प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप.प्द्ध 1ण् ग्लूकोस के निम्नलिख्िात बहुलकों में से जंतु कौन - सा संचित करते हैं? ;पद्ध सेलुलोस ;पपद्ध ऐमिलोस ;पपपद्ध ऐमिलोपेक्िटन ;पअद्ध ग्लाइकोजन 2ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सा अध्र्संश्लेष्िात बहुलक नहीं है? ;पद्ध सिस - पाॅलिआइसोप्रीन ;पपद्ध सेलुलोस नाइट्रेट ;पपपद्ध सेलुलोस एसीटेट ;पअद्ध वल्कनीवृफत रबर 3ण् पाॅलिऐवि्रफलोनाइट्राइल का औद्योगिक नाम है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध डेव्रफान ;पपद्ध आॅरलाॅन ;ऐवि्रफलनद्ध ;पपपद्ध च्टब् ;पअद्ध बैकेलाइट 4ण् निम्नलिख्िात बहुलकों में से कौन - सा जैवनिम्नीय है? ;पद्ध 5ण् एथ्िालीन ग्लाइकाॅल निम्नलिख्िात बहुलकों में से किसकी एकलक इकाइयों में से एक है? 6ण् निम्नलिख्िात कथनों में से कौन - सा अल्प घनत्व पाॅलिथीन के संबंध् में सही नहीं है? ;पद्ध कठोर ;पपद्ध दृढ़ ;पपपद्ध विद्युत् के अल्प चालक ;पअद्ध अत्यध्िक शाख्िात संरचना 7ण् बहुलक, का एकलक है ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ। ;पद्ध ;पपद्ध ;पपपद्ध ;पअद्ध 8ण् निम्नलिख्िात एकलक इकाइर् के उपयोग से कौन - सा बहुलक बन सकता है? ;पद्ध नाइलाॅन 6ए 6 ;पपद्ध नाइलाॅन 2 - नाइलाॅन 6 ;पपपद्ध मेलैमीन बहुलक ;पअद्ध नाइलाॅन.6 प्प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप.प्प्द्ध नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में दो या इससे अध्िक विकल्प सही हो सकते हैं। 9ण् निम्नलिख्िात बहुलकों में से किसके विरचन के लिए कम से कम एक डाइइर्न एकलक की आवश्यकता होती है? ;पद्ध डेव्रफाॅन ;पपद्ध ब्यूना.ै ;पपपद्ध निओप्रीन ;पअद्ध नोवोलेक 10ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से तापदृढ़ बहुलकों के गुणध्मर् हैं? ;पद्ध अत्यध्िक शाख्िात तियर्क बंध्ित बहुलक। ;पपद्ध विंफचित शाख्िात लम्बी शृंखला के अणु। ;पपपद्ध साँचों में तापन करने पर दुगर्लनीय बन जाते हैं। दोबारा उपयोग में नहीं आ सकते। ;पअद्ध गरम करने से मुलायम पड़ जाते हैं और ठंडा करने पर कठोर हो जाते हैं। दोबारा उपयोग किए जा सकते हैं। 11ण् निम्नलिख्िात बहुलकों में से कौन - सा बहुलक तापसुघट्य है? ;पद्ध टेफ्रलाॅन ;पपद्ध प्रावृफतिक रबर ;पपपद्ध निओप्रीन ;पअद्ध पाॅलिस्टाइरीन 12ण् निम्नलिख्िात बहुलकों में से कौन - सा रेशे के समान प्रयुक्त होता है? ;पद्ध पाॅलिटेट्राफ्रलुरोएथेन ;पपद्ध पाॅलिक्लोरोप्रीन ;पपपद्ध नाइलाॅन ;पअद्ध टेरिलीन 13ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से योगज बहुलक हैं? ;पद्ध नाइलाॅन ;पपद्ध मेलैमीन - पफाॅमेर्ल्िडहाइड रेिान ;पपपद्ध आॅरलाॅन ;पअद्ध पाॅलिस्टाइरीन 14ण् निम्नलिख्िात बहुलकों में से कौन - से संघनन बहुलक हैं? ;पद्ध बैकेलाइट ;पपद्ध टेफ्रलाॅन ;पपपद्ध ब्यूटिल रबर ;पअद्ध मेलैमीन - पफाॅमेर्ल्िडहाइड रेिान 15ण् निम्नलिख्िात में से कौन - सी एकलक इकाइयाँ जैवनिम्ननीय बहुलक बनाती हैं? ;पद्ध 3.