प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप.प्द्ध 1ण् ब्न2़ द्वारा बनाए जाने वाले निम्नलिख्िात संवुफलों में से कौन - सा सवार्ध्िक स्थायी है? ,2़;पद्ध ब्न2़ ़ 4छभ् ख्ब्न;छभ्द्धए सवहज्ञ त्र 11ण्63 34,2दृ;पपद्ध ब्न2़ ़ 4ब्छदृ ख्ब्न;ब्छद्धए सवहज्ञ त्र 27ण्34,2़;पपपद्ध ब्न2़ ़ 2मद ख्ब्न;मदद्धए सवहज्ञ त्र 15ण्42,2़;पअद्ध ब्न2़ ़ 4भ्व् ख्ब्न;भ्व्द्धए सवहज्ञ त्र 8ण्92242ण् उपसहसंयोजन यौगिकों का रंग वि्रफस्टल क्षेत्रा विपाटन पर निभर्र करता है। संवुफलों ख्ब्व;छभ्द्ध,3़ए36ख्ब्व;ब्छद्ध,3दृ तथा ख्ब्व;भ्व्द्ध,3़ का दृश्य क्षेत्रा में तरंगदैघ्यर् के अवशोषण का सही व्रफम626क्या होगा? ,3दृ,3़ ,3़;पद्ध ख्ब्व;ब्छद्ध झ ख्ब्व;छभ्द्धझ ख्ब्व;भ्व्द्ध63626,3़ ,3़ ,3दृ;पपद्ध ख्ब्व;छभ्द्धझ ख्ब्व;भ्व्द्धझ ख्ब्व;ब्छद्ध36266,3़ ,3़,3दृ;पपपद्ध ख्ब्व;भ्व्द्धझ ख्ब्व;छभ्द्ध झ ख्ब्व;ब्छद्ध26366,3दृ,3़ ,3़;पअद्ध ख्ब्व;ब्छद्ध झ ख्ब्व;छभ्द्धझ ख्ब्व;भ्व्द्ध636263ण् 0ण्1 उवस ब्वब्स;छभ्द्धकी ।हछव्के आध्िक्य से अभ्िावि्रफया कराने पर ।हब्स के 0ण्2 उवस335 3 प्राप्त होते हैं। विलयन की चालकता ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ के समकक्ष होगी। ;पद्ध 1रू3 वैद्युत् अपघट्य ;पपद्ध 1रू2 वैद्युत् अपघट्य ;पपपद्ध 1रू1 वैद्युत् अपघट्य ;पअद्ध 3रू1 वैद्युत् अपघट्य 4ण् 1 उवस ब्तब्स⋅6भ्व् की ।हछव्के आध्िक्य से अभ्िावि्रफया कराने पर ।हब्स के 3 उवस प्राप्त हुए।323 संवुफल का सूत्रा है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध ख्ब्तब्स;भ्व्द्ध,⋅3भ्व्3232;पपद्ध ख्ब्तब्स;भ्व्द्ध,ब्स⋅2भ्व्2242;पपपद्ध ख्ब्तब्स;भ्व्द्ध,ब्स⋅भ्व्2522;पअद्ध ख्ब्त;भ्व्द्ध,ब्स263 5ण् ख्च्ज;छभ्द्धब्स, का सही प्न्च्।ब् नाम है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ।32 2;पद्ध डाइऐम्मीनडाइक्लोरिडोप्लैटिनम ;प्प्द्ध ;पपद्ध डाइऐम्मीनडाइक्लोरिडोप्लैटिनम ;प्टद्ध ;पपपद्ध डाइऐम्मीनडाइक्लोरिडोप्लैटिनम ;0द्ध ;पअद्ध डाइक्लोरिडोडाइएम्मीनप्लैटिनम ;प्टद्ध 6ण् कीलेशन द्वारा उपसहसंयोजन यौगिकों का स्थायित्व कीलेट प्रभाव कहलाता है। निम्नलिख्िात में से कौन - सी संवुफल स्पीशीश सवार्ध्िक स्थायी है? ;पद्ध ख्थ्म;ब्व्द्ध,;पपद्ध ख्थ्म;ब्छद्ध,3दृ 56;पपपद्ध ख्थ्म;ब्व्द्ध,3दृ 243;पअद्ध ख्थ्म;भ्व्द्ध,3़ 267ण् वह संवुफल आयन इंगित कीजिए जो ज्यामितीय समावयवता प्रदश्िार्त करता है। ;पद्ध ख्ब्त;भ्व्द्धब्स,़ ;पपद्ध ख्च्ज;छभ्द्ध ब्स,24233;पपपद्ध ख्ब्व;छभ्द्ध,3़ 36;पअद्ध ख्ब्व;ब्छद्ध;छब्द्ध,3दृ 58ण् अष्टपफलकीय ख्ब्वब्स,4दृ के लिए