प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप.प्द्ध 1ण् क्लोराइड लवण में सांद्र भ्ैव्मिलाने पर रंगहीन ध्ूम बनते हैं, परन्तु आयोडाइड लवण के साथ बैंगनी24 ध्ूम बनते हैं। इसका कारण है - ;पद्ध भ्ैव् ए भ्प् को प्में अपचित कर देता है।;पपद्ध भ्प् बैंगनी रंग का होता है। 242 ;पपपद्ध भ्प् का आॅक्सीकरण प्में हो जाता है।2 ;पअद्ध भ्प्ए भ्प्व्में परिवतिर्त हो जाता है।3 2ण् गुणात्मक विश्लेषण में जब लवण के तनु भ्ब्स द्वारा अम्लीवृफत जलीय विलयन में से भ्ै प्रवाहित की2जाती है, तो एक काला अवक्षेप प्राप्त होता है। अवक्षेप को तनु भ्छव्के साथ मिलाकर उबालने पर3 एक नीले रंग का विलयन बनता है। इस विलयन में अमोनिया का जलीय विलयन आध्िक्य में मिलाने से यह देता है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध ब्न ;व्भ्द्धका गहरा नीला अवक्षेप।;पपद्ध ख्ब्न ;छभ्द्ध,2़ का गहरा नीला विलयन।2 34;पपपद्ध ब्न;छव्द्धका गहरा नीला विलयन।32 ;पअद्ध ब्न;व्भ्द्धण्ब्न;छव्द्धका गहरा नीला विलयन।232 3ण् साइक्लोट्राइमेटापफाॅस्पफोरिक अम्ल के एक अणु में कितने एकल बंध् और कितने द्वि - बंध् होते हैं? ;पद्ध 3 द्वि - बंध्य 9 एकल बंध् ;पपद्ध 6 द्वि - बंध्य 6 एकल बंध् ;पपपद्ध 3 द्वि - बंध्य 12 एकल बंध् ;पअद्ध शून्य द्वि - बंध्य 12 एकल बंध् 4ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से तत्व चπदृकπ बंध्न बना सकते हैं? ;पद्ध काबर्न ;पपद्ध नाइट्रोजन ;पपपद्धपफास्पफोरस़;पअद्ध बोराॅन 5ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा आयनों का युगल समइलेक्ट्राॅनी और समसंरचनात्मक है? दृ;पद्ध ब्व्2दृए छव्3 3 ;पपद्ध ब्सव्दृ ए ब्व्2दृ 33 दृ;पपपद्ध ैव्2दृए छव्3 3 ;पअद्ध ब्सव्दृ ए ैव्2दृ 3 3 6ण् समूह में हाइड्रोजन के प्रति बंध्ुता फ्रलुओरीन से आयोडीन की ओर घटती है। निम्नलिख्िात में से किस हैलोजन अम्ल की बंध् वियोजन एन्थैल्पी सवार्ध्िक होगी? ;पद्ध भ्थ् ;पपद्ध भ्ब्स ;पपपद्ध भ्ठत ;पअद्ध भ्प् 7ण् म्कृभ् ;म् त्र तत्वद्ध की बंध् वियोजन एन्थैल्िपयाँ नीचे दी गइर् हैं। इनमें से कौन - सा यौगिक प्रबलतम अपचयन कमर्क होगा? यौगिक छभ्च्भ्।ेभ्ैइभ्33 33 Δ;म्कृभ्द्धधश्र उवसदृ1 389 322 297 255कपेे ;पद्ध छभ्;पपद्ध च्भ्3 3 ;पपपद्ध ।ेभ्3 ;पअद्ध ैइभ्3 8ण् सपेफद प़्ाफाॅस्प़्ाफोरस ब्व्के अवि्रफय वातावरण में सांद्र छंव्भ् विलयन के साथ गरम करने पर एक गैस2 बनाता है। इस गैस के लिए निम्नलिख्िात में से कौन - सा कथन असत्य है? ;पद्ध यह अत्यध्िक विषैली होती है और सड़ी मछली जैसी गंध् वाली होती है। ;पपद्ध प्रकाश की उपस्िथति में इसका जलीय विलयन अपघटित हो जाता है। ;पपपद्ध यह छभ्की अपेक्षा अध्िक क्षारकीय होती है।3 ;पअद्ध यह छभ्से कम क्षारकीय होती है।3 9ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा अम्ल लवणों की तीन श्रेण्िायाँ बनाता है? ;पद्ध भ्च्व्;पपद्ध भ्ठव्32 33 95 च.ब्लाॅक तत्व ;पपपद्ध भ्च्व्34 ;पअद्ध भ्च्व्33 10ण् भ्च्व्के प्रबल अपचायक व्यवहार का कारण है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ।32 ;पद्धपफाॅस्प़़्ाफोरस की निम्न आॅक्सीकरण अवस्था। ;पपद्ध दो दृव्भ् समूहों और एक च्दृभ् बंध् की उपस्िथति। ;पपपद्धएक दृव्भ् समूह और दो च्दृभ् बंधें की उपस्िथति। ;पअद्धपफाॅस्प़़्ाफोरस की उच्च इलेक्ट्राॅन लब्िध् एन्थैल्पी। 