हाइड्राॅक्सी ब्यूटेनाॅइक अम्ल ़ 3.हाइड्राॅक्सीपेन्टेनाॅइक अम्ल ;पपद्ध ग्लाइसिन ़ ऐमीनोवैफप्रोइक अम्ल ;पपपद्ध एथ्िालीन ग्लाइकाॅल ़ थैलिक अम्ल ;पअद्ध वैफप्रोलेक्टम 16ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से संश्लेष्िात रबर का उदाहरण हैं? ;पद्ध पाॅलिक्लोरोप्रीन ;पपद्ध पाॅलिऐवि्रफलोनाइट्राइल ;पपपद्ध ब्यूना - छ ;पअद्ध समपक्ष.पाॅलिआइसोप्रीन 17ण् निम्नलिख्िात बहुलकों में से किनमें प्रबल अंतराआण्िवक बल उपस्िथत हो सकते हैं? ;पद्ध नाइलाॅन ;पपद्ध पाॅलिस्टाइरीन ;पपपद्ध रबर ;पअद्ध पाॅलिएस्टर 18ण् निम्नलिख्िात बहुलकों में से किनमें वाइनिलिक एकलक इकाइयाँ उपस्िथत होती हैं? ;पद्ध एवि्रफलन ;पपद्ध पाॅलिस्टाइरीन ;पपपद्ध नाइलाॅन ;पअद्ध टेफ्रलाॅन 19ण् वल्कनीकरण रबर को बनाता है - ;पद्ध अध्िक प्रत्यास्थ ;पपद्ध विलायक में घुलनशील ;पपपद्ध वि्रफस्टलीय ;पअद्ध अध्िक कड़ा प्प्प्ण् लघु उत्तर प्रश्न 20ण् 2.मेथ्िाल.1ए 3.ब्यूटाडाइर्न का एक प्रावृफतिक रेखीय बहुल 373 से 415 ज्ञ ताप के मध्य गंध्क के साथ गरम करने से कठोर बन जाता है और इसकी शृंखलाओं के मध्य कृैकृैकृ बंध् बन जाते हैं। इस वि्रफया के उत्पादों की संरचना लिख्िाए। 21ण् बहुलक के प्रकार को पहचानिए। 22ण् बहुलक के प्रकार को पहचानिए। कृ।कृ।कृ।कृ।कृ।कृ।कृ कृ।कृठकृठकृ।कृ।कृ।कृठकृ।कृ 23ण् निम्नलिख्िात बहुलकन को आप शृंखला वृि बहुलकन और पदशः वृि बहुलकन में से किस प्रकार में रखेंगे।24ण् निम्नलिख्िात चित्रा में दिए गए बहुलक के प्रकार को पहचानिए। अथवा 25ण् निम्नलिख्िात बहुलक की पहचान कीजिए। 26ण् रबर को प्रत्यास्थ बहुलक क्यों कहते हैं? 27ण् क्या एन्जाइम को बहुलक कहा जा सकता है? 28ण् क्या न्यूक्िलक अम्ल, प्रोटीन और स्टाचर् को पदवृि बहुलक मान सकते हैं? 29ण् निम्नलिख्िात रेिान मध्यवतीर् वैफसे बनाया जाता है और इस एकलक इकाइर् से कौन - सा बहुलक बनता है? 30ण् व्यवहारिक उपयोग के लिए रबर में तियर्क बंधें की आवश्यकता क्यों होती है? 31ण् समपक्ष - पाॅलिआइसोप्रीन यानी सिस - पाॅलिआइसोप्रीन में प्रत्यास्थ गुण क्यों होता है? 32ण् भ्क्च् और स्क्च् की संरचनाओं में क्या अन्तर होता है? इनकी संरचना इनके व्यवहार में अन्तर और इसके कारण बहुलकों के उपयोग की भ्िान्नता को किस प्रकार स्पष्ट करती है? 33ण् ऐल्कीनों के योगज बहुलकन में बेन्शाॅयल पराॅक्साइड की क्या भूमिका होती है? इसकी प्रवि्रफया को एक उदाहरण की सहायता से समझाइए। 34ण् नाइलाॅन जैसे बहुलक को कौन - से कारक वि्रफस्टलीय गुण प्रदान करते हैं? 35ण् लेमिनेटेड शीटों में प्रयुक्त होने वाले बहुलक का नाम लिख्िाए और इसके बनने में निहित एकलक इकाइयों का नाम लिख्िाए। 