ब्थ्ैम् 18ए000 बउदृ1 है, तो चतुष्पफलकीय ख्ब्वब्स,2दृ की6 4ब्थ्ैम् होगी ऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध 18ए000 बउदृ1 ;पपद्ध 16ए000 बउदृ1 ;पपपद्ध 8ए000 बउदृ1 ;पअद्ध 2ए0000 बउदृ1 9ण् उभयदंती लिगंड के कारण उपसहसंयोजन यौगिक समावयवता दशार्ते हैं। पैलेडियम के ख्च्क;ब्भ्द्ध;ैब्छद्ध, और ख्च्क;ब्भ्द्ध;छब्ैद्ध, संवुफल हैं ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ।65226522;पद्ध बंध्नी समावयव ;पपद्ध उपसहसंयोजन समावयव ;पपपद्ध आयनन समावयव ;पअद्ध ज्यामितीय समावयव 129 उपसहसंयोजन यौगिक 10ण् यौगिक ख्ब्व;ैव्द्ध;छभ्द्ध,ठत और ख्ब्व;ैव्द्ध;छभ्द्ध,ब्स ऋऋऋऋऋऋऋऋ प्रदश्िार्त करते हैं।435 435;पद्ध बंध्नी समावयवता ;पपद्ध आयनन समावयवता ;पपपद्ध उपसहसंयोजन समावयवता ;पअद्ध कोइर् समावयवता नहीं 11ण् कीलेटी कमर्क में एक धतु आयन से आबंध्न के लिए दो अथवा दो से अध्िक दाता परमाणु होते हैं। निम्नलिख्िात में से कौन - सा कीलेटी कमर्क नहीं है? ;पद्ध थायोसल्पेफटो ;पपद्ध आॅक्सैलेटो ;पपपद्ध ग्लाइसिनेटो ;पअद्ध एथेन.1ए2.डाइऐमीन 12ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सी स्पीशीश का लिगंड होना अपेक्ष्िात नहीं है? ;पद्ध छव् ;पपद्ध छभ़् 4 ;पपपद्ध छभ्ब्भ्ब्भ्छभ्2222 ;पअद्ध ब्व् 13ण् ख्ब्त;भ्व्द्ध,ब्स;बैंगनीद्ध और ख्ब्त;भ्व्द्धब्स,ब्स⋅भ्व् ;सलेटी - हराद्धके बीच कौन - से प्रकार की 263 2522समावयवता पाइर् जाती हैघ् ;पद्ध बंध्नी समावयवता ;पपद्ध विलायकयोजन समावयवता ;पपपद्ध आयनन समावयवता ;पअद्ध उपसहसंयोजन समावयवता 14ण् ख्च्ज ;छभ्द्ध ब्स;छव्द्ध, का प्न्च्।ब् नाम ऋऋऋऋऋऋऋऋऋ है।322;पद्ध प्लैटिनम डाइऐम्मीनक्लोरोनाइट्राइट ;पपद्ध क्लोरोनाइट्राइटो - छ.ऐम्मीनप्लैटिनम;प्प्द्ध ;पपपद्ध डाइऐम्मीनक्लोरिडोनाइट्राइटो.छ.प्लैटिनम ;प्प्द्ध ;पअद्ध डाइऐम्मीनक्लोरोनाइट्राइटो.छ.प्लैटिनेट ;प्प्द्ध प्प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप.प्प्द्ध नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में दो या इससे अध्िक विकल्प सही हो सकते हैं। 15ण् डदए थ्म और ब्व की परमाणु संख्या व्रफमशः 25, 26 और 27 है। निम्नलिख्िात में से कौन - से आन्तरिक कक्षक अष्टपफलकीय संवुफल प्रतिचुंबकीय हैं? ;पद्ध ख्ब्व;छभ्द्ध,3़ 36;पपद्ध ख्डद;ब्छद्ध6,3दृ ;पपपद्ध ख्थ्म;ब्छद्ध6,4दृ ;पअद्ध ख्थ्म;ब्छद्ध6,3दृ 16ण् डदए थ्मए ब्व और छप की परमाणु संख्या व्रफमशः 25, 26, 27 और 28 है। निम्नलिख्िात में से किन वाह्य कक्षक अष्टपफलकीय संवुफलों में अयुगलित इलेक्ट्राॅनों की संख्या समान है? ;पद्ध ख्डदब्स,3दृ ;पपद्ध