कवि ने पक्षी और बादल को भगवान के डाकिये क्यों बताया है? स्पष्ट कीजिए।

कवि ने बादल और पक्षी को भगवान के डाकियों की संज्ञा दी है क्योंकि ये देशकाल की सीमा से बंधे नहीं होते साथ ही ये किसी भी आधार पर किसी से भी भेदभाव भी नहीं करते| ये भगवान के सन्देश को प्रकृति के प्रत्येक तत्व तक बिना किसी रोक-टोक के पहुंचाते हैं| इसी कारण से कवि ने पक्षी और बादल को भागवान का डाकिया काहा है|


6