11ण् लेड नाइट्रेट को गरम करने पर वह नाइट्रोजन और लेड के आॅक्साइड बनाता है। बनने वाले आॅक्साइड हैं ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध छव्ए च्इव्;पपद्ध छव् एच्इव् 22;पपपद्ध छव् ए च्इव् ;पअद्ध छव् ए च्इव्2 12ण् निम्नलिख्िात तत्वों में से कौन - सा तत्व अपररूपता प्रदश्िार्त नहीं करता? ;पद्ध नाइट्रोजन ;पपद्ध बिसमथ ;पपपद्ध ऐन्िटमनी ;पअद्ध आसेर्निक 13ण् नाइट्रोजन की अध्िकतम सहसंयोजकता ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ होती है। ;पद्ध 3 ;पपद्ध 5 ;पपपद्ध 4 ;पअद्ध 6 14ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा कथन गलत है? ;पद्ध एकल छदृछ बंध्, एकल च्दृच् बंध् की तुलना में अध्िक प्रबल होता है। ;पपद्ध संव्रफमण तत्वों के साथ उपसहसंयोजक यौगिक बनाने में च्भ्एक लिगन्ड के रूप में कायर् कर 3 सकता है। ;पपपद्ध छव्की प्रवृफति अनुचुम्बकीय होती है।2 ;पअद्ध छव्में नाइट्रोजन की सहसंयोजकता चार है।25 दृ15ण् छव्आयन के वलय परीक्षण में एक भूरे रंग का वलय बनता है। इसके बनने का कारण है3 ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध ख्थ्म;भ्व्द्ध;छव्द्ध,2़ ;पपद्ध थ्मैव्ण्छव्25 42 ,2़;पपपद्ध ख्थ्म;भ्व्द्ध;छव्द्ध242;पअद्ध थ्मैव्ण्भ्छव्43 16ण् वगर् - 15 के तत्व ़5 आॅक्सीकरण अवस्था में यौगिक बनाते हैं। परन्तु बिसमथ ़5 आॅक्सीकरण अवस्था में केवल एक अभ्िालक्षण्िाक यौगिक बनाता है। यह यौगिक है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध ठपव्25 ;पपद्ध ठपथ्5 ;पपपद्ध ठपब्स5 ;पअद्ध ठपै25 17ण् अमोनियम डाइव्रफोमेट और बेरियम ऐशाइड को अलग - अलग गरम करने पर हमें प्राप्त होता है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध दोनों से छ2 ;पपद्ध अमोनियम डाइव्रफोमेट से छऔर बेरियम ऐशाइड से छव्2 ;पपपद्ध अमोनियम डाइव्रफोमेट से छव् और बेरियम ऐशाइड से छ2 2 ;पअद्ध अमोनियम डाइव्रफोमेट से छव् और बेरियम ऐशाइड से छव्2 2 18ण् भ्छव्के विरचन में, हमें अमोनिया के उत्प्रेरकी आॅक्सीकरण से छव् गैस मिलती है। दो मोल छभ्3 3 के आॅक्सीकरण से प्राप्त छव् के मोल होंगे ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध 2 ;पपद्ध 3 ;पपपद्ध 4 ;पअद्ध 6 19ण् यौगिक छंभ्च्व्के )णायन में वेंफद्रीय परमाणु की आॅक्सीकरण अवस्था होगी ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ।22 ;पद्ध ़3 ;पपद्ध ़5 ;पपपद्ध ़1 ;पअद्ध दृ3 20ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा चतुष्पफलकीय आवृफति का नहीं है? ;पद्ध छभ़् 4 ;पपद्ध ैपब्स4 ;पपपद्ध ैथ्4 2दृ;पअद्ध ैव्4 21ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से सल्पफर के पराॅक्सोअम्ल हैं? ;पद्ध भ्ैव्और भ्ैव्25 228 ;पपद्ध भ्ैव्और भ्ैव्25 227 97 च.ब्लाॅक तत्व ;पपपद्ध भ्ैव्और भ्ैव्227 228 ;पअद्ध भ्ैव्और भ्ैव्226 227 22ण् गरम सांद्र भ्ैव्मध्यम प्रबलता के आॅक्सीकरण कमर्क के समान कायर् करता है। यह धतुओं और24 अधातुओं दोनों का आॅक्सीकरण करता है। निम्नलिख्िात में से कौन - सा तत्व सांद्र भ्ैव्से दो गैसीय24 उत्पादों में आक्सीवृफत होता है? ;पद्ध ब्न ;पपद्ध ै ;पपपद्ध ब् ;पअद्ध र्द 23ण् मैंगनीज का एक काले रंग का यौगिक, एक हैलोजन अम्ल से अभ्िावि्रफया करके हरी - पीली गैस देता है। जब यह गैस आिाक्य में छभ्से अभ्िावि्रफया करती है तो एक अस्थायी ट्राइहैलाइड बनता है। इस3 प्रव्रफम में नाइट्रोजन की आॅक्सीकरण अवस्था में परिवतर्न होता है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध दृ 3 से ़3 ;पपद्ध दृ 3 से 0 ;पपपद्ध दृ 3 से ़5 ;पअद्ध 0 से दृ 3 24ण् ग्म के यौगिक के विरचन में बाटर्लेट ने व़् च्ज थ्दृ को आधर यौगिक के रूप में लिया, क्योंकि - 26 ;पद्ध व्और ग्म दोनों एक ही साइश के हैं।;पपद्ध व्और ग्म दोनों की विद्युत् )णात्मकता समान है।2 2 ;पपपद्ध व्और ग्म दोनों की आयनन एन्थैल्पी लगभग समान है।2 ;पअद्ध ग्म और व्दोनों गैस हैं।2 25ण् ठोस अवस्था में च्ब्स5 ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध सहसंयोजक यौगिक होता है। ;पपद्ध की संरचना अष्टपफलकीय होती है। ;पपपद्ध आयनी ठोस होता है जिसमें ख्च्ब्स,़ अष्टपफलक और ख्च्ब्स,दृ चतुष्पफलक होते हैं।