ख्थ्मथ्,3दृ 66;पपपद्ध ख्ब्वथ्,3दृ 6;पअद्ध ख्छप;छभ्द्ध,2़ 3617ण् ख्थ्म;ब्छद्ध,3दृ संवुफल के विषय में कौन - से विकल्प सही हैं?6;पद्ध क2ेच3 संकरण ;पपद्ध ेच3क2 संकरण ;पपपद्ध अनुचुंबकीय ;पअद्ध प्रतिचुंबकीय 18ण् कोबाल्ट ;प्प्द्धक्लोराइड के गुलाबी रंग के जलीय विलयन में आध्िक्य में भ्ब्स मिलाने से यह गहरे नीले रंग का हो जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध ख्ब्व;भ्व्द्ध,2़ का ख्ब्वब्स,4दृ में परिवतर्न होता है।;पपद्ध ख्ब्व;भ्व्द्ध,2़ का ख्ब्वब्स,2दृ में परिवतर्न होता है।266264;पपपद्ध चतुष्पफलकीय संवुफलों का वि्रफस्टल क्षेत्रा विपाटन अष्टपफलकीय संवुफलों की तुलना में कम होता है। ;पअद्ध चतुष्पफलकीय संवुफलों का वि्रफस्टल क्षेत्रा विपाटन अष्टपफलकीय संवुफलों की तुलना में अध्िक होता है। 19ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से संवुफल होमोलेप्िटक हैं? ,3़;पद्ध ख्ब्व;छभ्द्ध36;पपद्ध ख्ब्व;छभ्द्ध ब्स,़ 342,2दृ;पपपद्ध ख्छप;ब्छद्ध4;पअद्ध ख्छप;छभ्द्धब्स,34220ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से संवुफल हेट्रोलेप्िटक हैं? ,3़;पद्ध ख्ब्त;छभ्द्ध36;पपद्ध ख्थ्म;छभ्द्ध4 ब्स,़ 32,4दृ;पपपद्ध ख्डद;ब्छद्ध6;पअद्ध ख्ब्व;छभ्द्धब्स,34221ण् निम्नलिख्िात में से ध्ु्रवण घूणर्क यौगिकों को पहचानिए। ,3़;पद्ध ख्ब्व;मदद्ध;पपद्ध विपक्ष - ख्ब्व;मदद्ध ब्स,़ 322;पपपद्ध समपक्ष - ख्ब्व;मदद्धब्स,़ 2 2;पअद्ध ख्ब्त ;छभ्द्धब्स,3522ण् एथेन - 1, 2 - डाइऐमीन के लिगंड की तरह व्यवहार के संबंध् में सही कथन हैं - ;पद्ध यह उदासीन लिगंड है। ;पपद्ध यह द्विदंतुर लिगंड है। ;पपपद्ध यह कीलेटी लिगंड है। ;पअद्ध यह एकदंतुर लिगंड है। 23ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से संवुफल बंध्नी समावयवता प्रदश्िार्त करते हैं? द्ध,2़;पद्ध ख्ब्व;छभ्द्ध;छव्35 2;पपद्ध ख्ब्व;भ्व्द्धब्व्,3़ 25;पपपद्ध ख्ब्त;छभ्द्ध ैब्छ,2़ 35;पअद्ध ख्थ्म;मदद्ध ब्स,़ 22प्प्प्ण् लघु उत्तर प्रश्न 24ण् निम्नलिख्िात संवुफलों को उनके विलयनों की बढ़ती हुइर् चालकता के व्रफम में व्यवस्िथत कीजिए - ख्ब्व;छभ्द्धब्स,ए ख्ब्व;छभ्द्धब्स,ब्सए ख्ब्व;छभ्द्ध,ब्स ए ख्ब्त;छभ्द्धब्स,ब्स33 3342363352 25ण् एक उपसहसंयोजन यौगिक, ब्तब्स⋅4भ्व्ए सिल्वर नाइट्रेट से अभ्िावि्रफया करके सिल्वर क्लोराइड32अवक्षेपित करता है। इसके विलयन की मोलर चालकता दो आयनों के अनुरूप है। यौगिक का संरचना सूत्रा और नाम लिख्िाए। 26ण् एक ख्ड;।।द्धग्,द़ प्रकार का संवुफल ध्ु्रवण घूणर्क है। यह संवुफल की संरचना के विषय में क्या इंगित22करता है? ऐसे संवुफल का एक उदाहरण दीजिए। 