36ण् कौन - से जैव अणुओं की संरचना संश्लेष्िात पाॅलिएमाइडों से मिलती है। यह समानता क्या है? 37ण् मुक्तमूलक वि्रफयाविध्ि से योगज बहुलकन में प्रयुक्त होने वाले एकलक अत्यध्िक शु( क्यों होने चाहिए? प्टण् सुमेलन प्ररूप प्रश्न नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में काॅलम - प् एवं काॅलम - प्प् के मदों को सुमेलित कीजिए। 38ण् काॅलम प् में दिए गए बहुलकों को काॅलम प्प् में दिए गए सही एकलक से सुमेलित कीजिए। काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध उच्च घनत्व पाॅलिथीन ;ंद्ध आइसोप्रीन ;पपद्ध निओप्रीन ;इद्ध टेट्राफ्रलुओरोएथीन ;पपपद्ध प्रावृफतिक रबर ;बद्ध क्लोरोप्रीन ;पअद्ध टेफ्रलाॅन ;कद्ध ऐवि्रफलोनाइट्राइल ;अद्ध एवि्रफलन ;मद्ध एथीन 39ण् काॅलम प् में दिए गए बहुलकों को काॅलम प्प् में दिए गए उनके सही रासायनिक नामों से सुमेलित कीजिए। काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध नाइलाॅन 6 ;ंद्ध पाॅलिवाइनिलक्लोराइड ;पपद्ध च्टब् ;इद्ध पाॅलिऐवि्रफलोनाइट्राइल ;पपपद्ध ऐवि्रफलन ;बद्ध पाॅलिवैफप्रोलैक्टम ;पअद्ध प्रावृफतिक रबर ;कद्ध कम घनत्व पाॅलिथीन ;अद्ध स्क्च् ;मद्ध समपक्ष.पाॅलिआइसोप्रीन 40ण् काॅलम प् में दिए गए बहुलकों को काॅलम प्प् में दिए गए उनके सही व्यावसायिक नामों से सुमेलित कीजिए। काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध ग्लाइकाॅल एवं थैलिक अम्ल का पाॅलिएस्टर ;ंद्ध नोवोलेक ;पपद्ध 1ए 3.ब्यूटाडाइर्न और स्टाइरीन का सहबहुलक ;इद्ध ग्िलपटल ;पपपद्धप़्ाफीनाॅल और प़्ाफाॅमेर्ल्िडहाइड का रेिान ;बद्ध ब्यूना.ै ;पअद्ध ग्लाइकाॅल और टेरेथैलिक अम्ल का पाॅलिएस्टर ;कद्ध ब्यूना.छ ;अद्ध 1ए 3.ब्यूटाडाइर्न और ऐवि्रफलोनाइट्राइल का सहबहुलक ;मद्ध डेव्रफाॅन 41ण् काॅलम प् में दिए गए बहुलकों को काॅलम प्प् में दिए गए उनके सही उपयोगों से सुमेलित कीजिए। काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध बैकेलाइट ;ंद्ध न टूटने वाले चीनी मिट्टी के बतर्न ;पपद्ध कम घनत्व पाॅलिथीन ;इद्ध न चिपकने वाली सतह वाले भोजन पकाने के बतर्न ;पपपद्ध मेलैमीन - पफाॅमेर्ल्िडहाइड रेिान ;बद्ध झटके सह सकने वाला पैकेजिंग पदाथर् ;पअद्ध नाइलाॅन - 6 ;कद्ध वैद्युत् स्िवच ;अद्ध पाॅलिटेट्राफ्रलुओरोएथीन ;मद्ध दब सकने वाली बोतलें ;अपद्ध पाॅलिस्टाइरीन ;द्धि टायर, रस्िसयाँ 42ण् काॅलम प् में दिए गए बहुलकों को काॅलम प्प् में दिए गए बहुलकन वि्रफया से सुमेलित कीजिए। काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध नाइलाॅन.6ए6 ;ंद्ध मुक्त मूलक बहुलकन ;पपद्ध च्टब् ;इद्ध त्सीग्लर - नट्टा बहुलकन या उपसहसंयोजन बहुलकन ;पपपद्ध भ्क्च् ;बद्ध )णआयनी बहुलकन ;कद्ध संघनन बहुलकन 43ण् काॅलम प् में दिए गए बहुलकों को काॅलम प्प् में दिए गए आबंध्न के प्रकार से सुमेलित कीजिए। काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध टेरेलीन ;ंद्ध ग्लाइकोसाइडी बंध् ;पपद्ध नाइलाॅन ;इद्ध एस्टर बंध् ;पपपद्ध सेलुलोस ;बद्धप़्ाफाॅस्प़्ाफोडाइएस्टर बंध् ;पअद्ध प्रोटीन ;कद्ध ऐमाइड बंध् ;अद्ध त्छ। 