हर तरह की सुख सुविधाएँ पाकर भी पक्षी पिंजरे में बंद क्यों नहीं रहना चाहते?

आजादी हर किसी को अच्छी लगती है फिर चाहे वह मनुष्य हो या फिर पशु-पक्षी। जैसे कोई भी मनुष्य घर की चार दीवारों के अंदर अपने आपको सुरक्षित महसूस करता है वैसे ही पशु-पक्षी खुले आसमान के नीचे अपने आप को सुरक्षित महसूस करते हैं। भले ही उन्हें पिंजरे में बिना किसी मेहनत के खाना-पानी मिलता है लेकिन वह अपने आप को बंधा हुआ महसूस करते हैं। इसी वजह से वह पिंजरे में बंद रहना नहीं चाहते।


3