6 4;पअद्ध आयनी ठोस होता है जिसमें ख्च्ब्स,़ चतुष्पफलक और ख्च्ब्स,दृ अष्टपफलक होते हैं।4 626ण् वुफछ आयनों के अपचयन विभव नीचे दिए गए हैं। उन्हें आॅक्सीकरण सामथ्यर् के घटते व्रफम में व्यवस्िथत कीजिए। दृदृ दृआयन ब्सव्प्व्ठतव्44 4 अपचयन विभव म्टत्र1ण्19टम् टत्र1ण्65टम् टत्र1ण्74ट म्टध्ट दृ दृदृ;पद्ध ब्सव् झ प्व् झ ठतव्4 4 4 दृदृदृ;पपद्ध प्व् झ ठतव् झ ब्सव्4 44 दृ दृदृ;पपपद्ध ठतव् झ प्व् झ ब्सव्44 4 दृदृदृ;पअद्ध ठतव् झ ब्सव् झ प्व्4 44 27ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा समइलेक्ट्राॅनी युगल है? ;पद्ध प्ब्सए ब्सव्;पपद्ध ठतव्दृ ए ठतथ़् 2 2 2 2 ;पपपद्ध ब्सव्ए ठतथ्2दृ;पअद्ध ब्छ ए व्3 प्प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप.प्प्द्ध नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में दो या इससे अध्िक विकल्प सही हो सकते हैं। 28ण् यदि क्लोरीन गैस छंव्भ् के गरम विलयन में से प्रवाहित की जाए तो क्लोरीन की आॅक्सीकरण संख्या में दो परिवतर्न प्रेक्ष्िात होते हैं। यह हैं ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ और ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध 0 से ़5 ;पपद्ध 0 से ़3 ;पपपद्ध 0 से दृ1 ;पअद्ध 0 से ़1 29ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से विकल्प उनके सम्मुख उल्लेख्िात गुण के अनुरूप नहीं हैं? ;पद्ध थ् झ ब्स2 झ ठत झ प्2 आॅक्सीकरण सामथ्यर्22;पपद्ध डप् झ डठत झ डब्स झ डथ् आयनी गुण ;पपपद्ध थ् झ ब्स2 झ ठत झ प्2 बंध् वियोजन एन्थैल्पी22;पअद्ध भ्प् ढ भ्ठत ढ भ्ब्स ढ भ्थ् हाइड्रोजन - हैलोजन बंध् सामथ्यर् 30ण् निम्नलिख्िात में से सपेफद पफाॅस्प़़्ाफोरस के च्अणु के लिए क्या सही है?4 ;पद्ध इसमें इलेक्ट्राॅनों के 6 एकाकी युगल होते हैं। ;पपद्ध इसमें छः च्दृच् एकल बंध् होते हैं। ;पपपद्ध इसमें तीन च्दृच् एकल बंध् होते हैं। ;पअद्ध इसमें इलेक्ट्राॅनों के चार एकाकी युगल होते हैं। 31ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से कथन सही हैं? ;पद्ध हैलोजनों में आयोडीन और फ्रलुओरीन के मध्य त्रिाज्याओं का अनुपात सवार्ध्िक होता है। ;पपद्ध थ्कृथ् बंध् को छोड़कर सभी हैलोजनों में ग्कृग् बंध् अंतराहैलोजनों के ग्कृग्श् बंध् से कमजोर होता है। ;पपपद्ध अंतराहैलोजनों में से आयोडीन फ्रलुओराइड में अध्िकतम अणु होते हैं। ;पअद्ध अंतराहैलोजन यौगिक हैलोजन यौगिकों की अपेक्षा अध्िक वि्रफयाशील होते हैं। 32ण् ैव्गैस के लिए निम्नलिख्िात में से कौन - से कथन सत्य हैं?2 ;पद्ध यह नम अवस्था में विरंजक के समान कायर् करती है। ;पपद्ध इसके अणु की ज्यामिति रैख्िाक होती है। ;पपपद्ध इसके तनु विलयन का उपयोग रोगाणुनाशी के रूप में किया जाता है। ;पअद्ध इसे धतु सल्पफाइड के साथ तनु भ्ैव्की अभ्िावि्रफया द्वारा बनाया जा सकता है।24 33ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से कथन सत्य हैं? ;पद्ध भ्छव्में तीनों छकृव् आबंध् बराबर लम्बाइर् के होते हैं।;पपद्ध गैसीय अवस्था में च्ब्सके अणु के सभी च्कृब्स आबंधें की लम्बाइर् बराबर होती है।3 5 ़़;पपपद्ध श्वेत पफास्पफोरस के च्अणुओं में कोणीय तनाव होता है अतः यह अत्यध्िक वि्रफयाशील होता है।4 ;पअद्ध च्ब्स ठोस अवस्था में आयनी होता है जिसमें ध्नायन चतुष्पफलक और )णायन अष्टपफलक होता है। 34ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से व्रफम उनके समक्ष उल्लेख्िात गुणों के अनुसार सही हैं? ;पद्ध ।ेव् ढ ैपव् ढ च्व् ढ ैव्अम्ल सामथ्यर्232232 ;पपद्ध ।