44ण् काॅलम प् में दिए गए पदाथर् को काॅलम प्प् में दिए गए उसमें उपस्िथत बहुलक से सुमेलित कीजिए। काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध प्रावृफतिक रबर लैटेक्स ;ंद्ध नाइलाॅन ;पपद्ध काष्ठ लेमिनेट ;इद्ध निओप्रीन ;पपपद्ध रस्िसयाँ और रेशे ;बद्ध डेव्रफाॅन ;पअद्ध पाॅलिएस्टर कपड़ा ;कद्ध मेलैमीन - पफाॅमेर्ल्िडहाइड रेिान ;अद्ध संश्लेष्िात रबर ;मद्ध यूरिया - पफाॅमेर्ल्िडहाइड रेिान ;अपद्ध न टूटने वाली व्रफाॅकरी ;द्धि समपक्ष.पाॅलिआइसोप्रीन 45ण् काॅलम प् में दिए गए बहुलकों को काॅलम प्प् में दिए गए उनमें बार - बार आने वाली इकाइयों से सुमेलित कीजिए। काॅलम प् काॅलम प्प् ;पद्ध ऐवि्रफलन ;पद्ध ;पपद्ध पाॅलिस्टाइरीन ;पपद्ध ;पपपद्ध निओप्रीन ;पपपद्ध ;पअद्ध नोवोलेक ;पअद्ध ;अद्ध ब्यूनाकृछ ;अद्ध टण् अभ्िाकथन एवं तवर्फ प्ररूप प्रश्न नोट - निम्नलिख्िात प्रश्नों में अभ्िाकथन और तवर्फ के कथन दिए हैं। निम्नलिख्िात विकल्पों में से सहीउत्तर का चयन कीजिए। ;पद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों सही कथन हैं परन्तु तवर्फ अभ्िाकथन का सही स्पष्टीकरण नहीं है। ;पपद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों सही हैं और तवर्फ अभ्िाकथन का सही स्पष्टीकरण है। ;पपपद्ध अभ्िाकथन और तवर्फ दोनों ही गलत कथन हैं। ;पअद्ध अभ्िाकथन सही है परन्तु तवर्फ गलत कथन है। ;अद्ध अभ्िाकथन गलत है परन्तु तवर्फ सही कथन है। 46ण् अभ्िाकथन - रेआॅन आंश्िाक रूप से संश्लेष्िात बहुलक है और यह सूती कपड़े से अध्िकउत्तम चयन है। तवर्फ - सेलुलोस के यांत्रिाक गुण ऐसिटिलन द्वारा सुधरे जा सकते हैं। 47ण् अभ्िाकथन - अध्िकांश संश्लेष्िात बहुलक जैवनिम्ननीकरणीय नहीं हैं। तवर्फ - बहुलकन प्रवि्रफया काबर्निक अणुओं में विषैला गुण डाल देती है। 48ण् अभ्िाकथन - आॅलिपिफनिक एकलक योगज बहुलकन देते हैं। तवर्फ - वाइनिलक्लोराइड के बहुलकन का प्रारंभ पराॅक्साइड/परसल्पेफट द्वारा होता है। 49ण् अभ्िाकथन - उच्च तनन सामथ्यर् के कारण पाॅलिएमाइडों का उत्तम उपयोग रेशों के जैसा है। तवर्फ - प्रबल अंतराआण्िवक बल ;जैसे, पाॅलिएमाइडों में हाइड्रोजन आबंध्नद्ध शृंखलाओं का निविड़ संवुफलन करके वि्रफस्टलीय गुण बढ़ा देते हैं। इस प्रकार बहुलकों को उच्च तनन सामथ्यर् प्रदान करते हैं। 50ण् अभ्िाकथन - रबर को संश्लेष्िात करने के लिए आइसोप्रीन अणुओं का बहुलकन किया जाता है। तवर्फ - निओप्रीन ;क्लोरोप्रीन का एक बहुलकद्ध एक संश्लेष्िात रबर है। 