रक्षण होता है। ;पपद्ध द्रवरागी साॅल का रक्षण होता है। ;पपपद्ध द्रवरागी साॅल की प्िाफल्म द्रवविरागी साॅल पर बनती है।़;पअद्ध द्रवविरागी साॅल की प्िाफल्म द्रवरागी साॅल पर बनती है।़35ण् जब एक कोलाॅइडी विलयन पर विद्युत् क्षेत्रा लगाया जाता है और वैद्युत कण - संचलन रुक जाता है तो क्या परिघटना होती है? ;पद्ध प्रतिलोम परासरण होने लगता है। ;पपद्ध वैद्युत् परासरण होने लगता है। ;पपपद्ध परिक्षेपण माध्यम गति करना प्रारम्भ कर देता है। ;पअद्ध परिक्षेपण माध्यम स्िथर हो जाता है। 36ण् अभ्िावि्रफया में उत्प्रेरक में किस प्रकार का परिवतर्न होता है? ;पद्ध भौतिक ;पपद्ध गुणात्मक ;पपपद्ध रासायनिक ;पअद्ध मात्रात्मक 37ण् जब एक चाक को स्याही में डुबोया जाता है तो निम्नलिख्िात में से कौन - सी परिघटनाएँ होती हैं? ;पद्ध रंगीन पदाथर् का अध्िशोषण ;पपद्ध विलायक का अध्िशोषण ;पपपद्ध विलायक का अध्िशोषण और अवशोषण दोनों ;पअद्ध विलायक का अवशोषण प्प्प्ण् लघु उत्तर प्रश्न 38ण् पृष्ठ अध्ययन में पृष्ठ का सापफ होना महत्वपूणर् क्यों है? 39ण् रसोवशोषण को सवि्रफयित अध्िशोषण के रूप में क्यों जाना जाता है? 40ण् साबुन को जल में विभ्िान्न सांद्रताओं में घोलने पर किस प्रकार के विलयन बनते हैं? 41ण् जब गोल्ड साॅल में जिलेटिन मिलाया जाता है तो क्या होता है? 42ण् बादलों पर सिल्वर आयोडाइड छिड़कने से वृफत्रिाम वषार् उत्पन्न करना वैफसे संभव हो जाता है? 43ण् आइसव्रफीम में जिलेटिन, जो कि पेप्टाइड होता है, मिलाया जाता है। इसे क्यों मिलाया जाता होगा? 44ण् कोलोडियन क्या होता है? 45ण् जल के शुिकरण हेतु हम उसमें पिफटकरी क्यों डालते हैं? 46ण् जब कोलाॅइडी विलयन पर विद्युत् क्षेत्रा अनुप्रयुक्त किया जाता है तो क्या होता है? 47ण् कोलाॅइडी परिक्षेपण में ब्राउनी गति किस कारण होती है? 48ण् गरम जल के आध्िक्य में थ्मब्समिलाकर एक कोलाॅइड बनाया गया। यदि इस कोलाॅइड में छंब्स3 आिाक्य में मिलाया जाए तो क्या होगा? 49ण् पायसीकमर्क पायस को स्थायी वैफसे बनाते हैं? 50ण् वुफछ औषध् कोलाॅइडी रूप में अध्िक असरदार होते हैं। क्यों? 51ण् चमर्शोध्न के पश्चात् चमर् कठोर क्यों हो जाता है? 52ण् काॅट्रेल अवक्षेपक में कोलाॅइडी ध्ुएँ का अवक्षेपण वैफसे होता है? 53ण् आप एक पायस में परिक्ष्िाप्त प्रावस्था और परिक्षेपण माध्यम में विभेद वैफसे करेंगे? 54ण् हाडीर् - शुल्से नियम के आधर पर समझाइए कि पफाॅस्प़्ोफट की स्वंफदन शक्ित क्लोराइड की अपेक्षा उच्च़क्यों होती है? 55ण् नम पिफटकरी रगड़ने से रक्तस्राव क्यों रुक जाता है? 56ण् गरम जल में थ्मब्सडालकर बनाया गया थ्म;व्भ्द्धका कोलाॅइड ध्न आवेश्िात क्यों होता है?3 3 57ण् ताप बढ़ने पर भौतिक अध्िशोषण और रासायनिक अध्िशोषण भ्िान्न व्यवहार क्यों दशार्ते हैं? 58ण् यदि अपोहन लम्बे समय तक किया जाए तो क्या होता है? 