ेभ् ढ च्भ् ढ छभ्वाष्पन की एन्थैल्पी333 ;पपपद्ध ै ढ व् ढ ब्स ढ थ् अध्िक )णात्मक इलेक्ट्राॅन लब्िध् एन्थैल्पी ;पअद्ध भ्व् झ भ्ै झ भ्ैम झ भ्ज्म उफष्मीय स्थायित्व222235ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से कथन सही हैं? ;पद्ध भ्ैव्में ैदृै बंध् उपस्िथत होता है।;पपद्ध पराॅक्सोसल्फ्रयूरिक अम्ल ;भ्ैव्द्ध में सल्पफर ़6 आॅक्सीकरण अवस्था में है।226 25;पपपद्ध छभ्बनाने की हाबर विध्ि में ।सव्तथा ज्ञव् के साथ आयरन चूणर् का उपयोग उत्प्रेरक के3 232रूप में किया जाता है। ;पअद्ध ैव् के उत्प्रेरकी आॅक्सीकरण द्वारा ैव्के विरचन में एन्थैल्पी में ध्नात्मक परिवतर्न होता है।23 36ण् निम्नलिख्िात अभ्िावि्रफयाओं में से किनमें सांद्र भ्ैव्का उपयोग आॅक्सीकरण कमर्क के रूप में24 होता है। ;पद्ध ब्ंथ् ़ भ्ैव्⎯→ ब्ंैव् ़ 2भ्थ्;पपद्ध 2भ्प् ़ भ्ैव्⎯→ प् ़ ैव् ़ 2भ्व्224 424 222;पपपद्ध ब्न ़ 2भ्ैव्⎯→ ब्नैव् ़ ैव् ़ 2भ्व्24 422;पअद्ध छंब्स ़ भ्ैव्⎯→ छंभ्ैव् ़ भ्ब्स24 437ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से कथन सत्य हैं? ;पद्ध उत्वृफष्ट गैसों के कणों के मध्य अन्योन्य वि्रफयाएँ केवल दुबर्ल परिक्षेपण बलों के कारण होती हैं। ;पपद्ध आण्िवक आॅक्सीजन की आयनन एन्थैल्पी शीनाॅन की आयनन एन्थैल्पी के अत्यध्िक निकट होती है। ;पपपद्ध ग्मथ्की जलअपघटन अभ्िावि्रफया रेडाॅक्स अभ्िावि्रफया है।6 ;पअद्ध शीनाॅन के फ्रलुओराइड अभ्िावि्रफयाशील नहीं होते। प्प्प्ण् लघु उत्तर प्रश्न 38ण् भ्ैव्बनाने की सम्पवर्फ विध्ि में, ैव्को जल में सीध्े अवशोष्िात करके भ्ैव्क्यों नहीं बनाते?243 24 39ण् छभ्का वायवीय आॅक्सीजन से उत्प्रेरकी आॅक्सीकरण प्रदशर्न करने वाली अभ्िावि्रफया की संतुलित3 रासायनिक समीकरण लिख्िाए। 40ण् पाइरोपफाॅस्पफोरिक अम्ल की संरचना लिख्िाए। 41ण् च्भ्को ध्ीमी गति से जल में प्रवाहित करने पर यह बुलबुले बनाती है जबकि छभ्विलेय हो जाती3 3 है। समझाइए क्यों? 42ण् च्ब्समें पफाॅस्प़्ाफोरस़ेच3क संकरित अवस्था में होता है, परन्तु इसके सभी पाँच बंध् तुल्य नहीं होते। कारण5 देकर अपने उत्तर का औचित्य बताइए। 43ण् नाइटिªक आॅक्साइड गैसीय अवस्था में अनुचुम्बकीय होता है परन्तु इसे ठंडा करके प्राप्त ठोस अवस्था में यह प्रतिचुम्बकीय क्यों हो जाता है? 44ण् कारण देकर समझाइए कि ब्सथ्पाया जाता है परन्तु थ्ब्सक्यों नहीं।3 3 45ण् भ्व् और भ्ै में से किसका बंध् कोण अध्िक है और क्यों?46ण् ैथ्ज्ञात है परन्तु ैब्सनहीं। क्यों?2266 47ण् ब्ससे अभ्िावि्रफया करके, पफाॅस्प़्ाफोरस़ष्।ष् और ष्ठष् दो प्रकार के हैलाइड बनाता है। हैलाइड श्।श् पीत - श्वेत2 चूणर् है जबकि हैलाइड ष्ठष् एक रंगहीन तैलीय द्रव होता है। ष्।ष् और ष्ठष् को पहचानिए तथा इनके जल अपघटन उत्पादों के सूत्रा लिख्िाए। दृ48ण् छव्आयन के वलय परीक्षण में, थ्म2़ आयन नाइट्रेट आयन को नाइटिªक आॅक्साइड में अपचित कर3 देते हैं, जो थ्म2़ ;ंुद्धआयनों से जुड़कर भूरे रंग का संवुफल बनाता है। भूरे वलय के बनने में सम्िमलित अभ्िावि्रफयाओं को लिख्िाए। 49ण् समझाइए कि क्लोरीन के आॅक्सीअम्लों का स्थायित्व नीचे दिए व्रफमानुसार क्यों बढ़ता है। भ्ब्सव् ढ भ्ब्सव्2 ढ भ्ब्सव्3 ढ भ्ब्सव्4 50ण् स्पष्ट कीजिए कि ओशोन उफष्मागतिकीय रूप से आॅक्सीजन की अपेक्षा कम स्थायी क्यों होती है। 51ण् च्व्जल से च्व् ़ 6भ्व् ⎯→ 4भ्च्व्अभ्िावि्रफया के अनुसार वि्रफया करता है। 1ण्1 ह च्व्46 46233 46 को भ्व् में घोलने पर बने अम्ल के उदासीनीकरण हेतु आवश्यक 0ण्1 ड छंव्भ् विलयन का आयतन2परिकलित कीजिए। 52ण् श्वेत पफाॅस्प़़्ाफोरस क्लोरीन से अभ्िावि्रफया करता है और बनने वाला उत्पाद जल की उपस्िथति में जल अपघटित हो जाता है। जल की उपस्िथति में 62 ह श्वेत प़्ाफाॅस्प़्ाफोरस की क्लोरीन से अभ्िावि्रफया कराने पर प्राप्त उत्पाद के जल अपघटन से बनने वाले भ्ब्स का द्रव्यमान परिकलित कीजिए। 