51ण् अभ्िाकथन - जालक बहुलक तापदृढ़ होते हैं। तवर्फ - जालक बहुलकों का आण्िवक द्रव्यमान उच्च होता है। 52ण् अभ्िाकथन - पाॅलिटेट्राफ्रलुओरोएथेन को न चिपकने वाले बतर्न बनाने में उपयोग किया जाता है। तवर्फ - फ्रलुओरीन की विद्युत् )णात्मकता उच्चतम होती है। टप्ण् दीघर् उत्तर प्रश्न 53ण् संश्लेष्िात बहुलक लंबे समय तक वातावरण में निम्नीवृफत नहीं होते। जैवनिम्नीय संश्लेष्िात बहुलकों को किस प्रकार बनाया जा सकता है। जैवबहुलक और जैवनिम्ननीय बहुलकों में अन्तर बताइए और प्रत्येक का एक उदाहरण दीजिए। 54ण् अंतराआण्िवक बलों के आधर पर रबर और प्लास्िटक में अन्तर बताइए। 55ण् पफीनाॅल और पफाॅमेर्ल्िडहाइड संघनित होकर एक बहुलक ;़।द्ध देते हैं जो पफाॅमेर्ल्िडहाइड के साथ गरम करने पर तापदृढ़ बहुलक ;ठद्ध बनाता है। बहुलकों का नाम लिख्िाए। ष्।ष् के बनने में निहित अभ्िावि्रफयाएँ लिख्िाए। दोनों बहुलकों की संरचना में क्या अन्तर है? 56ण् अल्प घनत्व पाॅलिथीन और उच्च घनत्व पाॅलिथीन, दोनों ही एथीन के बहुलक हैं परन्तु उनके गुणों में बहुत अन्तर क्यों होता है इसे स्पष्ट कीजिए। 57ण् निम्नलिख्िात में से कौन - से बहुलक गरम करने से मुलायम पड़ जाते हैं और ठंडा करने से कड़े हो जाते हैं? ऐसे गुणों वाले बहुलकों को क्या नाम देते हैं? इन बहुलकों की संरचनाओं में क्या समानता होती है? बैकेलाइट, यूरिया - पफाॅमेर्ल्िडहाइड रेिान, पाॅलिथीन, पाॅलिवाइनिल, पाॅलिस्टाइरीन प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप - प्द्ध 1ण् ;पअद्ध 2ण्;पद्ध 3ण् ;पपद्ध 4ण् ;पअद्ध 5ण् ;पद्ध 6ण् ;पपपद्ध 7ण् ;पद्ध 8ण् ;पअद्ध प्प्ण् बहुविकल्प प्रश्न ;प्ररूप - प्प्द्ध 9ण् ;पपद्धए ;पपपद्ध 10ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 11ण् ;पद्धए ;पअद्ध 12ण् ;पपपद्धए ;पअद्ध 13ण् ;पपपद्धए ;पअद्ध 14ण् ;पद्धए ;पअद्ध 15ण् ;पद्धए ;पपद्ध 16ण् ;पद्धए ;पपपद्ध 17ण् ;पद्धए ;पअद्ध 18ण् ;पद्धए ;पपद्धए ;पअद्ध 19ण् ;पद्धए ;पअद्ध प्प्प्ण् लघु उत्तर प्रश्न 20ण् वल्कनीवृफत रबर। संरचना के लिए एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक देखें। 21ण् समबहुलक 22ण् सहबहुलक 23ण्शृंखला वृि बहुलकन 24ण् तियर्क - बंध्ित बहुलक 25ण् पाॅलिआइसोप्रीन/प्रावृफतिक रबर 26ण् रबर को उनकी प्रत्यास्थ प्रवृफति यानी बल लगाने पर ख्िांचना और दोबारा अपनी स्िथति वापस प्राप्त कर लेना, के कारण प्रत्यास्थ बहुलक कहते हैं। 27ण् एन्जाइम जैवउत्प्रेरक होते हैं और ये प्रोटीन होते हैं अतः ये बहुलक हैं। 28ण् संकेत - हाँ, पदवृि बहुलक संघनन बहुलक होते हैं और ये जल जैसे साधरण अणुओं के निकलने से बनते हैं, जिससे उच्च आण्िवक द्रव्यमान के बहुलक बनते हैं। 29ण् इस माध्यमिक के लिए प्रारंभ्िाक पदाथर् मेलैमीन और पफाॅमेर्ल्िडहाइड हैं। इसके बहुलकन से मेलैमीन बहुलक बनता है। 