59ण् इओसिन रंजक की उपस्िथति में श्वेत रंग का सिल्वर हैलाइड का अवक्षेप रंगीन क्यों हो जाता है? 60ण् कोयले की खानों में उपयोग किए जाने वाले गैस मास्क में सवि्रफयित चारकोल की क्या भूमिका होती है? 61ण् नदी और समुद्र के मिलने वाले स्थान पर डेल्टा वैफसे बनता है? 62ण् एक उदाहरण दीजिए जिसमें ताप की वृि के साथ भौतिक अध्िशोषण, रसोवशोषण में परिवतिर्त हो जाता है। इस परिवतर्न का कारण लिख्िाए। 63ण् किसी पदाथर् के लिए एक अच्छे उत्प्रेरक के रूप में कायर् करने हेतु विशोषण महत्वपूणर् क्यों होता है? 64ण् विषमांगी उत्प्रेरण में विसरण की क्या भूमिका होती है? 65ण् ठोस उत्प्रेरक गैसीय अणुओं के मध्य संयुक्त होने की दर को किस प्रकार बढ़ाता है? 66ण् क्या बुखार के समय शरीर के पाचन जैसे जैव कायर् प्रभावित होते हैं? अपना उत्तर स्पष्ट कीजिए। प्टण् सुमेलन प्ररूप प्रश्न नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में काॅलम प् और काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए। 67ण् काॅलम प् में विलयन बनाने की विध्ियाँ दी गइर् हैं इन्हें काॅलम प्प् में दिए गए विलयन के प्रकारों से सुमेलित कीजिए।काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध सल्पफर की वाष्प को ठंडे जल ;ंद्ध सामान्य वैद्युत् अपघट्य विलयन में से प्रवाहित किया जाता है ;पपद्ध व्रफांतिक मिसेल सांद्रता से अध्िक सांद्रता ;इद्ध आण्िवक कोलाॅइड में जल में मिश्रित साबुन ;पपपद्ध जल के साथ पेंफटी गइर् अण्डे की सपेफदी ;बद्ध सहचारी कोलाॅइड ;पअद्ध व्रफांतिक मिसेल सांद्रता से कम सांद्रता ;कद्ध वृहदाण्िवक कोलाॅइड में जल में मिश्रित साबुन 68ण् काॅलम प् मंे दिए गए कथनों को काॅलम प्प् में दी गइर् परिघटनाओं से सुमेलित कीजिए। काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध परिक्षेपित माध्यम विद्युत् क्षेत्रा में गति करता है। ;ंद्ध परासरण ;पपद्ध विलायक के अणु अध्र्पारगम्य झिल्ली से ;इद्ध वैद्युत् कण - संचलन पार होकर विलायक की ओर जाते हैं। ;पपपद्ध आवेश्िात कोलाॅइडी कण लगाए गए विद्युत् ;बद्ध वैद्युत परासरण विभव के प्रभाव से विपरीत आवेश्िात इलेक्ट्रोडों की ओर गति करते हैं। ;पअद्ध विलायक के अणु अध्र्पारगम्य झिल्ली को पार ;कद्ध प्रतिलोम परासरण करके विलयन की ओर जाते हैं। 69ण् काॅलम प् और काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए।काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध रक्षी कोलाॅइड ;ंद्ध थ्मब्स3 ़ छंव्भ् ;पपद्ध द्रव - द्रव कोलाॅइड ;इद्ध द्रवरागी कोलाॅइड ;पपपद्ध ध्न आवेश्िात कोलाॅइड ;बद्ध पायस ;पअद्ध )ण आवेश्िात कोलाॅइड ;कद्ध थ्मब्स3 ़ गरम जल 70ण् काॅलम प् में दिए कोलाॅइडी तंत्रों के प्रकारों को काॅलम प्प् में दिए नामों से सुमेलित कीजिए। काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध द्रव में ठोस ;ंद्ध पफोम ;पपद्ध ठोस में द्रव ;इद्ध साॅल ;पपपद्ध द्रव में द्रव ;बद्ध जेल ;पअद्ध द्रव में गैस ;कद्ध पायस 71ण् काॅलम प् और काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए।काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध अपोहन ;ंद्ध साबुन की माजर्न वि्रफया ;पपद्ध पेप्टन ;इद्ध स्वंफदन ;पपपद्ध पायसीकरण ;बद्ध कोलाॅइडी साॅल बनना ;पअद्ध वैद्युत कण - संचलन ;कद्ध शुिकरण 72ण् काॅलम प् मंे दिए गए मदों को काॅलम प्प् में दिए गए परिक्षेपण के प्रकारों से सुमेलित कीजिए। काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध मक्खन ;ंद्ध द्रव का द्रव में परिक्षेपण ;पपद्ध प्यूमिस पत्थर ;इद्ध ठोस का द्रव में परिक्षेपण ;पपपद्ध दूध् ;बद्ध गैस का ठोस में परिक्षेपण ;पअद्ध पेन्ट ;कद्ध द्रव का ठोस में परिक्षेपण टण् अभ्िाकथन एवं तवर्फ प्ररूप प्रश्न नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में अभ्िाकथन के पश्चात संगत तवर्फ का कथन दिया है। निम्नलिख्िात विकल्पोंमें से कथन का चयन करके सही उत्तर दीजिए। ;पद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों सही हैं और तवर्फ अभ्िाकथन का सही स्पष्टीकरण है। ;पपद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों सही कथन हैं परन्तु तवर्फ अभ्िाकथन का स्पष्टीकरण नहीं है। ;पपपद्ध अभ्िाकथन सही है परन्तु तवर्फ गलत कथन है। ;पअद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों ही गलत कथन हैं। ;अद्ध अभ्िाकथन गलत है परन्तु तवर्फ सही कथन है। 73ण् अभ्िाकथन - कोलोडियन विलयन से संसेचित एक साधरण पिफल्टर पत्रा कोलाॅइडी कणों के प्रवाह को रोकता है। तवर्फ - पिफल्टर पत्रा के रंघ्रों का आकार, कोलाॅइडी कणों के आकार से बड़ा हो जाता है। 74ण् अभ्िाकथन - कोलाॅइडी विलयन अणुसंख्य गुण प्रदश्िार्त करते हैं। तवर्फ - कोलाॅइडी कण बड़े आकार के होते हैं। 75ण् अभ्िाकथन - कोलाॅइडी विलयन ब्राउनी गति प्रदश्िार्त नहीं करते। तवर्फ - ब्राउनी गति साॅलों के स्थायित्व के लिए उत्तरदायी होती है। 76ण् अभ्िाकथन - ।स3़ की स्वंफदन शक्ित छं़ की तुलना में अध्िक होती है। तवर्फ - उफणीर् कमर्क आयन की संयोजकता जितनी अध्िक होती है इसकी अवक्षेपण क्षमता उतनी ही अध्िक होती है ;हाडीर् - शुल्से नियमद्ध। 77ण् अभ्िाकथन - कम व्रफांतिक मिसेल सांद्रता वाले अपमाजर्कों का उपयोग अध्िक मितव्ययी होता है। तवर्फ - अपमाजर्न वि्रफया में मिसेल निमार्ण होता है जिसके बनने के लिए अपमाजर्क की सांद्रता व्रफांतिक मिसेल सांद्रता के बराबर होनी चाहिए। टप्ण् दीघर् उत्तर प्रश्न 78ण् विषमांगी उत्प्रेरण में अध्िशोषण की क्या भूमिका है? 79ण् रासायनिक विश्लेषण में अध्िशोषण के अनुप्रयोग क्या हैं? 