बहुत दिन हुए / हमें अपने मन के छंद छुए। इस पंक्ति का अर्थ और क्या हो सकता है? नीचे दिए हुए वाक्यों की सहायता से सोचिए और अर्थ लिखिए-

() बहुत दिन हो गए, मन में उमंग नहीं आई।


() बहुत दिन हो गए, मन के भीतर कविता-सी कोई बात नहीं उठी, जिसमें छंद हो, लय हो।


() बहुत दिन हो गए, गाने-गुनगुनाने का मन नहीं हुआ।


() बहुत दिन हो गए, मन का दुख दूर नहीं हुआ और मन में खुशी आई।


बहुत दिन हो गए, मन का दुःख दूर नहीं हुआ और मन में खुशी आई|


2