27ण् ख्डदब्स,2दृ का चुंबकीय आघूणर् 5ण्92 ठड है। इसे कारण सहित स्पष्ट कीजिए।428ण् वि्रफस्टल क्षेत्रा विपाटन के आधर पर स्पष्ट कीजिए कि ब्व;प्प्प्द्धदुबर्ल क्षेत्रा लिगंड के साथ अनुचुंबकीय अष्टपफलकीय संवुफल क्यों बनाता है जबकि प्रबल क्षेत्रा लिगंड के साथ यह प्रतिचुंबकीय अष्टपफलकीय संवुफल बनाता है। 29ण् निम्न प्रचव्रफण चतुष्पफलकीय संवुफल क्यों नहीं बनते? 30ण् वि्रफस्टल क्षेत्रा विपाटन सि(ांत के आधर पर निम्नलिख्िात संवुफलों के इलेक्ट्राॅनिक विन्यास लिख्िाए - ,3दृ ,2़ख्ब्वथ्ए ख्थ्म;ब्छद्ध,4दृ और ख्ब्न;छभ्द्ध66 3631ण् ख्थ्म;भ्व्द्ध,3़ का चुंबकीय आघूणर् 5ण्92 ठड होता है जबकि ख्थ्म;ब्छद्ध,3दृ का चुंबकीय आघूणर्26 6केवल 1ण्74 ठड होता है। स्पष्ट कीजिए। 32ण् निम्नलिख्िात संवुफल आयनों को वि्रफस्टल क्षेत्रा विपाटन उफजार् ;Δद्ध के बढ़ते हुए व्रफम में व्यवस्िथत 0कीजिए - ख्ब्त;ब्सद्ध,3दृए ख्ब्त;ब्छद्ध,3दृए ख्ब्त;छभ्द्ध,3़ 663633ण् समान ज्यामिती वाले यौगिकों का चुंबकीय आघूणर् भ्िान्न क्यों होता है? 34ण् ब्नैव्ण्5भ्व् का रंग नीला होता है जबकि ब्नैव्रंगहीन होता है क्यों?35ण् जब उभयदंती लिगंड वेंफद्रीय धतु आयन से जुड़े होते हैं तो कौन - सी समावयवता संभव है? उभयदंती लिगंडों के दो उदाहरण दीजिए। 42 4 प्टण् सुमेलन प्ररूप प्रश्न नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में काॅलम प् और काॅलम प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए। 36ण् काॅलम प् में दिए गए संवुफल आयनों और काॅलम प्प् में दिए रंगों को सुमेलित कीजिए और सही कोड प्रदान कीजिए। काॅलम प् ;संवुफल आयनद्ध काॅलम प्प् ;रंगद्ध ;।द्ध ख्ब्व;छभ्द्ध,3़ ;1द्धबैंगनी ;ठद्ध ख्ज्प;भ्व्द्ध,3़ ;2द्धहरा ;ब्द्ध ख्छप;भ्व्द्ध,2़ ;3द्धपीत - नीला 362626;क्द्ध;छप;भ्व्द्ध;मदद्ध,2़ ;ंुद्ध;4द्धपीत - नारंगी 243;5द्धनीला कोड - ;पद्ध । ;1द्ध ठ ;2द्ध ब् ;4द्ध क् ;5द्ध ;पपद्ध । ;4द्ध ठ ;3द्ध ब् ;2द्ध क् ;1द्ध ;पपपद्ध । ;3द्ध ठ ;2द्ध ब् ;4द्ध क् ;1द्ध ;पअद्ध । ;4द्ध ठ ;1द्ध ब् ;2द्ध क् ;3द्ध 37ण् काॅलम प् में दिए गए उपसहसंयोजन यौगिकों और काॅलम प्प् में दिए वेंफद्रीय धत्िवक परमाणुओं को सुमेलित कीजिए और सही कोड प्रदान कीजिए। काॅलम प् ;उपसहसंयोजन यौगिकद्ध काॅलम प्प् ;वेंफद्रीय धत्िवक परमाणुद्ध ;।