80ण् सल्पफाइड अयस्कों के सांद्रण में विशेष रूप से उपयोग में लिए जाने वाले पेफन प्लवन प्रव्रफम में अिाशोषण की क्या भूमिका है? 81ण् आप आकार वरणात्मक उत्प्रेरण से क्या समझते हैं? िाओलाइट अच्छे आकार वरणात्मक उत्प्रेरक क्यों होते हैं? प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप - प्द्ध 1ण् ;पपपद्ध 2ण् ;पपद्ध 3ण् ;पअद्ध 4ण् ;पपपद्ध 5ण् ;पपद्ध 6ण् ;पद्ध 7ण् ;पद्ध 8ण् ;पअद्ध 9ण् ;पपद्ध 10ण् ;पद्ध 11ण् ;पपद्ध 12ण् ;पअद्ध 13ण् ;पद्ध 14ण् ;पपद्ध 15ण् ;पपद्ध 16ण् ;पपपद्ध 17ण् ;पअद्ध 18ण् ;पपद्ध 19ण् ;पअद्ध 20ण् ;पअद्ध 21ण् ;पपद्ध 22ण् ;पपपद्ध 23ण् ;पपपद्ध 24ण् ;पअद्ध 25ण् ;पपद्ध प्प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप - प्प्द्ध 26ण् ;पपद्धए ;पपपद्ध 27ण् ;पद्धए ;पपद्ध 28ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 29ण् ;पपद्धए ;पपपद्ध 30ण् ;पपद्धए ;पअद्ध 31ण् ;पपद्धए ;पअद्ध 32ण् ;पद्धए ;पअद्ध 33ण् ;पपपद्धए ;पअद्ध 34ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 35ण् ;पपद्धए ;पपपद्ध 36ण् ;पद्धए ;पपद्ध 37ण् ;पद्धए ;पअद्ध प्प्प्ण् लघु उत्तर प्रश्न 38ण् पृष्ठ का सापफ होना महत्त्वपूणर् है, क्योंकि यह वांछित स्पीशीश के अध्िशोषण को सुगम बनाता है। 39ण् रसोवशोषण में गैसीय अणुओं/परमाणुओं के ठोस पृष्ठ के साथ बंध् बनते हैं, जिसके लिए उच्च सवि्रफयण उफजार् की आवश्यकता होती है। अतः इसे सवि्रफयित अध्िशोषण के रूप में जाना जाता है। 40ण् निम्न सांद्रता में साबुन जल में सामान्य वैद्युत् अपघटनी विलयन बनाता है। एक विशेष सांद्रता, जिसे व्रफांतिक मिसेल सांद्रता कहते हैं, के बाद कोलाॅइडी विलयन बनता है। 41ण् गोल्ड साॅल एक द्रवविरागी साॅल होता है। जिलेटिन मिलाना इस साॅल को स्थायी बनाता है। 42ण् बादल कोलाॅइडी प्रवृफति के होते हैं और उनमें आवेश होता है। वैद्युत् अपघट्य, सिल्वर आयोडाइड के छिड़कने से स्वंफदन होता है, जिसके परिणामस्वरूप वषार् होती है। 43ण् आइसव्रफीम पायस होती हैं, जो जिलेटिन जैसे पायसी कमर्क मिलाने पर स्थायीवृफत हो जाती हैं। 44ण् यह ऐल्कोहाॅल और इर्थर के मिश्रण में नाइट्रोसेलुलोस का 4» विलयन है। 45ण् पिफटकरी मिलाने पर जल मंे उपस्िथत कोलाॅइडी अशुियों का स्वंफदन हो जाता है, जिससे जल पीने योग्य हो जाता है। 46ण् आवेश्िात कोलाॅइडी कण विपरीत आवेश्िात इलेक्ट्रोडों की ओर गति करना प्रारम्भ कर देते हैं। 47ण् ब्राउनी गति परिक्ष्िाप्त प्रावस्था के कणों पर परिक्षेपण माध्यम के अणुओं द्वारा असंतुलित प्रहार से उत्पन्न होती है। यह साॅल को स्थायित्व देती है। 48ण् जलयोजित पेफरिक आॅक्साइड का ध्न आवेश्िात साॅल बनता है और आध्िक्य में छंब्स मिलाने पर )णावेश्िात क्लोराइड आयन ध्न आवेश्िात जलयोजित पेफरिक आॅक्साइड के साॅल को स्वंफदित कर देते हैं। 