30ण् तियर्क बंध् समतलीय बहुलक शीटों को जोड़ते हैं इस प्रकार से उनके प्रत्यास्थ गुण बढ़ा देते हैं। 31ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक का पृष्ठ 448 देखें। 32ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक का पृष्ठ 444.445 देखें। 33ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक का पृष्ठ 443 देखें। 34ण् हाइड्रोजन आबंध्न जैसे प्रबल अंतराआण्िवक बल शृंखलाओं को निविड संवुफलित करके इन्हें वि्रफस्टलीय गुण प्रदान करते हैं। 35ण् यूरिया प़्ाफाॅमेल्िडहाइड रेिान। एकलक इकाइयाँ हैं यूरिया एवं पफाॅमेल्िडहाइड।़36ण् प्रोटीन। पाॅलिएमाइड और प्रोटीन दोनों में ही एमाइड बंध् होते हैं। 37ण् शु( एकलक इकाइयों की आवश्यकता इसलिए होती है क्योंकि लेशमात्रा अशुि भी संदमक की तरह कायर् कर सकती है जिससे लघु शृंखला वाले बहुलक बनते हैं। प्टण् सुमेलन प्ररूप प्रश्न 38ण् ;पद्ध→ ;मद्ध;पपद्ध→ ;बद्ध;पपपद्ध→;ंद्ध;पअद्ध→;इद्ध;अद्ध→ ;कद्ध 39ण् ;पद्ध→ ;बद्ध;पपद्ध → ;ंद्ध;पपपद्ध → ;इद्ध;पअद्ध → ;मद्ध;अद्ध→ ;कद्ध 40ण् ;पद्ध→ ;इद्ध;पपद्ध → ;बद्ध;पपपद्ध → ;ंद्ध;पअद्ध → ;मद्ध;अद्ध→ ;कद्ध 41ण् ;पद्ध→ ;कद्ध;पपद्ध → ;मद्ध;पपपद्ध → ;ंद्ध;पअद्ध → ;द्धि;अद्ध→ ;इद्ध ;अपद्ध→ ;बद्ध 42ण् ;पद्ध→ ;कद्ध;पपद्ध → ;ंद्ध;पपपद्ध → ;इद्ध 43ण् ;पद्ध→ ;इद्ध;पपद्ध → ;कद्ध;पपपद्ध → ;ंद्ध;पअद्ध → ;कद्ध;अद्ध → ;बद्ध 44ण् ;पद्ध→ ;द्धि;पपद्ध → ;मद्ध;पपपद्ध → ;ंद्ध;पअद्ध → ;बद्ध;अद्ध→ ;इद्ध ;अपद्ध→ ;कद्ध 45ण् ;पद्ध→ ;कद्ध;पपद्ध → ;ंद्ध;पपपद्ध → ;इद्ध;पअद्ध → ;मद्ध;अद्ध→ ;बद्ध टण् अभ्िाकथन एवं तवर्फ प्ररूप प्रश्न 46ण् ;पपद्ध 47ण् ;पअद्ध 48ण् ;पद्ध 49ण् ;पपद्ध 50ण् ;अद्ध 51ण् ;पद्ध 52ण् ;पद्ध टप्ण् दीघर् उत्तर प्रश्न 53ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक देखें। 54ण् एन.सी.इर्.आर.टी. की कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक देखें। 55ण् ष्।ष् नोवोलेक है और ष्ठष् बैकेलाइट। 56ण् संकेत - अल्प - घनत्व और उच्च - घनत्व पाॅलिथीन अलग अवस्थाओं में प्राप्त होते हैं। इनकी संरचनाओं में अन्तर होता है। अल्प - घनत्व की पाॅलिथीन अत्यध्िक शाख्िात संरचनाएँ होती हैं जबकि उच्च घनत्व की पाॅलिथीन रेखीय अणुओं के निविड संवुफलन से बनी होती हैं। निविड संवुफलन घनत्व बढ़ा देता है। 57ण् संकेत - पाॅलिथीन, पाॅलिवाइनिल और पाॅलिस्टाइरीन गरम करने से मुलायम पड़ जाते हैं और ठंडा करने पर कड़े हो जाते हैं। ऐसे बहुलकों को तापसुघट्य बहुलक कहते हैं। यह बहुलक रेखीय अथवा कम शाख्िात लम्बी शृंखला वाले अणु होते हैं। इनके अंतराआण्िवक बलांे की प्रबलता प्रत्यास्थ और रेशे वाले बहुलकों के अंतराआण्िवक बलों की प्रबलता के बीच की होती है।

RELOAD if chapter isn't visible.