द्ध क्लोरोपिफल ;1द्ध रोडियम ;ठद्ध रक्त वणर्क ;2द्ध कोबाल्ट ;ब्द्ध विल्िंकसन उत्प्रेरक ;3द्ध वैफल्िसयम ;क्द्ध विटामिन ठ;4द्ध आयरन 12 ;5द्ध मैग्नीश्िायम कोड - ;पद्ध । ;5द्ध ठ ;4द्ध ब् ;1द्ध क् ;2द्ध ;पपद्ध । ;3द्ध ठ ;4द्ध ब् ;5द्ध क् ;1द्ध ;पपपद्ध । ;4द्ध ठ ;3द्ध ब् ;2द्ध क् ;1द्ध ;पअद्ध । ;3द्ध ठ ;4द्ध ब् ;1द्ध क् ;2द्ध 38ण् काॅलम प् में दिए संवुफल आयनों और काॅलम प्प् में दिए संकरण तथा अयुगलित इलेक्ट्राॅनों की संख्या को सुमेलित कीजिए और सही कोड प्रदान कीजिए। काॅलम प् ;संवुफल आयनद्ध काॅलम प्प् ;संकरण, अयुगलित इलेक्ट्राॅनों की संख्याद्ध ;।द्ध ख्ब्त;भ्व्द्ध,3़ ;1द्ध केच2ए 1;ठद्ध ख्ब्व;ब्छद्ध,2दृ ;2द्ध ेच3क2ए 5;ब्द्ध ख्छप;छभ्द्ध,2़ ;3द्ध क2ेच3ए 3;क्द्ध ख्डदथ्,4दृ ;4द्ध ेच3ए 4264366;5द्ध ेच3क2ए 2 कोड - ;पद्ध । ;3द्ध ठ ;1द्ध ब् ;5द्ध क् ;2द्ध ;पपद्ध । ;4द्ध ठ ;3द्ध ब् ;2द्ध क् ;1द्ध ;पपपद्ध । ;3द्ध ठ ;2द्ध ब् ;4द्ध क् ;1द्ध ;पअद्ध । ;4द्ध ठ ;1द्ध ब् ;2द्ध क् ;3द्ध 39ण् काॅलम प् में दी गइर् संवुफल स्पीशीश और काॅलम प्प् में दिए गए समावयवता के प्रकारों को सुमेलित कीजिए और सही कोड प्रदान कीजिए। काॅलम प् ;संवुफल स्पीशीशद्ध काॅलम प्प् ;समावयवताद्ध ;।द्ध ख्ब्व;छभ्3द्धब्स2,़ ;1द्ध ध्ु्रवण ;ठद्ध समपक्ष - ख्ब्व;मदद्ध2ब्स,़ ;2द्ध आयनन ;ब्द्ध ख्ब्व;छभ्द्ध;छव्द्ध,ब्स;3द्ध उपसहसंयोजन ;क्द्ध ख्ब्व;छभ्द्ध,ख्ब्त;ब्छद्ध, ;4द्ध ज्यामितीय 4 235 22 366;5द्ध बंध्नी कोड - ;पद्ध । ;1द्ध ठ ;2द्ध ब् ;4द्ध क् ;5द्ध ;पपद्ध । ;4द्ध ठ ;3द्ध ब् ;2द्ध क् ;1द्ध ;पपपद्ध । ;4द्ध ठ ;1द्ध ब् ;5द्ध क् ;3द्ध ;पअद्ध । ;4द्ध ठ ;1द्ध ब् ;2द्ध क् ;3द्ध 40ण् काॅलम प् में दिए गए यौगिकों और इनमें उपस्िथत कोबाल्ट की काॅलम प्प् में दी गइर् आक्सीकरण अवस्थाओं को सुमेलित कीजिए और सही कोड प्रदान कीजिए। काॅलम प् ;यौगिकद्ध काॅलम प्प् ;ब्व की आॅक्सीकरण अवस्थाद्ध ;।द्ध ख्ब्व;छब्ैद्ध;छभ्द्ध,;ैव्द्ध;1द्ध ़ 4;ठद्ध ख्ब्व;छभ्द्धब्स,ैव्;2द्ध 0;ब्द्ध छंख्ब्व;ैव्द्ध, ;3द्ध ़ 1;क्द्ध ख्ब्व;ब्व्द्ध, ;4द्ध ़ 235334 24 42332 8;5द्ध ़ 3 कोड - ;पद्ध । ;1द्ध ठ ;2द्ध ब् ;4द्ध क् ;5द्ध ;पपद्ध । ;4द्ध ठ ;3द्ध ब् ;2द्ध क् ;1द्ध ;पपपद्ध । ;5द्ध ठ ;1द्ध ब् ;4द्ध क् ;2द्ध ;पअद्ध । ;4द्ध ठ ;1द्ध ब् ;2द्ध क् ;3द्ध टण् अभ्िाकथन एवं तवर्फ प्ररूप प्रश्न नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में अभ्िाकथन के पश्चात संगत तवर्फ का कथन दिया है। निम्नलिख्िात विकल्पोंमें से कथन का चयन करके सही उत्तर दीजिए। ;पद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों सही हैं और तवर्फ अभ्िाकथन का सही स्पष्टीकरण है। ;पपद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों सही कथन हैं परन्तु तवर्फ अभ्िाकथन का स्पष्टीकरण नहीं है। ;पपपद्ध अभ्िाकथन सही है परन्तु तवर्फ गलत कथन है। ;पअद्ध अभ्िाकथन गलत है परन्तु तवर्फ सही कथन है। 