49ण् पायसीकमर्क निलंबित कणों और परिक्षेपण माध्यम के मध्य एक परत बनाते हैं, जिससे पायस स्थायी हो जाता है। 50ण् औषध् कोलाॅइडी रूप में अध्िक प्रभावी होते हैं क्योंकि कोलाॅइडों का पृष्ठ क्षेत्रापफल बड़ा होता है तथा इस रूप में यह सरलता से स्वांगीवृफत हो जाते हैं। 51ण् पशुओं की खाल कोलाॅइडी प्रवृफति की होती हैं और इसमें ध्नावेश्िात कण होते हैं। जब इसे टेनिन में भ्िागोया जाता है, तो टेनिन के )णावेश्िात कोलाॅइडी कणों के कारण परस्पर स्वंफदन से चमर् कठोर हो जाता है। 52ण् काॅटेर्ल अवक्षेपित्रा में ध्ुएँ के आवेश्िात कणों को एक कक्ष में से गुजारा जाता है जिसमें ध्ुएँ के कणों के विपरीत आवेश वाली प्लेटें होती हैं। ध्ुएँ के कण प्लेटों पर अपना आवेश खोकर अवक्षेपित हो जाते हैं। 53ण् परिक्षेपण माध्यम मिलाकर इमल्शनों को किसी भी सीमा तक तनु किया जा सकता है। यदि परिक्ष्िाप्त प्रावस्था का आिाक्य मिला दें तो वह एक पृथक परत बना लेता है। 54ण् किसी वैद्युत् अपघट्य की वह न्यूनतम मात्रा, जो किसी साॅल को स्वंफदित करने के लिए आवश्यक होती है, उसका स्वंफदन मान कहलाती है। अवक्षेपक आयन पर आवेश जितना अध्िक होगा और वैद्युत् अपघट्य की अपक्षेपण के लिए जितनी कम मात्रा की आवश्यकता होगी, अवक्षेपक आयन की स्वंफदन शक्ित उतनी ही अध्िक होगी ;हाडीर् - शुल्से नियमद्ध। 55ण् नम पिफटकरी रक्त को स्वंफदित करके थक्का बना देती है जिससे रक्तस्राव रुक जाता है। 56ण् जल योजित पेफरिक हाइड्राॅक्साइड के साॅल द्वारा ध्न आवेश्िात थ्म3़ आयनों के अध्िशोषण से धनावेश्िात कोलाॅइड प्राप्त होता है। 57ण् भौतिक अध्िशोषण में दुबर्ल वान्डर वाल्स बल लगते हैं, जो ताप बढ़ने के साथ कमजोर पड़ते जाते हैं। रासायनिक अध्िशोषण का कारण रासायनिक बंधें का निमार्ण होता है, जिसमें सवि्रफयण उफजार् की आवश्यकता होती है और किसी भी अन्य रासायनिक अभ्िावि्रफया के समान ताप में वृि से यह बढ़ता है। 58ण् वैद्युत् अपघट्य की अल्प मात्रा कोलाॅइड को स्थायी बनाती है। अध्िक समय तक अपोहन करने से वैद्युत् अपघट्य पूणर् रूप से हट जाता है, जिससे कोलाॅइड अस्थायी होकर अवक्षेपित हो जाता है। 59ण् इओसिन, सिल्वर हैलाइड अवक्षेप के पृष्ठ पर अध्िशोष्िात होकर उसे रंगीन बना देता है। 60ण् सवि्रफयित चारकोल कोयले की खानों में उपस्िथत विभ्िान्न विषैली गैसों को अध्िशोष्िात कर लेता है। 61ण् नदी का जल मृदा का कोलाॅइडी विलयन होता है और समुद्र के जल में बहुत से वैद्युत् अपघट्य होते हैं। दोनों प्रकार के जल जिस स्थान पर मिलते हैं वहाँ मृदा का स्वंफदन हो जाता है। मृदा के जमने से डेल्टा बन जाता है। 62ण् भौतिक अध्िशोषण का प्रव्रफम, उदाहरण के लिए सूक्ष्म विभाजित निवैफल पर भ्का अध्िशोषण2 दुबर्ल वान्डर वाल्स बलों द्वारा होता है। ताप की वृि होने पर, हाइड्रोजन अणु भ् परमाणुओं में वियोजित हो जाते हैं जो पृष्ठ पर रसोवशोषण द्वारा बँधे रहते हैं। 