53ण् नाइट्रोजन के तीन आॅक्सोअम्लों के नाम दीजिए। नाइट्रोजन के उस आॅक्सोअम्ल की असमानुपातन अभ्िावि्रफया लिख्िाए, जिसमें नाइट्रोजन ़3 आॅक्सीकरण अवस्था में है। 54ण् नाइटिªक अम्ल च्व्से अभ्िावि्रफया करके नाइट्रोजन का एक आॅक्साइड बनाता है। इससे संबंध्ित410 अभ्िावि्रफया लिख्िाए। बनने वाले नाइट्रोजन के आॅक्साइड की अनुनादी संरचनाएँ भी दीजिए। 55ण् पफाॅस्प़्ाफोरस के तीन अपररूप होते हैं - ;़पद्ध श्वेत पफाॅस्प़़्ाफोरस ;पपद्ध लाल पफाॅस्प़़्ाफोरस और ;पपपद्ध काला प़्ाफाॅस्प़्ाफोरस। सरंचना तथा अभ्िावि्रफयाशीलता के आधर पर श्वेत और लाल प़्ाफाॅस्प़्ाफोरस के बीच अन्तर लिख्िाए। 56ण् नाइटिªक अम्ल की आॅक्सीकरण अभ्िावि्रफया में उत्पाद के बनने पर नाइटिªक अम्ल की सांद्रता का प्रभाव पड़ता है, इसे एक उदाहरण द्वारा प्रदश्िार्त कीजिए। 57ण् च्ब्सको सूक्ष्म विभाजित सिल्वर के साथ गरम करने पर श्वेत रंग का सिल्वर का लवण बनाता है जो5 जलीय छभ्का आध्िक्य मिलाने पर विलेय हो जाता है? संबंध्ित अभ्िावि्रफयाएँ लिखकर स्पष्ट कीजिए3 कि ऐसा क्यों होता है। 58ण् पफाॅस्प़्ाफोरस बहुत से आॅक्सोअम्ल बनाता है। इन आॅक्सोअम्लों में से पफाॅस्पफीनिक अम्ल प्रबल अपचायक़गुण वाला है। इसकी संरचना लिखें और इसके अपचायक व्यवहार को दशार्ने वाली एक अभ्िावि्रफया लिखें। प्टण् सुमेलन प्ररूप प्रश्न नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में काॅलम प् और काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए। 59ण् काॅलम प् में दिए गए यौगिकों को काॅलम प्प् में दिए गए संकरण और संरचनाओं को सुमेलित कीजिए और निम्नलिख्िात कोडों में से सही कोड का चयन कीजिए।काॅलम प् काॅलम प्प् ;।द्ध ग्म थ् ;1द्ध ेच3क3 दृ विवृफत अष्टपफलकीय;ठद्ध ग्म व् ;2द्ध ेच3क2 .वगर् समतलीय;ब्द्ध ग्म व्थ् ;3द्ध ेच3 .पिरैमिडी6 3 4 ;क्द्धग्म थ् ;4द्ध ेच3 क2 .वगर् पिरैमिडी4 कोड - ;पद्ध । ;1द्ध ठ ;3द्ध ब् ;4द्ध क् ;2द्ध ;पपद्ध । ;1द्ध ठ ;2द्ध ब् ;4द्ध क् ;3द्ध ;पपपद्ध । ;4द्ध ठ ;3द्ध ब् ;1द्ध क् ;2द्ध ;पअद्ध । ;4द्ध ठ ;1द्ध ब् ;2द्ध क् ;3द्ध 60ण् काॅलम प् में दिए गए आॅक्साइडों के सूत्रों को काॅलम प्प् में दिए गए आॅक्साइडों के प्रकारों से सुमेलित कीजिए और निम्नलिख्िात कोडों में से सही कोड का चयन कीजिए।काॅलम प् काॅलम प्प् ;।द्ध च्इव् ;1द्ध उदासीन आॅक्साइड ;ठद्ध छव् ;2द्ध अम्लीय आॅक्साइड ;ब्द्ध डदव् ;3द्ध क्षारकीय आॅक्साइड 34 227 ;क्द्धठपव् ;4द्ध मिश्रित आॅक्साइड 23 कोड - ;पद्ध । ;1द्ध ठ ;2द्ध ब् ;3द्ध क् ;4द्ध ;पपद्ध । ;4द्ध ठ ;1द्ध ब् ;2द्ध क् ;3द्ध ;पपपद्ध । ;3द्ध ठ ;2द्ध ब् ;4द्ध क् ;1द्ध ;पअद्ध । ;4द्ध ठ ;3द्ध ब् ;1द्ध क् ;2द्ध 61ण् काॅलम प् और काॅलम प्प् की विषय - वस्तुओं को सुमेलित कीजिए और निम्नलिख्िात कोडों में से सही कोड का चयन कीजिए।काॅलम प् काॅलम प्प् ;।द्ध भ्2ैव् ;1द्धउच्चतम इलेक्ट्राॅन लब्िध् एन्थैल्पी ;ठद्ध ब्ब्सछव् ;2द्धकेल्कोजन ;ब्द्ध ब्स ;3द्धअश्रुगैस 4 32 2 ;क्द्धसल्पफऱ ;4द्धसंचायक बैटरी कोड - ;पद्ध । ;4द्ध ठ ;3द्ध ब् ;1द्ध क् ;2द्ध ;पपद्ध । ;3द्ध ठ ;4द्ध ब् ;1द्ध क् ;2द्ध ;पपपद्ध । ;4द्ध ठ ;1द्ध ब् ;2द्ध क् ;3द्ध ;पअद्ध । ;2द्ध ठ ;1द्ध ब् ;3द्ध क् ;4द्ध 62ण् काॅलम प् में दी गइर् स्पीशीश को काॅलम प्प् में दी गइर् संरचनाओं से सुमेलित कीजिए और निम्नलिख्िात कोडों में से सही कोड का चयन कीजिए।काॅलम प् काॅलम प्प् ;।द्ध ैथ् ;1द्धचतुष्पफलकीय ;ठद्ध ठतथ् ;2द्धपिरैमिडी 4 3 दृ;ब्द्ध ठतव् ;3द्धढेंवुफली ;सी - साद्ध आवृफति का 3 ;क्द्धछभ़् ;4द्धबंकित ज्.