41ण् अभ्िाकथन - आविषी धतु आयन कीलेटी लिगंडों द्वारा निष्काष्िात किए जाते हैं। तवर्फ - कीलेट संवुफलों की प्रवृिा अध्िक स्थायी होने की होती है। 42ण् अभ्िाकथन - ख्ब्त;भ्व्द्ध,ब्सऔर ख्थ्म;भ्व्द्ध,ब्सअपचायी प्रवृफति के होते हैं।262 262 तवर्फ - इनके क.कक्षकों में अयुगलित इलेक्ट्राॅन होते हैं। 43ण् अभ्िाकथन - उभयदंती लिगंडों वाले उपसहसंयोजन यौगिकों में बंध्नी समावयवता होती है। तवर्फ - उभयदंती लिगंडों में दो भ्िान्न दाता परमाणु होते हैं। 44ण् अभ्िाकथन - डग्और डग्स् प्रकार के संवुफल ;ग् और स् एकदंती हैंद्ध ज्यामितीय समावयवता 65प्रदश्िार्त नहीं करते। तवर्फ - उपसहसंयोजन संख्या 6 वाले संवुफल ज्यामितीय समावयवता नहीं दशार्ते। 45ण् अभ्िाकथन - ;ख्थ्म;ब्छद्ध,3दृ आयन दो अयुगलित इलेक्ट्राॅनों के समकक्ष चुंबकीय आघूणर् प्रदश्िार्त6करता है। तवर्फ - क्योंकि इसमें क2ेच3 संकरण होता है। टप्ण् दीघर् उत्तर प्रश्न 46ण् वि्रफस्टल क्षेत्रा विपाटन सि(ांत का प्रयोग करते हुए उफजार् स्तर आलेख बनाइए और निम्नलिख्िात में वेंफद्रीय धतु परमाणु/आयन का इलेक्ट्राॅनी विन्यास लिखकर चुंबकीय आघूणर् का मान निधर्रित कीजिए - ;पद्ध ख्ब्वथ्,3दृए ख्ब्व;भ्व्द्ध,2़ ए ख्ब्व;ब्छद्ध,3दृ ;पपद्ध ख्थ्मथ्,3दृए ख्थ्म;भ्व्द्ध,2़ए ख्थ्म;ब्छद्ध,4दृ 62666266,3दृ,3़ ,4दृ47ण् संयोजकता आबंध् सि(ांत द्वारा ख्डद;ब्छद्ध ए ख्ब्व;छभ्द्धए ख्ब्त;भ्व्द्ध,3़ और ख्थ्मब्स636266के संबंध् में निम्नलिख्िात को स्पष्ट कीजिए। ;पद्ध संकरण का प्रकार ;पपद्ध अंतर अथवा वाह्य कक्षक संवुफल ;पपपद्ध चुंबकीय व्यवहार ;पअद्ध केवल प्रचव्रफण चुंबकीय आघूणर् मान 48ण् ब्वैव्ब्सण्5छभ्के दो समावयवी ;।द्ध और ;ठद्ध होते हैं। समावयवी ;।द्धए ।हछव्से अभ्िावि्रफया43 3 कर श्वेत अवक्षेप देता है परन्तु ठंब्ससे अभ्िावि्रफया नहीं करता। समावयवी ;ठद्धए ठंब्ससे अभ्िावि्रफया2 2 कर श्वेत अवक्षेप देता है, परन्तु ।हछव्से अभ्िावि्रफया नहीं करता। निम्नलिख्िात प्रश्नों के उत्तर दीजिए।3 ;पद्ध । और ठ को पहचानिए और उनके संरचना सूत्रा लिख्िाए। ;पपद्ध सम्िमलित समावयवता का प्रकार लिख्िाए। ;पपपद्ध । और ठ के प्न्च्।ब् नाम लिख्िाए। 49ण् संवुफल का प्रेक्ष्िात रंग संवुफल द्वारा अवशोष्िात तरंग दैघ्यर् से वैफसे संबंध्ित होता है? 