63ण् जब अध्िशोष्िात अभ्िावि्रफयकों के मध्य अभ्िावि्रफया पूणर् हो जाती है, तो उत्पादों को हटा कर अन्य अभ्िावि्रफयक अणुओं के पृष्ठ पर पहुँचने और अभ्िावि्रफया करने हेतु स्थान खाली करने के लिए विशोषण का प्रव्रफम महत्वपूणर् होता है। 64ण् गैसीय अणु ठोस उत्प्रेरक के पृष्ठ पर विसरित होते हैं और अध्िशोष्िात हो जाते हैं। वांछित रासायनिक परिवतर्नों के बाद उत्पाद पृष्ठ को छोड़कर बाहर की ओर विसरित हो जाते हैं ताकि और अध्िक अभ्िावि्रफयक अणु अध्िशोष्िात हो सवंेफ और अभ्िावि्रफया कर सवेंफ। 65ण् जब गैसीय अणु ठोस उत्प्रेरक के पृष्ठ के सम्पवर्फ में आते हैं, तो उत्प्रेरक के पृष्ठ और गैसीय अणुओं के मध्य एक दुबर्ल रासायनिक संयोजन होता है, जिससे पृष्ठ पर अभ्िावि्रफयकों की सांद्रता बढ़ जाती है। एक दूसरे के निकट अध्िशोष्िात विभ्िान्न प्रकार के अणुओं के लिए अभ्िावि्रफया करने और नए अणु बनाने का अच्छा मौका होता है। यह अभ्िावि्रफया की दर को बढ़ा देता है। इसके अतिरिक्त अिाशोषण उफजार् उत्सजर्न प्रव्रफम भी है। अध्िशोषण से निकली उफजार् अभ्िावि्रफया की दर बढ़ाने में उपयोग में आती है। 66ण् एन्शाइमी सवि्रफयता का इष्टतम ताप परास 298.310ज्ञ है। इस ताप परास के दोनों ओर एन्शाइमों की सवि्रफयता प्रभावित होती है। अतः बुखार के समय जब ताप 310ज्ञ से अध्िक हो जाता है तो एन्शाइमों की सवि्रफयता प्रभावित हो जाती है। प्टण् सुमेलन प्ररूप प्रश्न 67ण् ;पद्ध → ;इद्ध;पपद्ध → ;बद्ध;पपपद्ध → ;कद्ध;पअद्ध → ;ंद्ध 68ण् ;पद्ध → ;बद्ध;पपद्ध → ;कद्ध;पपपद्ध → ;इद्ध;पअद्ध → ;ंद्ध 69ण् ;पद्ध → ;इद्ध;पपद्ध → ;बद्ध;पपपद्ध → ;कद्ध;पअद्ध → ;ंद्ध 70ण् ;पद्ध → ;इद्ध;पपद्ध → ;बद्ध;पपपद्ध → ;कद्ध;पअद्ध → ;ंद्ध 71ण् ;पद्ध → ;कद्ध;पपद्ध → ;बद्ध;पपपद्ध → ;ंद्ध;पअद्ध → ;इद्ध 72ण् ;पद्ध → ;कद्ध;पपद्ध → ;बद्ध;पपपद्ध → ;ंद्ध;पअद्ध → ;इद्ध टण् अभ्िाकथन एवं तवर्फ प्ररूप प्रश्न 73ण् ;पपपद्ध 74ण् ;पपद्ध 75ण् ;अद्ध 76ण् ;पद्ध 77ण् ;पद्ध टप्ण् दीघर् उत्तर प्रश्न 78ण् संकेत - ऽ अभ्िावि्रफयक उत्प्रेरक के पृष्ठ पर अध्िशोष्िात होते हैं। ऽ उत्प्रेरक के पृष्ठ पर रासायनिक अभ्िावि्रफया का होना। ऽ विशोषण 79ण् संकेत - ऽ पतली परत वणर्लेखकी ;ज्स्ब्द्ध में ऽ अध्िशोषण संसूचक ऽ गुणात्मक विश्लेषण में 80ण् संकेत - ऽ चीड़ के तेल का सल्पफाइड अयस्क कणों पर अध्िशोषण। ऽ इमल्शन का बनना ऽ अतः खनिज पेफन के साथ बाहर आ जाता है। ऽ आकार वरणात्मक उत्प्रेरण का स्पष्टीकरण। 81ण् संकेत - ऽ िाओलाइटों की मध्ुमक्खी के छत्ते जैसी संरचना। ऽ रंध्र अभ्िावि्रफयकों को अभ्िावि्रफया हेतु स्थान उपलब्ध् कराता है।

RELOAD if chapter isn't visible.