आवृफति का4 कोड - ;पद्ध । ;3द्ध ठ ;2द्ध ब् ;1द्ध क् ;4द्ध ;पपद्ध । ;3द्ध ठ ;4द्ध ब् ;2द्ध क् ;1द्ध ;पपपद्ध । ;1द्ध ठ ;2द्ध ब् ;3द्ध क् ;4द्ध ;पअद्ध । ;1द्ध ठ ;4द्ध ब् ;3द्ध क् ;2द्ध 63ण् काॅलम प् और काॅलम प्प् की विषय - वस्तुओं को सुमेलित कीजिए और निम्नलिख्िात कोडों में से सही कोड का चयन कीजिए।काॅलम प् काॅलम प्प् ;।द्धइसका आंश्िाक जलअपघटन वेंफद्रीय ;1द्ध भ्म परमाणु की आॅक्सीकरण अवस्था को परिवतिर्त नहीं करता। ;ठद्धयह आध्ुनिक गोताखोरी उपकरणों में काम में लिया जाता है। ;2द्ध ग्मथ्6 ;ब्द्धयह बिजली के बल्वों में अवि्रफय वातावरण ;3द्ध ग्मथ्4 उपलब्ध् कराने हेतु उपयोग में लाया जाता है। ;क्द्धइसके वेंफद्रीय परमाणु का संकरण ेच3क2 होता है। ;4द्ध ।त कोड - ;पद्ध । ;1द्ध ठ ;4द्ध ब् ;2द्ध क् ;3द्ध ;पपद्ध । ;1द्ध ठ ;2द्ध ब् ;3द्ध क् ;4द्ध ;पपपद्ध । ;2द्ध ठ ;1द्ध ब् ;4द्ध क् ;3द्ध ;पअद्ध । ;1द्ध ठ ;3द्ध ब् ;2द्ध क् ;4द्ध टण् अभ्िाकथन एवं तवर्फ प्ररूप प्रश्न नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में अभ्िाकथन के पश्चात संगत तवर्फ का कथन दिया है। निम्नलिख्िात विकल्पोंमें से कथन का चयन करके सही उत्तर दीजिए। ;पद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों सही हैं और तवर्फ अभ्िाकथन का सही स्पष्टीकरण है। ;पपद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों सही हैं परन्तु तवर्फ अभ्िाकथन का स्पष्टीकरण नहीं है। ;पपपद्ध अभ्िाकथन सही है परन्तु तवर्फ गलत कथन है। ;पअद्ध अभ्िाकथन गलत है परन्तु तवर्फ सही कथन है। ;अद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों ही गलत कथन हैं। 64ण् अभ्िाकथन - च्की अपेक्षा छकम अभ्िावि्रफयाशील है।42 तवर्फ - नाइट्रोजन की इलेक्ट्राॅन लब्िध् एन्थैल्पी प़्ाफाॅस्प़्ाफोरस की तुलना में अध्िक है। 65ण् अभ्िाकथन - भ्छव्आयरन को निष्िव्रफय बना देता है।3 तवर्फ - भ्छव्आयरन की सतह पर पेफरिक नाइट्रेट की संरक्षी परत बनाता है।3 66ण् अभ्िाकथन - ज्ञप् की सांद्र भ्ैव्के साथ अभ्िावि्रफया से भ्प् नहीं बनाया जा सकता।24 तवर्फ - हैलोजन अम्लों में से भ्प् के भ्दृग् बंध् का बंध् सामथ्यर् सबसे कम है। 67ण् अभ्िाकथन - विषमलंबाक्ष और एकनताक्ष, दोनों प्रकार के गंध्क ैके रूप में रहते हैं परन्तु8 आॅक्सीजन व्के रूप में रहती है।2 तवर्फ - छोटे साइश और छोटी बंध् लम्बाइर् के कारण आॅक्सीजन चπ दृ चπ बहुबंध् बनाती है, परन्तु सल्पफर में चπ दृ चπ बंध्न संभव नहीं है। 68ण् अभ्िाकथन - छंब्स सांद्र भ्ैव्से अभ्िावि्रफया करके तीखी गंध् वाले रंगहीन ध्ूम बनाता है। परन्तु24 डदव्मिलाने पर ध्ूम हरे - पीले हो जाते हैं।2 तवर्फ - डदव् ए भ्ब्स का क्लोरीन गैस में आॅक्सीकरण कर देता है, जो हरी - पीली होती है।269ण् अभ्िाकथन - ैथ्का जलअपघटन नहीं हो सकता परन्तु ैथ्का हो सकता है।6 4 तवर्फ - ैथ्के छः थ् परमाणु, ैथ्के सल्पफर परमाणु पर भ्व् के आव्रफमण को रोकते हैं।66 2टप्ण् दीघर् उत्तर प्रश्न 70ण् एक अवि्रफस्टलीय ठोस श्।श् वायु में जलकर एक गैस श्ठश् बनाता है, जो चूने के पानी को दूध्िया कर देती है। यह गैस सल्पफाइड अयस्क के भजर्न के समय भी उप - उत्पाद के रूप में बनती है। यह गैस ज्ञडदव्के अम्लीवृफत जलीय विलयन को रंगहीन कर देती है और थ्म3़ को थ्म2़ में अपचित कर4 देती है। ठोस श्।श् तथा गैस श्ठश् को पहचानिए तथा संबंध्ित अभ्िावि्रफयाएँ लिख्िाए। 71ण् लेड ;प्प्द्ध नाइट्रेट गरम करने पर भूरे रंग की गैस ष्।ष् देता है। गैस ष्।ष् ठंडा करने पर रंगहीन ठोस ष्ठष् में परिवतिर्त हो जाती है। ठोस ष्ठष् को छव् के साथ गरम करने पर यह नीले रंग के ठोस ष्ब्ष् में परिवतिर्त हो जाता है। ष्।ष्ए ष्ठष् और ष्ब्ष् को पहचानिए। संबंध्ित अभ्िावि्रफयाएँ लिख्िाए तथा ष्ठष् और ष्ब्ष् की संरचनाएँ भी लिख्िाए। 