50ण् उसी धतु और उन्हीं लिगंडों वाले अष्टपफलकीय और चतुष्पफलकीय संवुफलों का रंग भ्िान्न क्यों होता है? प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप - प्द्ध 1ण् ;पपद्ध 2ण् ;पपपद्ध 3ण् ;पपद्ध 4ण् ;पअद्ध 5ण् ;पद्ध 6ण् ;पपपद्ध 7ण् ;पद्ध 8ण् ;पपपद्ध 9ण् ;पद्ध 10ण् ;पअद्ध 11ण् ;पद्ध 12ण् ;पपद्ध 13ण् ;पपद्ध 14ण् ;पपपद्ध प्प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप - प्प्द्ध 15ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 16ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 17ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 18ण् ;पपद्धए ;पपपद्ध 19ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 20ण् ;पपद्धए ;पअद्ध 21ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 22ण् ;पद्धए ;पपद्धए ;पपपद्ध 23ण् ;पद्धए ;पपपद्ध प्प्प्ण् लघु उत्तर प्रश्न 24ण् ख्ब्व;छभ्द्धब्स, ढ ख्ब्त;छभ्द्धब्स,ब्स ढ ख्ब्व;छभ्द्धब्स,ब्स ढ ख्ब्व;छभ्द्ध,ब्स33335 352363 25ण् ख्ब्व;भ्व्द्धब्स,ब्स ;टेट्राएक्वाडाइक्लोरिडोकोबाल्ट ;प्प्प्द्ध क्लोराइडद्ध 26ण् ख्ड;।।द्धग्,द़ प्रकार का ध्ु्रवण घूणर्क संवुफल समपक्ष - अष्टपफलकीय संरचना इंगित करता है।24 222उदाहरणाथर्, समपक्ष - ख्च्ज;मदद्धब्स,2़ अथवा समपक्ष - ख्ब्त;मदद्धब्स,़ 22 2227ण् मान लीजिए चुंबकीय आघूणर् का 5ण्92 ठड डद2़ के क.कक्षकों के पाँच अयुगलित इलेक्ट्राॅनों के अनुरूप है। परिणामस्वरूप निहित संकरण केच2 के बजाय ेच3 होता है। अतः ख्डदब्स,2दृ की4चतुष्पफलकीय संरचना के चुंबकीय आघूणर् का मान 5ण्92 ठड होता है। 28ण् दुबर्ल क्षेत्रा लिगंडों के साथ Δ0 ढ चए इसलिए ब्व ;प्प्प्द्ध का इलेक्ट्राॅनी विन्यास ज42ह म2ह होता है और इसमें 4 अयुगलित इलेक्ट्राॅन होते हैं तथा यह अनुचंुबकीय होता है। प्रबल क्षेत्रा लिगंडों के साथ, Δ0 झ चए इसलिए इलेक्ट्राॅनी विन्यास ज62ह म0ह होता है। इसमें कोइर् अयुगलित इलेक्ट्राॅन नहीं होता और यह प्रतिचुंबकीय होता है। 29ण् चतुष्पफलकीय संवुफलों के लिए वि्रफस्टल क्षेत्रा स्थायीकरण उफजार्, युगमन उफजार् से कम होने के कारण। 4230ण् ख्ब्वथ्,3दृए ब्व3़;क 6द्ध ज म ए62हह 60ख्थ्म;ब्छद्ध,4दृ ए थ्म2़;क6द्ध ज म ए62हह ,2़63ख्ब्न;छभ्द्ध ए ब्न2़ ;क 9 द्ध ज म ए36 2हह 31ण् ख्थ्म;ब्छद्ध,3दृ में क2ेच3 संकरण होता है और एक अयुगलित इलेक्ट्राॅन होता है परन्तु ख्थ्म;भ्व्द्ध,3़ 6 26में ेच3क2 संकरण होता है तथा 5 अयुगलित इलेक्ट्राॅन होते हैं। यह अन्तर इन संवुफलों में व्रफमशः दृप्रबल ब्छ और दुबर्ल भ्व् लिगंडों के कारण होता है।