72ण् यौगिक ;।द्ध गरम करने पर एक गैस ;ठद्ध देता है, जो वायु की अवयव है। जब इस गैस के 1 उवस की अभ्िावि्रफया हाइड्रोजन ;भ्द्ध के 3 उवस से कराइर् जाती है तो एक दूसरी गैस ;ब्द्ध बनती है जो 2क्षारकीय प्रवृफति की होती है। गैस ;ब्द्ध के नम अवस्था में आॅक्सीकरण पर यौगिक ;क्द्ध बनता है, जो अम्ल वषार् का एक भाग होता है। ;।द्धसे ;क्द्ध तक यौगिकों की पहचान कीजिए तथा सभी पदों के लिए आवश्यक समीकरण भी दीजिए। प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप - प्द्ध 1ण् ;पपपद्ध 2ण् ;पपद्ध 3ण् ;पद्ध 4ण् ;पपपद्ध 5ण् ;पद्ध 6ण् ;पद्ध 7ण् ;पअद्ध 8ण् ;पपपद्ध 9ण् ;पपपद्ध 10ण् ;पपपद्ध 11ण् ;पपद्ध 12ण् ;पद्ध 13ण् ;पपपद्ध 14ण् ;पद्ध 15ण् ;पद्ध 16ण् ;पपद्ध 17ण् ;पद्ध 18ण् ;पद्ध 19ण् ;पपपद्ध 20ण् ;पपपद्ध 21ण् ;पद्ध 22ण् ;पपपद्ध 23ण् ;पद्ध 24ण् ;पपपद्ध 25ण् ;पअद्ध 26ण् ;पपपद्ध 27ण् ;पपद्ध प्प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप - प्प्द्ध 28ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 29ण् ;पपद्धए ;पपपद्ध 30ण् ;पपद्धए ;पअद्ध 31ण् ;पद्धए ;पपपद्धए ;पअद्ध 32ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 33ण् ;पपपद्धए ;पअद्ध 34ण् ;पद्धए ;पअद्ध 35ण् ;पद्धए ;पपद्ध 36ण् ;पपद्धए ;पपपद्ध 37ण् ;पद्धए ;पपद्ध प्प्प्ण् लघु उत्तर प्रश्न 38ण् अम्ल वुफहरा बन जाता है, जिसका संघनित होना कठिन होता है। च्जध्त्ी गाॅज उत्पेर्रक39ण् 4छभ् ;हद्ध ़ 5व्;हद्ध ⎯⎯⎯⎯⎯⎯⎯→ 4छव् ;हद्ध ़ 6भ्2व् ;हद्ध32 500ज्ञए 9 इंत;वायु सेद्ध 40ण् पाइरोप़्ाफाॅस्पफोरिक अम्ल़41ण् छभ्जल के साथ हाइड्रोजन बंध् बनाती है अतः उसमें विलेय हो जाती है, परन्तु च्भ्जल के33 साथ हाइड्रोजन बंध् नहीं बना पाती और यह गैस के रूप में ही बाहर निकल जाती है। 42ण् संकेत - इसकी ज्यामिति त्रिाकोणीय द्विपिरैमिडी होती है। 43ण् गैसीय अवस्था में छव्एकलक रूप में रहती है जिसमें इससे एक अयुगलित इलेक्ट्राॅन होता है,2 परन्तु द्रव अवस्था में यह द्वितय रूप लेकर छ2व्अवस्था में आ जाती है और इसमें अब कोइर्4 अयुगलित इलेक्ट्राॅन नहीं होता। अतः ठोस अवस्था में यह प्रतिचुंबकीय होती है। 44ण् क्योंकि क्लोरीन की तुलना में फ्रलुओरीन अध्िक )णविद्युती है। 45ण् भ्व् का आबंध् कोण अध्िक होगा क्योंकि आॅक्सीजन सल्पफर से अध्िक )ण विद्युती होती है2अतः व्दृभ् बंध् इलेक्ट्राॅनों का बंध् युगल आॅक्सीजन के निकट होगा और व्दृभ् बंधें के बंध् युगलों के मध्य अध्िक बंध् युगल - बंध् युगल विकषर्ण होगा। दृ 46ण् फ्रलुओरीन का आकार छोटा होने के कारण, सल्पफर के चारों ओर 6 थ् आयन समंजित हो सकते हैं, जबकि क्लोराइड आयन तुलनात्मक रूप से बड़े आकार के होते हैं अतः उनके मध्य अंतरा आयनिक विकषर्ण होगा। 47ण् । यौगिक च्ब्सहै ;यह पीत - श्वेत चूणर् होता हैद्ध5 च्4 ़ 10ब्स2 ⎯→ 4च्ब्स5 ठ यौगिक च्ब्सहै ;यह रंगहीन तैलीय द्रव होता हैद्ध3 च्4 ़ 6ब्स2 ⎯→ 4 च्ब्स3 जलअपघटन उत्पाद निम्नलिख्िात प्रकार से बनते हैं - च्ब्स3 ़ 3भ्2व् ⎯→ भ्3च्व्3़3भ्ब्स च्ब्स5 ़ 4भ्2व् ⎯→ भ्3च्व्4 ़ 5भ्ब्स दृ48ण् छव्3 ़ 3थ्म2़ ़ 4भ़् ⎯→ छव् ़ 3थ्म3़ ़ 2भ्2व् ख्थ्म;भ्व्द्ध,2़ ़ छव् ⎯→ ख्थ्म;भ्व्द्ध;छव्द्ध,2़ ़ भ्व्26 252;भूरा संवुफलद्ध 49ण् आॅक्सीजन, क्लोरीन की तुलना में अध्िक )णविद्युती होती है। अतः क्लोरीन पर उपस्िथत )ण आवेश दृका परिक्षेपण ब्सव्दृ सेब्सव्तक बढ़ता चला जाता है क्योंकि क्लोरीन से जुड़े आॅक्सीजन परमाणुओं4 की संख्या में वृि हो रही है। अतः आयनों के स्थायित्व में निम्नलिख्िात व्रफमानुसार वृि होगी - ब्सव्दृ ढ ब्सव्दृ ढ ब्सव्दृ ढ ब्सव्दृ 234 इस प्रकार संयुग्मी क्षारक के स्थायित्व में वृि के कारण, संगत अम्ल का सामथ्यर् निम्नलिख्िात व्रफम में बढ़ेगा - भ्ब्सव् ढ भ्ब्सव्2 ढ भ्ब्सव्3 ढ भ्ब्सव्4 50ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक का पृष्ठ 191 देखें। 51ण् च्व् ़ 6भ्व् ⎯→ 4भ्च्व्46233 भ्च्व् ़ 2छंव्भ् ⎯→ छं भ्च्व् ़ 2भ्व्, × 4 ;उदासीनीकरण अभ्िावि्रफयाद्ध33 232च्व् ़ 8छंव्भ् ⎯→ 4छं भ्च्व् ़ 2भ्व्46 2421 उवस 8 उवस च्व्के 1 उवस से बने उत्पाद को छंव्भ् के 8 उवस उदासीन करते हैं।46 1ण्1 1ण्1 ∴ उवस च्व्से बने उत्पाद को उदासीन करेंगे छंव्भ् के ×8 उवस22046 220 छंव्भ् विलयन की मोलरता 0ण्1ड है। अतः छंव्भ् के 0ण्1 उवसए 1 स् विलयन में उपस्िथत हैं। 1ण्1 1ण्1 × 8 884 ∴ ×8 उवस छंव्भ् उपस्िथत होंगे स् त्र स् त्र स् त्र 0ण्4 स् त्र 400उस् 220 220 ×0ण्1 22010छंव्भ् विलयन में 52ण् च्4 ़ 6ब्स2 ⎯→ 4च्ब्स3 च्ब्स3 ़ 3भ्2व् ⎯→ भ्3च्व्3 ़ 3भ्ब्स × 4 च् ़ 6ब्स ़ 12भ्व् ⎯→ 4भ्च्व् ़ 12भ्ब्स4 22331 उवस श्वेत प़्ाफाॅस्पफोरस़ 12 उवस भ्ब्स बनाता है। 62 1इसलिए 62ह श्वेत प़्ाफाॅस्पफोरस़त्र उवस भ्ब्स के तुल्य है अतः भ्ब्स के 6 उवस बनेंगे।124 2 6 उवस भ्ब्स का द्रव्यमान त्र 6 × 36ण्5 त्र 210 ह 53ण् नाइट्रोजन के तीन आॅक्सोअम्ल हैं - ;पद्ध भ्छव्ए नाइट्रस अम्ल;पपद्ध भ्छव् ए नाइटिªक अम्ल23;पपपद्ध भ्छव्ए हाइपोनाइट्रस अम्ल222 पातन3भ्छव्असमानु भ्छव् ़ भ्व् ़ 2छव्2 ⎯⎯⎯⎯⎯⎯→ 3254ण् 4भ्छव् ़ च्व्⎯→ 4भ्च्व् ़ 2छव्3410 325 55ण् ;ंद्धऽ संरचनाएँ ;एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा ग्प्प् की पाठ्यपुस्तक देखेंद्ध ऽ श्वेत पफाॅस्प़़्ाफोरस विविक्त चतुष्पफलकीय अणु होता है। इसकी चतुष्पफलकीय संरचना होती है जिसमें छः च्दृच् बंध् होते हैं। ऽ लाल पफाॅस्प़्ाफोरस की बहुलकी संरचना होती है जिसमें़ च्चतुष्पफलक परस्पर च्कृच् बंधें4 द्वारा जुड़े रहते हैं। ;इद्धअभ्िावि्रफयाशीलता श्वेत प़्ाफाॅस्प़्ाफोरस, लाल प़्ाफाॅस्प़्ाफोरस की तुलना में बहुत अध्िक अभ्िावि्रफयाशील होता है। इसका कारण है कि श्वेत प़्ाफाॅस्पफोरस वेफ़च्अणुओं में बंध् कोण केवल 60° के होते हैं जिससे4 कोणीय तनाव रहता है। 56ण् तनु और सांद्र नाइटिªक अम्ल काॅपर धतु से अभ्िावि्रफया करके अलग - अलग उत्पाद देते हैं। 3ब्न ़ 8भ्छव्;तनुद्ध ⎯→ 3ब्न;छव्द्ध ़ 2छव् ़ 4भ्व्3 322ब्न ़ 4भ्छव्;सांद्रद्ध ⎯→ 3ब्न;छव्द्ध ़ 2छव् ़ 2भ्व्3 32257ण् च्ब्स5 ़ 2।ह ⎯→ 2।हब्स ़ च्ब्स3 ।हब्स ़ 2छभ्;ंुद्ध ⎯→ ख्।ह;छभ्द्ध,़ब्सदृ3 32विलेय संवुुफल 58ण् प़्ाफाॅस्पफीनिक अम्ल ;हाइपोप़़्ाफाॅस्पफोरस अम्लद्ध की संरचना निम्न प्रकार है - ़प़्ाफाॅस्पफीनिक अम्ल का अपचायक व्यवहार नीचे दी गइर् सिल्वर नाइट्रेट के साथ अभ्िावि्रफया में देखा़जा सकता है। 4।हछव् ़ 2भ्व् ़ भ्च्व्⎯→ 4।ह ़ 4भ्छव् ़ भ्च्व्3232 334 प्टण् सुमेलन प्ररूप प्रश्न 59ण् ;पद्ध 60ण् ;पपद्ध 61ण् ;पद्ध 62ण् ;पपद्ध 63ण् ;पपपद्ध टण् अभ्िाकथन एवं तवर्फ प्ररूप प्रश्न 64ण् ;पपपद्ध 65ण् ;पपपद्ध 66ण् ;पपद्ध 67ण् ;पद्ध 68ण् ;पद्ध 69ण् ;पद्ध टप्ण् दीघर् उत्तर प्रश्न 70ण् ष्।ष् ैहै और ष्ठष् ैव् गैस है।8 2ै ़ 8व्→ 8ैव्8 2 ⎯⎯⎯Δ 2 2डदव्दृ ़ 5ैव् ़ 2भ्व् ⎯→ 5 ैव्2दृ ़ 4भ़् ़ 2डद2़ 4224 बैंगनी रंगहीन 2थ्म3़ ़ ैव्2 ़ 2भ्2व् ⎯→ 2थ्म2़ ़ ैव्42दृ ़ 4भ़् Δ 71ण् च्इ;छव्द्ध673ज्ञ 2च्इव् ़ 4छव्32 2 ;।द्ध ;भूरी गैसद्धठडंा करना2छव् छव्2 गमर् करना24;ठद्ध ;रंगहीन ठोसद्ध ⎯⎯⎯⎯⎯⎯Δ 250 ज्ञ 2छव् ़ छव्→ 2 छव्24 23 ;ब्द्ध ;नीला ठोसद्ध ;छव्की संरचनाद्ध24 ;छव्की संरचनाद्ध23 72ण् । त्र छभ् छव्ठ त्र छब् त्र छभ्क् त्र भ्छव्4223 3 ;पद्ध छभ् छव्→ छ ़ 2भ्व्4222;पपद्ध छ ़ 3भ्→ 2छभ्22 3 ;पपपद्ध 4छभ् ़ 5व्→ 4छव् ़ 6भ्व्32 24छव् ़ व्2 → 2छव्2 3छव्2 ़ भ्2व् → 2भ्छव्3 ़ छव्

RELOAD if chapter isn't visible.