2,3दृ ,3़,3दृ32ण् वि्रफस्टल क्षेत्रा विपाटन उफजार् का बढ़ता व्रफम है ख्ब्त;ब्सद्धढ ख्ब्त;छभ्द्ध ढ ख्ब्त;ब्छद्ध33ण् संवुफलों में यह दुबर्ल और प्रबल लिगंडों की उपस्िथति के कारण होता है, जिसके पफलस्वरूप इनकी ब्थ्ैम् भ्िान्न होती है। यदि ब्थ्ैम् उच्च है तो संवुफल चुंबकीय आघूणर् का निम्न मान दशार्ता है तथा इसके विपरीत भी। उदाहरणाथर् ख्ब्वथ्,3दृ और ख्ब्व;छभ्द्ध,3़ ए पहले वाला अनुचुंबकीय होता6366636है और बाद वाला प्रतिचुंबकीय होता है। 34ण् ब्नैव्ण्5भ्व् में जल लिगंड की तरह कायर् करता है। अतः यह वि्रफस्टल क्षेत्रा विपाटन करता 42है इसलिए ब्नैव्ण्5भ्व् में ककृक स्थानांतरण संभव है और इसीलिए यह रंग प्रदश्िार्त करता है।42परन्तु निजर्ल ब्नैव्में लिगंड ;जलद्ध की अनुपस्िथति में वि्रफस्टल क्षेत्रा विपाटन संभव नहीं होगा4 अतः रंग भी नहीं होगा। 35ण् बंध्नी समावयवता उदाहरण - ;पद्ध ड←व्कृछ त्र व् नाइट्राइटोदृव् ;पपद्ध ड← ैब्छ ड←छब्ै थायोसायनेटो आइसोथायोसायनेटो प्टण् सुमेलन प्ररूप प्रश्न 36ण् ;पपद्ध 37ण् ;पद्ध 38ण् ;पद्ध 39ण् ;पअद्ध 40ण् ;पद्ध टण् अभ्िाकथन एवं तवर्फ प्ररूप प्रश्न 41ण् ;पद्ध 42ण् ;पपद्ध 43ण् ;पद्ध 44ण् ;पपद्ध 45ण् ;पअद्ध टप्ण् दीघर् उत्तर प्रश्न 46ण् ∴ चुम्बकीय आघूणर् त्र ; 2द्ध त्र ़ 2द्धदद़4;4 त्र 24 त्र 4ण्9 ठड ∴ चुम्बकीय आघूणर् त्र 15 त्र 3ण्87 ठड∴ चुम्बकीय आघूणर् त्र 35 त्र 5ण्92 ठड∴ चुम्बकीय आघूणर् त्र त्र 4ण्9 ठण् डण्,4दृख्थ्म;ब्छद्ध6थ्म2़ त्र 3क6 दृब्छ के प्रबल क्षेत्रा लिगंड होने के कारण सभी इलेक्ट्राॅन युगलित हो जाते हैं। ,3दृ47ण् ख्डद ;ब्छद्ध6डद3़ त्र 3क4 ;पद्ध क2 ेच3 ;पपद्ध आंतरिक कक्षक संवुफल ;पपपद्ध अनुचंुबकीय ;पअद्ध 8 त्र 2ण्87 ठण्डण् ,3़ख्ब्व;छभ्द्ध36ब्व3़ त्र 3क6 ;पद्ध क2 ेच3 ;पपद्ध आंतरिक कक्षक संवुफल ;पपपद्ध प्रतिचुंबकीय ;पअद्ध शून्य ;पद्ध ;पपद्ध ;पपपद्ध ;पअद्ध ;पद्ध ;पपद्ध ;पपपद्ध ;पअद्ध 48ण् ;पद्ध ;पपद्ध ,3़ख्ब्त;भ्व्द्ध26ब्त3़ त्र 3क3 क2 ेच3 आंतरिक कक्षक संवुफल अनुचुंबकीय 3ण्87 ठड ,4दृख्थ्म;ब्सद्ध6थ्म2़ त्र 3क6 ेच3क2 बा“य कक्षक संवुफल अनुचुंबकीय 4ण्9 ठड । त्र ख्ब्व;छभ्द्धैव्,ब्स35 4ठ त्र ख्ब्व;छभ्द्धब्स,ैव्354 आयनन समावयवता ;पपपद्ध;।द्ध पेन्टाऐम्मीनसल्पेफटोकोबाल्ट ;प्प्प्द्धक्लोराइड ;ठद्ध पेन्टाऐम्मीनक्लोरोकोबाल्ट ;प्प्प्द्धसल्पेफट 49ण् जब श्वेत प्रकाश संवुफल पर पड़ता है तो इसका वुफछ भाग अध्िशोष्िात हो जाता है। वि्रफस्टल क्षेत्रा विपाटन जितना अिाक होता है, संवुफल द्वारा अध्िशोष्िात तरंगदैघ्यर् उतना ही कम होता है। बचे हुए तरंगदैघ्यर् का रंग संवुफल का प्रेक्ष्िात रंग होता है। 4⎛⎞Δत्र Δ50ण् ज ⎜⎟0ण् इसलिए उसी धतु और लिगंडों के लिए अष्टपफलकीय संवुफल में चतुष्पफलकीय संवुफल9⎝⎠से उच्च तरंगदैघ्यर् अिाशोष्िात होता है।

RELOAD if chapter isn't visible.